Monday, September 27, 2021
Homeदेश-समाजराज्यों के उपयोग के लिए रेल मंत्रालय ने लगभग 64000 बेड और 4000 कोविड...

राज्यों के उपयोग के लिए रेल मंत्रालय ने लगभग 64000 बेड और 4000 कोविड केयर कोच उपलब्ध कराए

रेल मंत्रालय की एक विज्ञप्ति के अनुसार, लगभग 169 कोच पहले ही कोविड केयर के लिए विभिन्न राज्यों को सौंप दिए गए हैं। रेलवे को अब नागपुर से कोविड केयर की डिमांड हुई है, जहाँ लगभग 6000 नए कोरोना वायरस के मामले रोजाना सामने आ रहे हैं।

देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर से जूझ रहा है। इस संकट से निपटने के लिए कई मंत्रालय, निगम और संगठन एक साथ आए हैं। इस बीच रेल मंत्रालय की तरफ से लगभग 64,000 बेड और 4000 कोविड केयर कोच विभिन्न राज्यों के उपयोग के लिए उपलब्ध कराए गए हैं।

रेल मंत्रालय की एक विज्ञप्ति के अनुसार, लगभग 169 कोच पहले ही कोविड केयर के लिए विभिन्न राज्यों को सौंप दिए गए हैं। रेलवे को अब नागपुर से कोविड केयर की डिमांड हुई है, जहाँ लगभग 6000 नए कोरोना वायरस के मामले रोजाना सामने आ रहे हैं।

समझौते को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए मंडल रेल प्रबंधक, नागपुर और नागपुर नगर निगम के आयुक्त के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं। रेलवे 11 कोचों के साथ एक कोविड केयर रेक तैनात करने के लिए तैयार है, जिसमें प्रत्येक कोच में कम से कम 16 मरीजों को समायोजित करने की क्षमता वाले संशोधित स्लीपर्स शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, कोच में राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा प्रदान की जाने वाली सभी आवश्यक चिकित्सा बुनियादी सुविधाएँ उपलब्ध होंगी। महाराष्ट्र राज्य ने भी अजनी ICD क्षेत्र में अलगाव के कोच जुटाने की माँग रखी है।

नंदुरबार में अप्रैल के मध्य में लगभग 94 कोचों के साथ रेलवे कोविड केयर फैसिलिटी उपलब्ध कराई गई थी, जहाँ वर्तमान में 57 मरीजों के लिए सुविधा उपलब्ध है।

राज्यों की माँग के अनुसार, नागपुर, भोपाल, अजनी ICD, तिवारी (निकट इंदौर) में कोविड केयर कोच की भी व्यवस्था की गई है।

रेलवे कोविड केयर कोच डेटा (साभार: My Gov Twitter handle)

इंदौर के पास टिही में 20 कोविड केयर कोच में ऑक्सीजन सिलेंडरों से सुसज्जित लगभग 320 बिस्तरों की व्यवस्था भारतीय रेलवे द्वारा की गई है।

कोविड -19 उपचार की आवश्यकता वाले रोगियों के प्रबंधन के लिए दिल्ली की क्षमता को बढ़ाते हुए, रेलवे ने दिल्ली के सरकार की 75 कोविड केयर कोचों की माँग को पूरा किया है, जिसमें शकूरबस्ती में 50 कोच और आनंद विहार स्टेशनों पर 25 कोच लगाकर 1200 बेड की क्षमता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

‘टोटी चोर’ के बाद मार्केट में AC ‘चोर’, कन्हैया ‘क्रांति’ कुमार का कॉन्ग्रेसी अवतार

एक 'आंगनबाड़ी सेविका' का बेटा वातानुकूलित सुख ले! इससे अच्छे दिन क्या हो सकते हैं भला। लेकिन सुख लेने के चक्कर में कन्हैया कुमार ने AC ही उखाड़ लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe