Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाज'भारत हरा न हो, उसे भगवा बनाए रखने के प्रयास किए जाए': दिग्गज अभिनेता...

‘भारत हरा न हो, उसे भगवा बनाए रखने के प्रयास किए जाए’: दिग्गज अभिनेता विक्रम गोखले ने कंगना का किया समर्थन

“कंगना रनौत ने जो कहा, उससे मैं भी सहमत हूँ कि हमें 2014 में असली आजादी मिली थी।”

मराठी और हिंदी फिल्मों के दिग्गज अभिनेता विक्रम गोखले ने अभिनेत्री कंगना रनौत के ‘भीख में आजादी’ वाले बयान का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि कंगना रनौत ने जो कहा वह उससे सहमत हैं। विक्रम गोखले महाराष्ट्र के पुणे में एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुँचे थे। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि भारत को कभी भी ‘हरा’ नहीं होना चाहिए और इसे ‘भगवा’ बनाए रखने के प्रयास किए जाने चाहिए।

विक्रम गोखले ने कहा, “कंगना रनौत ने जो कहा मैं उससे सहमत हूँ। हमें भीख में आजादी मिली। यह दिया गया था। बहुत से स्वतंत्रता सेनानी जिन्हें फाँसी दी गई थी, बड़े-बड़े लोगों ने उन्हें बचाने की कोशिश नहीं की। वे मूकदर्शक बने रहे।” गोखले ने बाद में इंडियन एक्सप्रेस से भी कहा, “कंगना रनौत ने जो कहा, उससे मैं भी सहमत हूँ कि हमें 2014 में असली आजादी मिली थी।”

हालाँकि गोखले ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अंधभक्त नहीं हैं। उन्होंने कहा, “जब पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह चुनाव प्रचार पर जाते हैं, तो मैं उनकी बातों से सहमत नहीं होता। लेकिन हाँ, जब वे राष्ट्रहित में काम करते हैं, जैसे कि जिस तरह से उन्होंने चीन को बैकफुट पर पहुँचा दिया है, तो मैं उनका समर्थन करता हूँ।”

वहीं कॉन्ग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण द्वारा कंगना का समर्थन करने पर बीजेपी ज्वाइन कर लेने की सलाह पर गोखले ने कहा कि ये उनके निजी विचार हैं, इससे किसी राजनीतिक पार्टी का कोई सरोकार नहीं है। सभी पार्टियाँ एक जैसी हैं।

बता दें कि कंगना रनौत पिछले दिनों एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में पहुँची थीं जहाँ उन्होंने 1947 में मिली आजादी को ‘भीख’ बताया था। उनका मानना था कि देश में असली आजादी 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद आई है। गोखले ने कंगना के इसी बात का समर्थन किया है।

महाराष्ट्र की राजनीति पर विक्रम गोखले ने कहा, “भाजपा और शिवसेना को एक साथ आना चाहिए। मैंने बीजेपी नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से मुख्यमंत्री पद साझा करने की शर्तों पर दोनों पार्टियों के बीच संभावित गठबंधन पर सवाल भी पूछा था। दोनों पार्टियों को लोगों का विश्वास जीतने की कोशिश करनी चाहिए। मुझे लगता है कि राजनीतिक पार्टियों को लोगों को धोखा नहीं देना चाहिए क्योंकि लोग उन्हें सजा दे सकते हैं।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe