Monday, January 24, 2022
Homeदेश-समाजपुलिस ने हथकड़ी लगाई, आयरन रॉड से पीटा: डीएमके MLA के खिलाफ पोस्ट करने...

पुलिस ने हथकड़ी लगाई, आयरन रॉड से पीटा: डीएमके MLA के खिलाफ पोस्ट करने वाला युवक

वीडियो में मणिकंदन ने राधाकृष्णन पर अक्सर अपने समुदाय के लोगों का पक्ष लेने का आरोप लगाया है। जैसे ही उनका वीडियो वायरल हुआ उसके ठीक कुछ समय बाद ही उन्हें और उनके घर वालों को नादर समुदाय के लोगों से धमकियाँ मिलने लगी थी।

तमिलनाडु के तूतीकोरिन में पी जयराज (59) और उनके बेटे जे फेनिक्स के साथ पुलिस बर्बरता के बाद एक और मामला सामने आया है। इस घटना में भी पुलिस की भूमिका संदिग्ध और संवेदनहीन नज़र आई है।

32 साल के युवक ने पुलिस पर आयरन रॉड से पीटने का आरोप लगाया है। घटना के लगभग एक महीने बाद युवक ने शिकायत दर्ज कराई है। इस दौरान वह अस्पताल में भर्ती था क्योंकि उसके पूरे शरीर में कई फ्रैक्चर हैं। 

तूतूकड़ी के तिरुचेंदूर में रहने वाले होटल मैनेजर एस मणिकंदन केरल के गुरुवायूर में काम करते हैं। जून की शुरुआत में पुलिस उन्हें गुरुवायूर से उठा कर 500 किलोमीटर दूर तिरुचेंदूर लेकर आई। मणिकंदन का कहना है कि जनवरी में उन्होंने डीएमके विधायक अनिता आर राधाकृष्णन के विरोध में एक वीडियो बना कर फेसबुक पर साझा किया था। इसके चलते उन्हें पुलिस की बर्बरता का सामना करना पड़ा।  

दरअसल मद्रास उच्च न्यायालय ने पुलिस की बर्बरता के कारण पी जयराज और जे फेनिक्स की मृत्यु होने के बाद तमिलनाडु में हुए विरोध-प्रदर्शन के बाद जिला न्यायाधीश को आदेश दिया था कि वह ऐसे मामलों पर निगाह रखें। न्यायाधीश के पास मामले की सूचना आने के बाद मणिकंदन को भर्ती कराया गया था।   

इसके पहले मणिकंदन को पी सरवनन के सामने पेश किया गया था, वह मजिस्ट्रेट जिनकी भूमिका पर जयराज और फेनिक्स के मामले में काफी सवाल उठे थे। मणिकंदन पर लगाए गए आरोपों के मुताबिक़ उसने अपने वीडियो में नादर समुदाय के बारे में कुछ बातें कही थीं, जिस समुदाय से डीएमके विधायक राधाकृष्णन आती हैं। तूतूकड़ी के नए पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मणिकंदन को पूरी सुरक्षा दी जाएगी।

मामले से जुड़ी अब तक की जानकारी के मुताबिक़ जिस तरह मणिकंदन के साथ निर्दयता करके उसे गुरुवायूर से लाया गया, उससे अदालत भी हैरान है। अगर कार्यवाही करने वालों के पास वारंट था तो उन्हें स्थानीय पुलिस की मदद लेनी चाहिए थी।

वीडियो में मणिकंदन ने राधाकृष्णन पर अक्सर अपने समुदाय के लोगों का पक्ष लेने का आरोप लगाया है। जैसे ही उनका वीडियो वायरल हुआ उसके ठीक कुछ समय बाद ही उन्हें और उनके घर वालों को नादर समुदाय के लोगों से धमकियाँ मिलने लगी थी।  

इतना ही नहीं 6 जून को पुलिस ने मणिकंदन के पिता (पेशे से पोस्टमास्टर) और उनके भाई को भी तलब किया। 7 जून को गुरुवायूर स्थित उनके घर पर कई लोग मौजूद थे, जिन्होंने खुद को तिरुचेंदूर में कार्यरत पुलिसकर्मी बताया था। इसके बाद उन सभी लोगों ने मणिकंदन को हथकड़ी लगाई और तिरुचेंदूर ले गएl तूतूकड़ी के नज़दीक आते ही उनके साथ मारपीट और ज़्यादती शुरू हो गई थीl 

वहाँ उनके पिता और भाई पहले से ही मौजूद थे, उन्हें मणिकंदन से बात नहीं करने दिया गया। 8 जून को मणिकंदन को बताया गया कि तिरुचेंदूर के पुलिस उपाधीक्षक पूछताछ करेंगे। इसके बाद उसे पुलिस थाने के पहले तल पर ले जाया गया और खूब पीटा गया।

मणिकंदन द्वारा की गई शिकायत के अनुसार सुबह के 3 बजे तक पुलिस वाले उसे पीटते रहे, इस दौरान दो डंडे  तक टूट गए, डंडे टूटने के बाद प्लास्टिक की पाइप से पीटने लगे। इस दौरान मणिकंदन के पैर के अंगूठे भी टूट गएl 

9 जून की शाम 5:30 बजे पुलिस ने उसका हाथ खिड़की से बाँध दिया और लोहे की रॉड से पीटने लगे। पुलिस की ऐसी बर्बरता तब तक जारी रही जब तक मणिकंदन बेहोश नहीं हो गया। इसके बाद पुलिस ने मणिकंदन को इस बारे में किसी से बात न करें की धमकी भी दी। इसके बाद तिरुचेंदूर पुलिस स्टेशन के इन्स्पेक्टर मुथूरमण और उनके सह कर्मियों ने मणिकंदन को मजिस्ट्रेट सर्वनन के सामने पेश किया। जहां मणिकंदन ने यह कहा कि उसे यह चोटें गिरने की वजह से आई हैं और फिर उसे तूतूकड़ी की पेरूरानी जेल में डाल दिया गयाl अपनी शिकायत में मणिकंदन का यह भी कहना है कि उसे जमानत पर बाहर आने के बाद पुलिस वालों से ख़तरा है।   

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हिजाब के लिए प्रदर्शन के बाद अब सरकारी स्कूल की क्लास में ही नमाज: हिन्दू संगठनों ने किया विरोध, डीएम ने तलब की रिपोर्ट

कर्नाटक के कोलार स्थित सरकारी स्कूल में मुस्लिम छात्रों के नमाज मामले में प्रिंसिपल का कहना है कि उन्होंने कोई भी इजाजत नहीं दी थी।

उधर ठंड से मर रहे थे बच्चे, इधर सपा सरकार ने सैफई पर उड़ा दिए ₹334 Cr: नाचते थे सलमान, मुलायम सिंह के पाँव...

एक बार तो 15 दिन के 'सैफई महोत्सव' में 334 करोड़ रुपए फूँक डाले गए। एक साल दंगा पीड़ित बेहाल रहे और इधर बॉलीवुड का नाच-गान होता रहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,149FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe