Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजबकरीद पर न दें गाय की कुर्बानी, तेलंगाना के मंत्री के बाद यूनाइटेड मुस्लिम...

बकरीद पर न दें गाय की कुर्बानी, तेलंगाना के मंत्री के बाद यूनाइटेड मुस्लिम फोरम ने भी की अपील

यूनाइटेड मुस्लिम फोरम ने गौ रक्षकों पर अंकुश लगाने की माँग करते हुए कहा है कि भारतीय कानून के हिसाब से भेड़, बकरी एवं अन्य पशुओं की कुर्बानी जायज है।

विभिन्न मुस्लिम संगठनों के संघ ‘यूनाइटेड मुस्लिम फोरम’ ने बकरीद पर गाय की कुर्बानी नहीं देने की अपील की है। ईद-उल-अजहा जो बकरीद के नाम से भी जाना जाता है 12 अगस्त को है। इससे पहले तेलंगाना के मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने भी इसी तरह की अपील अपने समुदाय के लोगों से की थी।

रिपोर्टों के मुताबिक यूनाइटेड मुस्लिम फोरम ने कहा है कि भारतीय कानून के हिसाब से भेड़, बकरी एवं अन्य पशुओं की कुर्बानी जायज है।

फोरम ने अलग-अलग समुदायों के बीच किसी भी तरह के तनाव, भीड़ हत्या (लिचिंग) और जन-हानि को रोकने के लिए राज्य सरकार से ‘गौ रक्षकों’ पर अंकुश लगाने के लिए वाजिब कदम उठाने की भी माँग की है। उन्होंने कहा नागरिकों की जान एवं संपत्ति की सुरक्षा के लिए राज्य एवं केंद्र सरकार को कानून बनाने चाहिए। मुस्लिम संघ ने कहा है कि सभी त्योहार शांति और एकता के साथ मनाए जाने चाहिए।

गौरतलब है इससे पहले तेलंगाना के मंत्री मोहम्मद महमूद अली ने भी अपने समुदाय के लोगों से बकरीद पर गाय की कुर्बानी नहीं देने की अपील की थी। अली ने कहा था कि हिन्दू धर्म में गाय सम्मानित है और उसकी पूजा की जाती है। उन्होंने कहा था कि मुस्लिम भाई गाय की कुर्बानी देने से परहेज करें, इसके अलावा वे अन्य जानवरों की कुर्बानी दे सकते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,163FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe