Saturday, January 22, 2022
Homeदेश-समाजतबरेज से फोन पर तलाक-तलाक-तलाक सुनने के बाद इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही...

तबरेज से फोन पर तलाक-तलाक-तलाक सुनने के बाद इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही है नाजनीन

नाजनीन का कहना है कि उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था, जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस से भी की थी। पुलिस ने उस दौरान पीड़िता की शिकायत पर दहेज प्रताड़ना का केस भी दर्ज किया था।

मोदी सरकार ने अपने वादे के मुताबिक गुरुवार (जुलाई 25, 2019) को लोकसभा में तीन तलाक कानून पास करवाया। लेकिन इसी बीच खबर आई कि मध्यप्रदेश के होशंगाबाद में एक मुस्लिम महिला अपने पति तबरेज द्वारा तीन तलाक दिए जाने के बाद इंसाफ़ की गुहार लगाती दर-दर भटक रही है।

आजतक में प्रकाशित जानकारी के मुताबिक साल 2019 की शुरुआत में ही होशंगाबाद निवासी नाजनीन की शादी इटारसी निवासी तबरेज से हुई थी, लेकिन निकाह के कुछ दिन बाद ही दोनों में कहा-सुनी शुरू हुई और 24 जून को तबरेज ने नाजनीन को फोन पर तलाक दे दिया। इसके बाद तबरेज ने अपने वकील के जरिए नाजनीन को डाक से एक नोटिस भिजवाया, जिसमें तीन तलाक का जिक्र था।

खबर के मुताबिक नाजनीन का कहना है कि उन्हें दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता था, जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस से भी की थी। पुलिस ने उस दौरान पीड़िता की शिकायत पर दहेज प्रताड़ना का केस भी दर्ज किया था। लेकिन अब नाजनीन ने तीन तलाक को लेकर अपनी शिकायत लिखवाई है।

बताया जा रहा है कि अभी तक इस शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। पीड़िता इंसाफ़ के लिए दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर हैं। उनका कहना है कि उनकी शिकायत पर पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उनके मुताबिक उनके मामले को दहेज प्रताड़ना में दर्ज किया गया है जबकि अब कार्रवाई तीन तलाक पर होनी चाहिए।

इस मामले में होशंगाबाद के एडिशनल एसपी घनश्याम मालवीय का खुद भी कहना है कि नाजनीन की शिकायत पर दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज किया गया है, जिसकी जाँच चल रही है। लेकिन तीन तलाक पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डिजिटल इंडिया से आई मौन क्रांति, संसाधन-मशीनरी और अधिकारी वही… मिला बेहतर रिजल्ट: जिलाधिकारियों से मीटिंग में बोले पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि डिजिटल इंडिया से देश में एक मौन क्रांति आई है। इसमें कोई भी जिला पीछे न रहे, इसके लिए लिस्ट बनी है।

केस ढोते-ढोते पिता भी चल बसे, माँ रहती हैं बीमार : दिल्ली दंगों में पहली सज़ा दिनेश यादव को, गरीब परिवार ने कहा –...

दिल्ली हिन्दू विरोधी दंगों में दिनेश यादव की गिरफ्तारी के बाद उनके पिता की मौत हो गई थी। पुलिस पर लगा रिश्वत न देने पर फँसाने का आरोप।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,757FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe