Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजUP में भीषण गर्मी में दिमाग की नस फटने के कारण बस यात्री की...

UP में भीषण गर्मी में दिमाग की नस फटने के कारण बस यात्री की मौत

नदरई के पास बस में उनकी हालत बिगड़ गई और बस परिचालक ने उन्हें नदरई चौकी के पास उतार दिया। इसके बाद शिवराज बेहोश हो गए। मृतक शिवराज के बेटे ने पुलिस को सूचना दी।

कासगंज में भीषण गर्मी अब जानलेवा साबित हो रही है। शुक्रवार (मई 31, 2019) दोपहर को गर्मी के कारण एक व्यक्ति की मौत हो गई। वो बस में सवार होकर एटा से कासगंज आ रहे थे। चिकित्सक ने मौत की वजह गर्मी के कारण दिमाग की नस फटना बताया है।

ये घटना गाँव जनियापुर की है, जहाँ 55 साल के शिवराज (कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में मृतक का नाम सोबरन भी बताया जा रहा है) अपने 8 साल के बेटे मंगल के साथ कासगंज जा रहे थे। नदरई के पास बस में उनकी हालत बिगड़ गई और बस परिचालक ने उन्हें नदरई चौकी के पास उतार दिया। इसके बाद शिवराज बेहोश हो गए। मृतक शिवराज के बेटे ने पुलिस को सूचना दी। इस पर चौकी इंचार्ज अवनीश कुमार बेहोश शिवराज को जिला अस्पताल लेकर गए, जहाँ डॉक्टरोंं ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर लव कुमार ने बताया कि गर्मी के कारण दिमाग की नस फटने से उनकी मौत हुई है।

मृतक शिवराज के परिवार में सिर्फ उनका 8 वर्षीय बेटा मंगल रह गया है, उसके अलावा और कोई नहीं है। दोपहर बाद रिश्तेदार उनका शव ले गए। पूरे उत्तर भारत के साथ ही कासगंज समेत पूरे ब्रज में प्रचंड गर्मी का प्रकोप है। दोपहर के समय आसमान से आग बरस रही है और लू के थपड़े चल रहे हैं। शुक्रवार दोपहर को अधिकतम तापमान 43 डिग्री से अधिक दर्ज किया गया।

कैसे करें बचाव

गर्मी में खूब पानी पिएँ, तरल पदार्थों का सेवन करें। बहुत जरूरी न हो तो सुबह 10 से शाम चार बजे तक बाहर निकलने से बचें। यदि बाहर निकलना जरूरी हो तो सिर पर अंगोछा डाल लें और सूती कपड़े पहनें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe