Sunday, May 22, 2022
Homeदेश-समाज'खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा दर्द कम करते हैं सिख': हरभजन सिंह का आतंकी...

‘खालिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा दर्द कम करते हैं सिख’: हरभजन सिंह का आतंकी भिंडरावाले को ‘प्रणाम’

"यह सिखों पर गहरा घाव है, जो साल भर दर्द देता है। बरसी पर हम 'खालिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगाकर इस दर्द को कम करते हैं। इसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। यह हमेशा के लिए हमारी स्मृति का हिस्सा रहेगा।"

ऑपरेशन ब्लू स्टार की 37वीं बरसी पर खालिस्तानी आतंकी जरनैल सिंह भिंडरावाले का महिमामंडन करने की वजह से पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह निशाने पर हैं। इस मौके पर रविवार (जून 6, 2021) को अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में भिंडरावाले के पोस्टर और खालिस्तानी झंडे दिखने का कार्यवाहक जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने बचाव किया है। उनका कहा है कि ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगा सिख अपना दर्द कम करते हैं।

पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह ने रविवार को खालिस्तानी आतंकी जरनैल सिंह भिंडरावाले को उसकी बरसी पर प्रणाम किया। अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर हरभजन ने भिंडरावाले को एक शहीद बताया। साथ ही उसकी तस्वीर साझा कर, ‘प्रणाम शहीदा नू’ लिखा।

हरभजन सिंह ने किया जरनैल सिंह भिंडरावाले का महिमामंडन

हरभजन की इंस्टा स्टोरी पर शेयर किए गए पोस्टर में लिखा है, “शान से जियो और धर्म के लिए मरो।” उन्होंने एक आतंकी को ऐसे श्रद्धांजलि दी जैसे वह कोई हीरो हो। उनकी इस हरकत के बाद वह ट्विटर पर ट्रेंड होने लगे और लोग उनसे सवाल करने लगे कि जिस भिंडरावाले ने तमाम हिंदुओं को मारा क्या वह शहीद है। तस्वीर में भी देख सकते हैं कि भिंडरावाले एकदम हीरो की तरह सेंटर में नीली पगड़ी में है।

खालिस्तान जिंदाबाद के नारे

बता दें कि अमृतसर के श्री हरमिंदर साहिब में एक कार्यक्रम के दौरान खालिस्तानी झंडे देखे गए थे। खालिस्तानी समर्थक दल ‘दल खालसा’ ने 6 जून को खालिस्तान दिवस के रूप में चिह्नित कर परिसर में मार्च निकाला था। कार्यवाहक जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने खालिस्तानी नारों का समर्थन किया है।

उन्होंने कहा, “यह सिखों पर गहरा घाव है, जो साल भर दर्द देता है। बरसी पर हम ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाकर इस दर्द को कम करते हैं। इसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। यह हमेशा के लिए हमारी स्मृति का हिस्सा रहेगा।” उन्होंने 1984 के ऑपरेशन को लेकर कहा कि भारतीय सेना ने अकाल तख्त पर ऐसे हमला किया जैसे चीन या पाकिस्तान पर युद्ध के दौरान करते हैं।

मालूम हो कि पिछले साल भारतीय-कनाडाई पंजाबी गायक जसविंदर सिंह (Jazzy B) ने अपने नए गाने में खालिस्तान का समर्थन किया था। 6 जून 2020 को रिलीज किए गए “Putt Sardara De”  के जरिए उसने ऑपरेशन ब्लू स्टार में मारे गए जरनैल सिंह भिंडरावाले का महिमामंडन भी किया था।

ऑपरेशन ब्लू स्टार

ऑपरेशन ब्लू स्टार को जून 1 से जून 8, 1984 में अमृतसर के गोल्डन टेंपल में अंजाम दिया गया था। भारतीय सेना के लिए ये मिशन अब तक का सबसे बड़ा आंतरिक सुरक्षा मिशन था। इसके लिए भारत की तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गाँधी ने आदेश दिए थे ताकि पंजाब में कानून-व्यवस्था बरकरार रह सके।

ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान खालिस्तान समर्थकों ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर स्थित अकाल तख्त परिसर को अपने कब्जे में ले लिया था। इसमें 83 आर्मी जवान और 492 नागरिक हताहत हुए थे। ऑपरेशन के खत्म होने के कुछ समय बाद 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गाँधी की हत्या कर दी गई थी। फिर बड़े पैमाने पर सिखों का नरसंहार हुआ था जिसे भड़काने में कॉन्ग्रेस नेताओं का नाम सामने आया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ज्ञानवापी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं, हनुमान जी की भी मूर्ति: अमेरिका के म्यूजियम में 154 साल पुरानी तस्वीर, नंदी भी विराजमान

ज्ञानवापी विवादित ढाँचे को लेकर जारी विवाद के बीच सामने आई तस्वीर में हनुमान जी के मिलने से हिन्दू पक्ष का दावा और मजबूत हो गया है।

नौगाँव थाने में आग लगाने वाले 5 आरोपितों के घरों पर चला असम सरकार का बुलडोजर: शराबी शफीकुल की मौत पर 2000 कट्टरपंथियों ने...

असम में एक व्यक्ति की मौत के शक में थाने को जलाने के 5 आरोपितों के घरों को प्रशासन ने बुलडोजर से ढहा दिया है। तीन को गिरफ्तार भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,078FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe