Thursday, January 27, 2022
Homeदेश-समाजAMU: अपराधियों को हॉस्टल से निकालने के लिए मॉंगे जवान, हमजा और हुफैजा को...

AMU: अपराधियों को हॉस्टल से निकालने के लिए मॉंगे जवान, हमजा और हुफैजा को जेल

छात्रों की धमकी के मद्देनजर वीसी तारिक़ मंसूर ने अलीगढ़ के डीएम सीबी सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि हालात को बेकाबू होने से रोकने लिए यूनिवर्सिटी में पुलिस बल की तैनाती की जाए।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (AMU) ने छात्रावासों में जमे अपराधियों की धर-पकड़ के लिए जिला प्रशासन से पुलिस बल मुहैया कराने को कहा है। बुधवार शाम हुए हंगामे को देखते हुए परिसर के भीतर आरएएफ तैनाती की भी मॉंग की गई है।

अलीगढ़ के पुलिस अधीक्षक (सिटी) अभिषेक के हवाले से टाइम्स ऑफ इंडिया ने बताया है कि बवाल काटने, सीसीटीवी कैमरों को नुकसान पहुॅंचाने और वीसी की गाड़ी रोकने के मामले में गुरुवार को 4 छात्रों को गिरफ्तार किया गया। इनमें छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सलमान इम्तियाज, पूर्व सचिव हुफैजा आमिर, पूर्व उपाध्यक्ष हमजा सूफियान और मोइनुद्दीन शामिल हैं।

आमिर और सुफियान को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है। आमिर पहले से ही निलंबित है जबकि सूफियान को विश्वविद्यालय ने पॉंच साल के लिए निष्कासित कर रखा है। एसटीएस स्कूल के दस छात्रों को भी प्रशासनिक ब्लॉक में हंगामा करने पर निलंबित किया गया है।

छात्रों की धमकी के मद्देनजर वीसी तारिक़ मंसूर ने अलीगढ़ के डीएम सीबी सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि हालात को बेकाबू होने से रोकने लिए यूनिवर्सिटी में पुलिस बल की तैनाती की जाए। यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार अब्दुल हामिद ने भी छात्रावासों में सर्च ऑपरेशन चलाने के लिए जिला प्रशासन को पत्र लिखकर पुलिस बल मुहैया कराने का कहा है। पत्र में कहा गया है कि इससे हॉस्टल में छिपे अपराधियों को पकड़ने में मदद मिलेगी।

प्रशासनिक ब्लॉक में बुधवार शाम को हुए हंगामे का हवाला देते हुए रजिस्ट्रार ने कहा है कि छात्रों का इरादा वीसी पर हमला करना था। लेकिन, वे उस वक्त अपने दफ्तर में नहीं थे। अधिकारियों के मुताबिक बुधवार शाम को हंगामा करने वाले कुछ छात्र हथियारबंद भी थे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘योगी जैसा मुख्यमंत्री मुलायम सिंह और अखिलेश भी नहीं रहे’: सपा के खिलाफ प्रचार पर बोलीं अपर्णा यादव- ‘पार्टी जो कहेगी करूँगी’

अपर्णा यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए कहा कि उन्हें मेरा समाजसेवा का काम दिखा था, जबकि अखिलेश यह नहीं देख पाए।

धर्मांतरण के दबाव से मर गई लावण्या, अब पर्दा डाल रही मीडिया: न्यूज मिनट ने पूछा- केवल एक वीडियो में ही कन्वर्जन की बात...

लावण्या की आत्महत्या पर द न्यूज मिनट कहता है कि वॉर्डन ने अधिक काम दे दिया था, जिससे लावण्या पढ़ाई में पिछड़ गई थी और उसने ऐसा किया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,876FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe