Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजदिल्ली के मौजपुर में CAA समर्थक और विरोधी आमने-सामने, पत्थरबाजी के बाद स्थिति तनावपूर्ण

दिल्ली के मौजपुर में CAA समर्थक और विरोधी आमने-सामने, पत्थरबाजी के बाद स्थिति तनावपूर्ण

एक तरफ सीएए के खिलाफ विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी सीएए से आज़ादी की माँग कर रहे थे, तो दूसरी ओर सीएए समर्थक उन्हें आज़ादी देने के नारे लगा रहे थे। घंटो तक दोनों ओर से पत्थरबाजी होती रही।

दिल्ली के जाफराबाद में सीएए के खिलाफ चल रहा विरोध प्रदर्शन उस समय हिंसक हो गया जब सामने से सीएए के समर्थक आ गए। देखते ही देखते दोनों ओर से जमकर पत्थरबाजी होने लगी। अभी तक दिल्ली पुलिस हालातों पर काबू नहीं कर सकी है। वहीं, तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए DMRC ने कई मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया है।

दिल्‍ली के जाफराबाद मेट्रो स्‍टेशन के पास शनिवार (फरवरी 22, 2020) रात से ही प्रदर्शनकारी बड़ी संख्‍या में एकत्र होने लगे थे, जो कि लगातार सीएए के विरोध में प्रदर्शन करने लगे। इसके बाद रविवार की सुबह बड़ी संख्या में मौके पर पहुँची महिलाओं ने सड़क को जाम कर दिया। इसी बीच स्थित तब तनावपूर्ण हो गई कि जब मौजपुर में सीएए के समर्थन में सड़कों पर पहुँचकर लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी और कुछ ही देर में दोनों और से पत्थरबाजी शुरू हो गई। इसके बाद पुलिस को आँसू गैस के गोले दागने पड़े, लेकिन इसके बाद भी घंटों तक पुलिस हालात पर नियंत्रण पाने में नाकाम रही।

रिपोर्ट्स के अनुसार, एक तरफ सीएए के खिलाफ विरोध कर रहे प्रदर्शनकारी सीएए से आज़ादी की माँग कर रहे थे, तो दूसरी ओर सीएए समर्थक उन्हें आज़ादी देने के नारे लगा रहे थे। घंटो तक दोनों ओर से पत्थरबाजी होती रही।

दरअसल, रविवार सुबह को ही बड़ी संख्या में जाफराबाद मेट्रो स्टेशन क्षेत्र में एकत्र होकर नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। साथ ही प्रदशर्नकारियों ने यमुना पार की चार सड़के भी बंद कर दी। दरअसल प्रदर्शनकारी महिलाएँ शाहीन बाग की तरह ही रोड़ पर मंच स्थापित करना चाहती थीं, लेकिन मौके पर तैनात भारी पुलिस फोर्स ने इसे नाकाम कर दिया और किसी तरह मौजपुर से सीलमपुर जाने वाला मार्ग को खुलवाया। दूसरा मार्ग अभी भी बंद है।

हालाँकि, अभी भी करीब 500 मीटर की दूरी पर दोनों ही प्रदर्शनकारी अपनी-अपनी माँगे लेकर नारे लगा रहे हैं। मौकेे पर भारी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,820FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe