Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजमनसुख हिरेन की मौत की गुत्थी सुलझाने का महाराष्ट्र ATS ने किया दावा: दो...

मनसुख हिरेन की मौत की गुत्थी सुलझाने का महाराष्ट्र ATS ने किया दावा: दो गिरफ्तार, कल ही गृह मंत्रालय NIA को सौंपी थी कमान

महाराष्ट्र ATS के एक अधिकारी ने जानकारी दिया कि शनिवार देर रात को एक पुलिसकर्मी विनायक शिंदे और एक सटोरिये नरेश धारे की गिरफ़्तारी हुई है। महाराष्ट्र ATS के DIG शिवदीप लांडे ने अपने फेसबुक पोस्ट में भी मनसुख हिरेन की हत्या की गुत्थी को सुलझाने का दावा करते हुए अपनी टीम के सभी साथियों को सैल्यूट किया।

मनसुख हिरेन के मौत का मामला NIA को सौपें जाने के ठीक एक दिन बाद ही महाराष्ट्र एटीएस के DIG शिवदीप लांडे ने रविवार (मार्च 21, 2021) को दावा किया कि मनसुख हिरेन की मौत का मामला सुलझा लिया गया है। उन्होंने बिना कोई खास डिटेल दिए बताया कि मनसुख हिरेन की मौत के मामले में मुम्बई पुलिस के कांस्टेबल विनायक शिंदे और नरेश धारे समेत एक बुकी को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि हिरेन की मौत के मामले में दो आरोपितों को रविवार को अदालत में पेश किया गया। जिसके बाद कोर्ट ने इन दोनों को 30 मार्च तक एटीएस की कस्टडी में भेज दिया है।

गौरतलब है कि मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर मिली विस्फोटक से लदी स्कॉर्पियो के बाद उसके मालिक हिरेन मनसुख की मौत की गुत्थी सुलझाने का दावा आज महाराष्ट्र ATS द्वारा किया गया। इससे पहले, एटीएस ने दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र ATS के एक अधिकारी ने जानकारी दिया कि शनिवार देर रात को एक पुलिसकर्मी विनायक शिंदे और एक सटोरिये नरेश धारे की गिरफ़्तारी हुई है। महाराष्ट्र ATS के DIG शिवदीप लांडे ने अपने फेसबुक पोस्ट में भी मनसुख हिरेन की हत्या की गुत्थी को सुलझाने का दावा करते हुए अपनी टीम के सभी साथियों को सैल्यूट किया।

महाराष्ट्र ATS DIG शिवदीप लांडे की फेसबुक पोस्ट

हिन्दुस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारी ने बताया था कि मामले के संबंध में पूछताछ के लिए दोनों आरोपितों को शनिवार को एटीएस मुख्यालय में लाया गया था और बाद में उन्हें वहीं गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि शिंदे, लखन भैया फर्जी मुठभेड़ मामले में दोषी है और पिछले साल ही वह कुछ दिनों के लिए फरलो पर जेल से बाहर आया था। गौरतलब है कि यह गिरफ्तारी उस दिन की गई जब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हिरेन की मौत के मामले की जाँच एनआईए को सौंप दी थी। तब तक इस मामले की जाँच महाराष्ट्र एटीएस ही कर रही थी।

अधिकारी ने कहा, “राज्य एटीएस ने अब तक कई लोगों से इस मामले में पूछताछ की है जिनमें मृतक के परिजन और पुलिस अधिकारी शामिल हैं। इन दोनों की गिरफ्तारी इस मामले में मिली बड़ी कामयाबी है।” बता दें कि एनआईए, एंटीलिया के बाहर पाए गए विस्फोटकों से लदी कार और सचिन वाजे प्रकरण की जाँच पहले से ही कर रही और ATS के खुलासे से एक दिन पहले ही मनसुख हिरेन की हत्या का मामला भी NIA को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सौंप दिया था।

मनसुख हिरेन की संदिग्ध मौत पर शुरू से ही काफी सवाल उठ रहे हैं। इन सवालों की जद में सचिन वाजे भी हैं, जिन्हें बीते दिनों मुंबई क्राइम ब्रांच से हटा दिया गया था और बाद में फिर निलंबित भी कर दिया गया। हिरेन की पत्नी ने वाजे पर उनके पति की मौत में संलिप्त होने का आरोप लगाया है। हालाँकि, महाराष्ट्र ATS की जाँच में सचिन वाजे का कोई जिक्र नहीं है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) के एक अधिकारी ने गुरुवार (मार्च 18, 2021) को एक चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि उन्हें व्यवसायी मनसुख हिरेन के सिर और गर्दन पर चोट के निशान मिले हैं, जिनका शव 5 मार्च को ठाणे जिले के रेटिबंदर नाले के पास मिला था।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, 48 वर्षीय ठाणे स्थित ऑटो स्पेयर पार्ट्स डीलर मनसुख हिरेन की मौत की जाँच कर रहे ATS के एक सूत्र ने कहा है कि हो सकता है कि उनकी मौत से पहले उन पर हमला किया गया हो। हिरेन का लिंक 25 फरवरी को अरबपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर खड़ी विस्फोटक से लदी कार से जुड़ा था। हालाँकि, इस घटना के 10 दिन बाद उन्हें रहस्यमय तरीके से नाले के पास मृत पाया गया था।

एटीएस अधिकारी ने कहा कि ऐसा लगता है कि किसी ने मनसुख हिरेन के साथ मारपीट और भारी वस्तु से हमला किया होगा और आशंका जताई जा रही है कि इस हमले की वजह से वह बेहोश हो गए होंगे। पुलिस अधिकारी ने हिन्दुस्तान टाइम्स से कहा कि हमलावर ने उनके मुँह में चार-पाँच रूमाल ठूँस दिए और उनके पूरे चेहरे को दुपट्टे से ढक दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अफगानिस्तान के सबसे सुरक्षित इलाके में तालिबानी हमला, रक्षा मंत्री निशाना: ब्लास्ट-गोलीबारी, सड़कों पर ‘अल्लाहु अकबर’

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के विभिन्न हिस्सों में गोलीबारी और बम ब्लास्ट की आवाज़ें आईं। शहर के उस 'ग्रीन जोन' में भी ये सब हुआ, जो कड़ी सुरक्षा वाला इलाका है।

एक मंदिर जिसे कहते हैं तांत्रिकों की यूनिवर्सिटी, इसके जैसा ही है लुटियंस का बनाया संसद भवन: मुरैना का चौसठ योगिनी मंदिर

माना जाता है कि मुरैना के चौसठ योगिनी मंदिर से ही प्रेरित होकर भारत की संसद भवन का डिजाइन लुटियंस ने तैयार किया था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,864FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe