Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजरोहित शेखर हत्याकांड में बड़ा ख़ुलासा: पत्नी अपूर्वा ने दबाया था गला, रोहित के...

रोहित शेखर हत्याकांड में बड़ा ख़ुलासा: पत्नी अपूर्वा ने दबाया था गला, रोहित के Affair से थी परेशान

अपूर्वा ख़ुद सुप्रीम कोर्ट की वकील हैं और हो सकता है कि गैर इरादतन हत्या की धाराओं से बचने के लिए कुछ-कुछ बोल रही हों। क्राइम ब्रांच भी इस बात को बखूबी समझ रही है। इधर कॉल डिटेल्स खंगालने से पुलिस को पता चला है कि अपूर्वा ने रात 11 बजे दिल्ली के बाहर किसी व्यक्ति को कॉल किया था।

उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके दिवंगत कॉन्ग्रेस नेता एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर हत्याकांड में नया मोड़ आया है। अब पता चला है कि रोहित किसी अन्य महिला को अपनी प्रॉपर्टी में से हिस्सा देना चाहते थे। क्राइम ब्रांच अब लगभग आरोपित की गिरफ़्तारी कर सकती है। सबूतों की कड़ी से कड़ी जाँच और नौकर के बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने अब उस कार की भी गहनता से जाँच की है, जिसमें रोहित को अस्पताल ले जाया जाने वाला था। बता दें कि रोहित की माँ उज्ज्वला ने कहा था कि रोहित की तबियत ख़राब होने की सूचना के बाद जब वो एम्बुलेंस के साथ रोहित के घर पहुँचीं तो उन्होंने देखा कि अपूर्वा अपने पति को कार में लिटा रही थीं। बाद में रोहित को एम्बुलेंस से ही अस्पताल पहुँचाया गया।

इसके अलावा पुलिस रोहित शेखर और उनकी पत्नी के फोन कॉल डिटेल्स भी खंगाल रही है। एक चौंकाने वाली बात यह पता चली है कि उनके फोन से रात 2 से 4 बजे के बीच किसी नंबर पर 12 बार कॉल की गई, जबकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार, रोहित की तबतक मृत्यु हो चुकी थी। क्राइम ब्रांच के संदेह के घेरे में आरोपित की पत्नी अपूर्वा के फोन कॉल में शामिल कुछ नंबर भी हैं। रोहित की माँ ने कहा है कि अपूर्वा अपने पति से हमेशा लड़ती थी और उसे परेशान करती थी। सीसीटीवी फुटेज के अनुसार, रात 1:30 बजे अपूर्वा नीचे से पहली मंजिल पर स्थित रोहित के कमरे में जाते हुए दिखाई देती हैं। इसके ठीक एक घंटे बाद रात 2.30 बजे वह पहली मंजिल से भूतल पर आते दिख रही हैं।

और सबसे बड़ी बात कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में रोहित की मृत्यु का समय भी क़रीब 1.30 से 2.00 तक ही पाया गया है। ऐसे में, पुलिस सारी कड़ियाँ जोड़कर जल्द ही गिरफ़्तारी करेगी। क्या ये ख़ून सिर्फ़ एक व्यक्ति ने की या और भी कोई इसमें शामिल था? घर के नौकरों पर भी पुलिस की नज़र है। उधर एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि एनडी तिवारी के नाम पर कोई संपत्ति नहीं थी और न ही उन्होंने कोई संपत्ति किसी के नाम की। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि ज़िन्दगी भर अहम पद पर रहनेवाले तिवारी की संपत्ति का क्या हुआ? विवाह से पहले अपूर्वा का बॉयफ्रेंड होने की बात भी सामने आई है।

अब क्राइम ब्रांच द्वारा की गई पूछताछ में नया खुलासा हुआ है। दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक़, अपूर्वा ने बताया है कि जब उसके और रोहित के बीच झगड़ा हुआ था तो दोनों ने एक-दूसरे का गला दबाया था। हो सकता है कि सोने के दौरान रोहित की मृत्यु हो गई हो लेकिन पुलिस को अब भी अपूर्वा की बातों पर यक़ीन नहीं हो रहा है। अपूर्वा ख़ुद सुप्रीम कोर्ट की वकील हैं और हो सकता है कि गैर इरादतन हत्या की धाराओं से बचने के लिए कुछ-कुछ बोल रही हों। क्राइम ब्रांच भी इस बात को बखूबी समझ रही है। इधर कॉल डिटेल्स खंगालने से पुलिस को पता चला है कि अपूर्वा ने रात 11 बजे दिल्ली के बाहर किसी व्यक्ति को कॉल किया था। क्या अपूर्वा ने किसी जानकार से फोन पर कुछ सुझाव माँगा था?

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार, रोहित के नाखून और पैरों के तलवे नीले पड़े हुए थे। ऑक्सीजन लेवल डाउन होने से ऐसा होता है। गला दबाने से पहले ज़हर देने की आशंका भी जताई जा रही है। कहा जा रहा है कि हत्या के एक दिन पहले जब रोहित और उनका परिवार वोट डालने उत्तराखंड गया था तो उनके साथ एक अन्य महिला भी थी। रोहित ने उस महिला के साथ शराब भी पी थी। अपूर्वा को यह नागवार गुज़रा। रात को रोहित का फोन चालू था। रोहित के फोन का लॉक भी वही खोल सकता था जिसके पास उसका पासवर्ड हो। घर में सात में से पाँच ही सीसीटीवी कैमरे चालू है, जिसने भी हत्या को अंजाम दिया उसे यह बात बख़ूबी पता थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe