Friday, September 18, 2020
Home देश-समाज स्कूटी में खरोंच लगने से गरीब सब्जीवाले सनातन डेका की हत्या: फैजुल, युसुफ गिरफ्तार,...

स्कूटी में खरोंच लगने से गरीब सब्जीवाले सनातन डेका की हत्या: फैजुल, युसुफ गिरफ्तार, बाकी की खोज जारी

जब परिजन खुद हाजो अस्पताल गए तो उन्होंने देखा कि सनातन के शरीर पर गहरे चोट के निशान थे। उनके मुँह से, कान से खून निकल रहा था। उनकी स्थिति को देखते हुए साफ पता चल रहा था कि ये कोई एक्सिडेंट नहीं, बल्कि मार-पिटाई का मामला है। सनातन की हालत ऐसी थी कि हाजो सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें.......

लॉकडाउन के समय में अपने परिवार के लालन-पालन के लिए 22 मई को सनातन डेका अपने घर के पीछे उगाई सब्जियों को साइकिल पर रखकर बेचने निकला। रास्ते में उसकी साइकिल दो युवकों की स्कूटी से टकराई और स्कूटी पर खरोंच आ गई। स्कूटी चालकों को वह मामूली सी खरोंच देखकर इतना गुस्सा आया कि पहले उन्होंने सनातन को खुद पीटा और फिर अपने तीन अन्य साथियों को बुलवाकर उसे इतना मारा कि उसकी मौके पर ही मौत हो गई। आज पुलिस ने इस संबंध में दो आरोपितों को गिरफ्तार किया। इनकी पहचान फैजुल हक और युसूफउद्दीन अहमद के रूप में हुई। 

सनातन डेका (बाएँ)और दोनों आरोपित (दाएँ)

सामाजिक कार्यकर्ता दिगंता गोस्वामी इस घटना पर कहते कि असम के गाँव तेतेलिया में रहने वाले सनातन वैसे एक मजदूर थे। मगर, लॉकडाउन में सभी काम ठप्प होने के कारण घर पर उगी सब्जियों को बेचने के विचार से घर से निकले। बीच में जब वह एक मुस्लिम बहुल इलाके में पहुँचे, तो वहाँ ये घटना हुई और 37वर्षीय (पैन कार्ड के अनुसार) सनातन डेका को उन युवकों ने इतना पीटा कि मौके पर ही उनकी जान निकल गई। दिगंता इस घटना पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए पूछते हैं कि आखिर एक गरीब व्यक्ति से अगर गलती हुई भी तो क्या उसे ऐसे मारा जाना चाहिए था कि वो मर जाए?

वहीं, उनकी पत्नी, जो पति की मौत के बाद बिलकुल अकेली हो गई है, वो मीडिया से बातचीत में बताती हैं कि उनका पति उनके घर में अकेले कमाने वाला था। ऐसे में जब उन्हें सबसे पहले इस घटना के बारे में सूचना दी गई, तो उन्हें बताया गया कि सनातन का एक्सिडेंट हुआ है।

मगर, जब परिजन खुद हाजो अस्पताल गए तो उन्होंने देखा कि सनातन के शरीर पर गहरे चोट के निशान थे। उनके मुँह से, कान से खून निकल रहा था। उनकी स्थिति को देखते हुए साफ पता चल रहा था कि ये कोई एक्सिडेंट नहीं, बल्कि मार-पिटाई का मामला है। सनातन की हालत ऐसी थी कि हाजो सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने उन्हें फौरन GNRC अस्पताल ले जाने को कहा, जहाँ पहुँचते ही डॉक्टरों ने उन्हें स्पष्ट रूप से मृत घोषित कर दिया।

सनातन डेका का परिवार
- विज्ञापन -

हाजो भाजपा विधायक सुमन हरिप्रिया ने आज इस संबंध में सनातन के परिवार से मुलाकात की। उन्होंने पूरा मामला जानने के बाद कहा कि लोग पूछ रहे हैं कि एक युवक को आखिर दिन दहाड़े कैसे मारा? आखिर कैसे ईद के 2 दिन पहले फैजुल और युसूफ ने सनातन की हत्या कर दी? रोजे के दौरान तो माना जाता है कि वे किसी तरह का गुनाह नहीं कर सकते? फिर आखिर उन्होंने ये सब कैसे किया?

मज़दूरों का सगा कौन, मज़दूरों को ठगा कौन? देखिए #Dangal Rohit Sardana के साथ#ATLivestream

Posted by Aaj Tak on Monday, May 25, 2020

भाजपा विधायक ने कहा कि सनातन के पास रोजगार था। पर, लॉकडाउन की वजह से उसकी सैलरी आना रुक गई थी। इसलिए उसने अपने घर के पीछे खेती करके कुछ सब्जी उगाई। पर जब वह उन्हें बेचने निकला तो उसकी मारकर हत्या कर दी गई। परिवार से मिलने के दौरान भाजपा विधायक ने आरोपितों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने के लिए आभार व्यक्त किया। वहीं, एक कॉन्ग्रेस युवक भी मौके पर पहुँचा और उसने मामले को साम्प्रदायिक रंग न देने की लोगों से अपील की।

हालाँकि, इस मामले में आगे की कार्रवाई संबंधी जानकारी जानने के लिए ऑपइंडिया ने पुलिस से संपर्क करने का बहुत प्रयास किया। मगर, पुलिस थाने में किसी ने कॉल नहीं उठाया।

इस संबंध में ऑपइंडिया ने सामाजिक कार्यकर्ता दिगंता गोस्वामी के अलावा वहाँ के लोकल व सनातन डेका के घरवालों की मदद के लिए कैंपेन चलाने वाले भास्कर ज्योति दास से भी बात की। भास्कर ज्योति ने बताया कि इस घटना के बाद उनके इलाके के सभी लोग सनातन के परिवार को मदद देने के लिए आगे आए हैं। कोई 50 रुपया भेज रहा है, तो कोई 500। जिससे भास्कर स्वयं उनके घरवालों की मदद कर रहे हैं व आरोपितों के ख़िलाफ़ केस दायर करवा रहे हैं।

भास्कर बताते हैं कि वे एक संगठन से जुड़े हुए हैं जिसका नाम असम दतिया महासभा युवा मंशा है। इस संगठन ने अपनी ओर से सनातन डेका को पहले शहीद का दर्जा देते हुए Assamese economical revolution martyr का सम्मान दिया है।

पुलिस कार्रवाई के बारे में पूछने पर भास्कर बताते हैं कि पहले पुलिस ऑफिशियल ने बयान दिया था कि आरोपितों ने सनातन को बस थप्पड़ मारा था जिससे वह नीचे गिर गए। मगर, जब भास्कर के संगठन ने इस मामले पर जोर देकर आंदोलन करना शुरू किया तो पुलिस ने उनके सामने अपनी गलती मानी और कहा कि उन्होंने गलत बयान दे दिया था। इसके बाद पुलिस ने सराहनीय काम किया।

भास्कर ज्योति दास कहते हैं कि आरोपित फैजुल बेहद धनी परिवार से संबंध रखता है, जिसका बड़ा भाई लोगों को रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा देकर ढेर सारे पैसे लेता और फिर गायब हो जाता है। ऐसे करके वे लोग बहुत अमीर हो चुके हैं। वे खुद को स्थानीयों के बीच एजीपी का नेता भी बताता है। लेकिन एजीपी ने इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है। इसलिए इस बारे में कुछ भी कहना गलत होगा।

उल्लेखनीय है कि इस संबंध में हमारे पास कुछ वीडियोज भी आई हैं जो इस समय सोशल मीडिया पर भी शेयर की जा रही है। इस वीडियो में फैजुल स्कूटी लेकर भागते साफ नजर आ रहा है। वहीं, बुरी तरह घायल सनातन सड़क पर भीड़ के बीच बेबस पड़ा है। कुछ लोगों का इस मामले पर कहना है कि उनकी मौके पर ही मौत हो गई। वहीं कुछ बता रहे हैं कि अस्पताल पहुँचते हुए उन्होंने दम तोड़ा और बाद में पुलिस की निगरानी में इस मामले में पोस्टमार्टम हुआ। लेकिन इस पोस्टमार्टम रिपोर्ट में क्या निकलकर आया, ये अभी किसी को मालूम नहीं है। मगर, पुलिस की पड़ताल इस मामले में जारी है।

इस दुख की घड़ी में सनातन डेका का परिवार बिलकुल अकेला पड़ चुका है। उनकी कोई औलाद नहीं है। उनके परिवार में उनकी पत्नी, उनके माता-पिता, और भाई है। इस समय उनकी मदद के लिए भले ही भास्कर ज्योति दास जैसे लोग दिन रात मदद में जुटे हैं और उनके लिए इंसाफ की माँग कर रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

किसानों का विकास, बाजार का विस्तार, बेहतर विकल्प: मोदी सरकार के तीन विधेयकों की क्या होंगी खासियतें

मोदी सरकार ने तीन नए विधेयक पेश किए हैं ताकि कृषि उत्पादन के लिए सरल व्यापार को बढ़ावा मिले और मौजूदा एपीएमसी सिस्टम से वह आजाद हों, जिससे उन्हें अपनी उपज बेचने के और ज्यादा विकल्प व अवसर मिलें।

व्यंग्य: आँखों पर लटके फासीवाद के दो अखरोट जो बॉलीवुड कभी टटोल लेता है, कभी देख तक नहीं पाता

कालांतर में पता चला कि प्रागैतिहासिक बार्टर सिस्टम के साथ-साथ 'पार्टनर स्वापिंग' जैसे अत्याधुनिक तकनीक वाले सखा-सहेलियों के भी बार्टर सिस्टम भी इन पार्टियों में हुआ करते थे।

रेपिस्ट अब्दुल या असलम को तांत्रिक या बाबा बताने वाले मीडिया गिरोहों के लिए जस्टिस चंद्रचूड़ का जरूरी सन्देश

सुदर्शन न्यूज़ के कार्यक्रम पर जस्टिस चंद्रचूड़ मीडिया को सख्त संदेश दिया है कि किसी एक समुदाय को निशाना नहीं बनाया जा सकता है। लेकिन समुदाय का नाम नहीं लिया गया।

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

प्रचलित ख़बरें

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन के बेटे का लव जिहाद: 10वीं की हिंदू लड़की से रेप, फँसा कर निकाह, गर्भपात… फिर छोड़ दिया

अजीजुद्दीन छत्तीसगढ़ के दुर्ग से कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन कुरैशी का बेटा है। लव जिहाद की इस घटना के मामले में मीडिया के सवालों से...

‘हीरो के साथ सोकर मिलते हैं फिल्मों में 2 मिनट के रोल’: कंगना ने जया बच्चन को जवाब देते हुए किया नया खुलासा

कंगना रनौत ने इससे पहले जया बच्चन से पूछा था कि जैसा उनके और सुशांत के साथ हुआ अगर वही श्वेता और अभिषेक के साथ होता, तो भी वो यही कहती?

‘ब्यूरोक्रेसी पर कब्जा करो… अपने नस्लों के फायदे के लिए पावर हाथ में लो’ – इमरान प्रतापगढ़ी का वीडियो वायरल

इमरान प्रतापगढ़ी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इमरान प्रतापगढ़ी मुस्लिमों से ब्यूरोक्रेसी पर ‘कब्जा’ करने के लिए कहते हैं।

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

3 नाबालिग सगी बेटियों में से 1 का 5 साल से रेप, 2 का यौन शोषण कर रहा था मोहम्मद मोफिज

मोफिज ने बीवी को स्टेशन पर ढकेल दिया, क्योंकि उसने बेटी से रेप का विरोध किया। तीनों बेटियाँ नाबालिग हैं, हमारे पास वीडियो कॉल्स और सारे साक्ष्य हैं। बेगूसराय पुलिस इस पर कार्रवाई कर रही है।

AMU वाले स्कूल की लीज समाप्त, जिस जाट राजा ने दान दी थी जमीन, उनके वंशज ने कहा – ‘वापस करो’

लीज समाप्त होने के बाद जाट राजा के वंशजों ने माँग की है कि विश्वविद्यालय के आगरा स्थित स्कूल का नाम बदलकर उनके नाम पर रखा जाए और...

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

MP: कॉन्ग्रेस ने गाय को किया चुनाव के लिए इस्तेमाल, शरीर पर पंजे के निशान के साथ लिखा उम्मीदवार का नाम

इंदौर की सांवेर विधानसभा सीट पर उपचुनाव है। उसी चुनाव में लोगों को उम्मीदवार की ओर आकर्षित करने के लिए यह वाहियात कार्य किया गया है।

महाराष्ट्र सरकार के पास कर्मचारियों को सैलरी देने के पैसे नहीं, लेकिन पीआर के लिए खर्च कर रही ₹5.5 करोड़

शिवसेना की अगुवाई वाली महाविकास आघाड़ी समिति के प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र सरकार के पीआर के प्रबंधन के आवेदन करने के लिए निजी विज्ञापन एजेंसियों को आमंत्रित करते हुए एक ई-टेंडर जारी किया है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

अमेरिका में भी चीनी ऐप्स TikTok और वीचैट पर रविवार से बैन: राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी बताई गई वजह

अमेरिकी सरकार ने भी इन एप्स को बैन करने के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी को कारण बताया है। कोरोना वायरस, चीन की चालबाजी, टैक्नोलॉजी पर बढ़ते तनाव और अमेरिकी निवेशकों के लिए वीडियो ऐप TikTok की बिक्री के बीच यह फैसला सामने आया है।

1995 के अमूल विज्ञापन पर चित्रित उर्मिला पर बौखलाए लिबरल्स: रंगीला के प्रमोशन को जोड़ा कंगना की टिप्पणी से

25 साल पहले बनाया गया यह विज्ञापन अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर की फिल्म 'रंगीला' में उनके प्रदर्शन को देखते हुए बनाया गया था।

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

ड्रग्स के खिलाफ NCB का ताबड़तोड़ एक्शन: 4 ड्रग पेडलर गिरफ्तार, ₹4 करोड़ की ड्रग्स सीज, मिला बॉलीवुड लिंक

इसी के तहत कार्रवाई करते हुए एनसीबी ने मुंबई से चार और ड्रग पैडलर्स को भी हिरासत में लिया है। ड्रग्स पेडलर्स के पास से एनसीबी ने लाखों रुपए की ड्रग्स भी बरामद की है।

किसानों का विकास, बाजार का विस्तार, बेहतर विकल्प: मोदी सरकार के तीन विधेयकों की क्या होंगी खासियतें

मोदी सरकार ने तीन नए विधेयक पेश किए हैं ताकि कृषि उत्पादन के लिए सरल व्यापार को बढ़ावा मिले और मौजूदा एपीएमसी सिस्टम से वह आजाद हों, जिससे उन्हें अपनी उपज बेचने के और ज्यादा विकल्प व अवसर मिलें।

व्यंग्य: आँखों पर लटके फासीवाद के दो अखरोट जो बॉलीवुड कभी टटोल लेता है, कभी देख तक नहीं पाता

कालांतर में पता चला कि प्रागैतिहासिक बार्टर सिस्टम के साथ-साथ 'पार्टनर स्वापिंग' जैसे अत्याधुनिक तकनीक वाले सखा-सहेलियों के भी बार्टर सिस्टम भी इन पार्टियों में हुआ करते थे।

हमसे जुड़ें

260,559FansLike
77,913FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements