Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजबाबा का ढाबा: यूट्यूबर ने लगाया मानहानि का आरोप, कांता प्रसाद ने कहा- गलत...

बाबा का ढाबा: यूट्यूबर ने लगाया मानहानि का आरोप, कांता प्रसाद ने कहा- गलत साबित हुए तो माँग लेंगे माफ़ी

बाबा का ढाबा के मालिक कांता प्रसाद ने कहा कि जाँच में गलत साबित हुए तो वो माफी माँग लेंगे हालाँकि, इस बात का पछतावा रहेगा, क्योंकि अगले व्यक्ति ने मदद ही की थी।

पिछले महीने दिल्ली के जिस ‘बाबा का ढाबा’ ने देशभर में सुर्खियाँ बटोरीं, वह अब फिर से खबरों में है। मगर इस बार गलत कारणों से। बाबा को दुनिया भर में मशहूर करने वाले यूट्यूबर गौरव वासन ने ढाबा मालिक 80 वर्षीय बुजुर्ग कांता प्रसाद पर मानहानि का आरोप लगाया है। दक्षिण दिल्ली के मालवीय नगर में ‘बाबा का ढाबा’ से जुड़े मामले की जाँच के बीच यूट्यूबर गौरव वासन ने कहा कि उन्हें बदनाम किया जा रहा है। हालाँकि, बाबा का ढाबा के मालिक का कहना है कि अब अगर वो गलत साबित हुए तो गौरव वासन से माफ़ी माँग लेंगे क्योंकि आखिरकार गौरव ने उनकी मदद की है।

गौरव का दावा है कि उन्होंने ढाबा मालिक को 3.78 लाख रुपए की राशि सौंपी थी। वासन ने ‘बाबा का ढाबा’ के मालिक का वीडियो बनाकर यूट्यूब पर अपलोड किया था जिसके बाद यह वीडियो वायरल हुआ और लोग ढाबा मालिक कांता प्रसाद की मदद के लिए आगे आए थे। हालाँकि वीडियो वायरल होने के करीब एक महीने बाद ढाबा मालिक कांता प्रसाद ने इंस्टाग्राम इन्फ्लुएंसर और यूट्यूबर गौरव वासन के खिलाफ पैसों की हेराफेरी की शिकायत दर्ज कराई है।

कांता प्रसाद ने कहा कि उन्हें वासन से 2.33 लाख रुपए का चेक हासिल हुआ। जब उनसे बाकी राशि के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है कि उनके नाम पर वासन ने कितने रुपए जमा किए, इस बारे में या तो वासन को या फिर देने वाले को ही जानकारी होगी।

‘गलत हुए तो माँग लेंगे माफ़ी’

वहीं, NBT की एक रिपोर्ट के अनुसार, बाबा का ढाबा के मालिक कांता प्रसाद से जब इस बारे में पूछा गया कि अगर पुलिस की जाँच में गौरव वासन पर उनके द्वारा लगाए गए आरोप गलत साबित हुए तो वो क्या करेंगे? इस पर कांता प्रसाद ने कहा कि समय आने पर देखेंगे कि क्या करना है।

उन्होंने कहा कि अभी इस सम्बन्ध में जाँच हो रही है और उन्हें माफी माँगने में कोई झिझक नहीं होगी, क्योंकि गौरव ने उनका भला ही किया था, लेकिन छोटी सी बात के लिए वो खुद फंस गए। कांता प्रसाद ने कहा कि जाँच में गलत साबित हुए तो वो माफी माँग लेंगे हालाँकि, इस बात का पछतावा रहेगा, क्योंकि अगले व्यक्ति ने मदद ही की थी।

इस आरोप से इनकार करते हुए वासन ने कहा, “झूठे दावे करके वह मुझे बदनाम कर रहे हैं। वे कह रहे हैं कि मेरे बैंक खाते में मदद के लिए 25 लाख रुपए आए, जो कि सही नहीं है।” जब उनसे पूछा गया कि उन्हें मदद के लिए कितनी राशि मिली तो वासन ने बताया कि उनके पास इस संबंध में करीब 3.78 लाख रुपए आए जिसमें पेटीएम से मिली राशि भी शामिल है। 

गौरव वासन ने दावा किया कि उन्होंने कांता प्रसाद को दो चेक दिए- एक चेक एक लाख रुपए जबकि दूसरा चेक 2.33 लाख रुपए का था, जबकि 45,000 रुपए प्रसाद को पेटीएम के जरिए दिए।

गौरव वासन पर लगा डोनेशन के दुरुपयोग का आरोप 

बता दें कि सोशल मीडिया पर बुजुर्ग दंपत्ति की वीडियो वायरल होने के कुछ दिन बाद एक अन्य यूट्यूबर लक्ष्य चौधरी ने गौरव वासन पर कुछ गंभीर आरोप लगाए थे। लक्ष्य का इल्जाम था कि जो पैसे बुजुर्ग दंपत्ति के लिए माँगे गए, वह उन तक नहीं पहुँचे।

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया था कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं। इसके बाद उन्होंने गौरव वासन को लेकर कहा कि उसने बाबा का ढाबा के लिए डोनेशन माँगा लेकिन उन लोगों के साथ पैसे नहीं शेयर किए।

एक इंटरव्यू में भी कांता प्रसाद ने यह स्वीकारा था कि उन्हें अभी तक गौरव से कोई रुपए नहीं मिले हैं। इस पर चौधरी ने गौरव पर फंड गबन करने के आरोप लगाए और कहा कि इतने दिन बीत जाने के बाद भी कांता प्रसाद को मदद नहीं पहुँचाई गई है। यूट्यूबर लक्ष्य ने कहा था कि गौरव ने कांता प्रसाद की मदद के लिए अपना कॉन्टैक्ट दिया और कांता प्रसाद के बैंक डिटेल्स की जगह अपनी ही अकॉउंट डिटेल्स शेयर की।

कांता प्रसाद ने एक वीडियो में कहा, “मुझे कोई डोनेशन ऑनलाइन नहीं मिली। पैसों की मदद मुझे सिर्फ़ कैश के रूप में मिली है। मुझे अमिताभ बच्चन तक से  डोनेशन मिली है। लेकिन इसके अलावा मुझे कोई ऑनलाइन डोनेशन नहीं मिली।”

आगे वह कहते हैं, “मुझे गौरव ने कहा था कि मैं किसी से अपनी बैंक की जानकारी न साझा करूँ। जब वीडियो वायरल हुई तो मैंने अपना मोबाइल सुशांत को दिया। गौरव ने हमें कोई पैसे नहीं दिए, चाहे कैश हो या ऑनलाइन। जो भी उसने इकट्ठा किया, वह उसी के पास है। मेरा बैंक अकॉउंट बंद हो गया है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe