Wednesday, November 30, 2022
Homeदेश-समाज₹1500 करोड़ के इस्लामिक बैंक घोटाले में SIT ने BBMP के पार्षद सैयद मुजाहिद...

₹1500 करोड़ के इस्लामिक बैंक घोटाले में SIT ने BBMP के पार्षद सैयद मुजाहिद को किया गिरफ्तार

मुजाहिद आईएमए ग्रुप के नेता मोहम्मद मंसूर खान के साथ वित्तीय लेनदेन में शामिल था। आईएमए घोटाला को अंजाम देने के बाद मंसूर खान 8 जून को देश से फरार हो गया। एसआईटी की टीम ने काउंसिलर के आवास की तलाशी ली और उसे गिरफ्तार......

विशेष जाँच दल (एसआईटी) ने ब्रुहत बेंगलुरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) के पार्षद सैयद मुजाहिद को रविवार (जून 30, 2019) को आई मॉनेटरी एडवाइजरी (I Monetary Advisory) के 1,500 करोड़ रुपए के घोटाले के संबंध में पुलकेशिनगर में एमएम रोड स्थित उनके निवास से गिरफ्तार किया।

पुलिस का कहना है कि मुजाहिद आईएमए ग्रुप के नेता मोहम्मद मंसूर खान के साथ वित्तीय लेनदेन में शामिल था। आईएमए घोटाला को अंजाम देने के बाद मंसूर खान 8 जून को देश से फरार हो गया। एसआईटी की टीम ने काउंसिलर के आवास की तलाशी ली और उसे गिरफ्तार करने से पहले घंटे तक पूछताछ की। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, कि जाँच के दौरान एक एसयूवी, दो सेलफोन और कई दस्तावेज बरामद किए, जो कि IMA ग्रुप की कंपनियों से संबंधित थे।

मुजाहिद को 15 दिनों तक पुलिस की हिरासत में रखा जाएगा। पूछताछ में पता चला कि मुजाहिद को जब इस  बात की भनक लगी कि वो एआईटी स्कैनर की नज़र में है तो वो दुबई भागने की फिराक में था। एक अधिकारी ने बताया कि IMA निवेश घोटाला के सामने आने के बाद मुजाहिद दो सप्ताह के लिए गायब हो गया था और फिर वो हाल ही में वो परिवार से मिलने के लिए आया था। पुलिस उसके बारे में जानकारी एकट्ठा कर रही थी और जैसे पुलिस को उसके घर पर होने की बात पता चली, उसे घर से गिरफ्तार कर लिया गया। 

गौरतलब है कि, साल 2006 में खाड़ी से लौटे मोहम्मद मंसूर खान ने इस्लामिक बैंकिंग और हलाल निवेश के नाम पर एक फर्म बनाई जिसका नाम रखा ‘आई मॉनेटरी एडवाइजरी’ (I Monetary Advisory)। इस्लामिक बैंकिंग के नाम पर मंसूर खान ने अपने समुदाय के लोगों से इस फर्म में निवेश करने को कहा। मंसूर खान ने लोगों को बड़े रिटर्न का वादा करके निवेश करने का लालच दिया और जब लोगों ने बड़ी संख्या में निवेश किया, तो उसने उस पैसे से ज्वेलरी, रियल एस्टेट, बुलियन ट्रेडिंग, फार्मेसी, प्रकाशन, शिक्षा और स्वास्थ्य क्षेत्र में जमकर व्यवसाय किया और धन कमाया और फिर देश छोड़कर फरार हो गया। फर्म में तकरीबन 10 हजार निवेशकों ने 2,000 करोड़ रुपए का निवेश किया था। मंसूर खान ने लोगों से 14% से 18% तक के रिटर्न का वादा किया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अब वक्फ बोर्ड खुद खोलेगा स्कूल-कॉलेज, मुस्लिम छात्राएँ पहनेंगी बुर्का-हिजाब: बोले आक्रोशित हिन्दू संगठन – देश के लिए खतरा बनेंगे शरिया शैक्षणिक संस्थान

मुस्लिमों की बढ़ती माँगों को देखते हुए वक्फ बोर्ड खोलेगा नए शिक्षण संस्थान। हिन्दू संगठनों ने कहा कि देश में 'शरीया संस्थानों' की जरूरत नहीं।

मॉर्निंग वॉक पर निकली मंदिर के हथिनी ‘लक्ष्मी’ की मौत, लोगों ने रोते हुए दी अंतिम विदाई: लोगों ने एक्टिविस्ट्स को बताया जिम्मेदार

हथिनी लक्ष्मी को इलाज के लिए पशु चिकित्सकों के पास ले जाया गया, लेकिन कार्डियक अरेस्ट के कारण उसने दम तोड़ दिया। मंदिर के सामने अंतिम दर्शन के लिए रखा गया शव।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,216FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe