Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजकलकत्ता खिलाफत समिति ने ममता सरकार से माँगी ईद-उल-फितर नमाज की अनुमति, जुटती है...

कलकत्ता खिलाफत समिति ने ममता सरकार से माँगी ईद-उल-फितर नमाज की अनुमति, जुटती है 2 लाख से अधिक की भीड़

''हमने पहले ही पिछले सप्ताह पूर्वी कमान को एक पत्र भेजा है। हम राज्य सरकार से अनुमति मिलने का इंतजार कर रहे हैं। अगर राज्य सरकार अनुमति देती है, तो कारी फजलुर रहमान कोविड-19 प्रोटोकॉल को बनाए रखते हुए रेड रोड पर नमाज का नेतृत्व करेंगे।''

कोलकाता में हर साल ईद-उल-फितर नमाज की व्यवस्था करने के लिए जिम्मेदार कलकत्ता खिलाफत समिति (CKC) को हर बार की तरह इस बार भी रेड रोड पर नमाज के संचालन के लिए राज्य सरकार की अनुमति का इंतजार है। इस अवसर पर हर साल दो लाख से अधिक की भीड़ जमा होती है।

मिलेनियम पोस्ट की एक रिपोर्ट के अनुसार, CKC के एक सदस्य मल्लिक मोहम्मद इशाक ने कहा, ”हमने पहले ही पिछले सप्ताह पूर्वी कमान को एक पत्र भेजा है। हम राज्य सरकार से अनुमति मिलने का इंतजार कर रहे हैं। अगर राज्य सरकार अनुमति देती है, तो कारी फजलुर रहमान कोविड-19 प्रोटोकॉल को बनाए रखते हुए रेड रोड पर नमाज का नेतृत्व करेंगे।”

कोविड -19 महामारी की वजह से लगाए गए लॉकडाउन के कारण पिछले साल खुला प्रार्थना सत्र आयोजित करने की अनुमति से इनकार कर दिया गया था। रेड रोड पर इकट्ठा होने वाली सभा को ईद-उल-फितर के अवसर पर विशेष नमाज के लिए देश में होने वाली सबसे बड़ी सभा कहा जाता है। सीकेसी 1920 से ही शहीद मीनार मैदान में प्रार्थना का आयोजन कर रहा है लेकिन 26 साल पहले इसे रेड रोड पर स्थानांतरित कर दिया गया था।

ईद-उल-फितर को 13 मई या 14 मई को चंद्र दर्शन के आधार पर मनाया जाएगा।

कोरोनावायरस की दूसरी लहर का कहर बंगाल में भी जारी

इस सभा के आयोजन की अनुमति ऐसे समय में माँगी गई है जब कोरोनोवायरस महामारी की दूसरी लहर चल रही है, जिसमें रोजाना 3,00,000 से अधिक नए कोरोनोवायरस मामले सामने आ रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के आँकड़ों के अनुसार, पश्चिम बंगाल राज्य में मंगलवार को क्रमश: 107 मौतों और 17,639 मामलों के साथ एक दिन के अब तक के सर्वाधिक मौत और नए केस के मामले दर्ज किए गए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -