Sunday, June 16, 2024
Homeदेश-समाजआजाद हुआ आनंद मोहन, सुबह सबेरे जेल से रिहाई: अशोक यादव भी बाहर निकला,...

आजाद हुआ आनंद मोहन, सुबह सबेरे जेल से रिहाई: अशोक यादव भी बाहर निकला, बोला- सरकार बढ़िया काम किया हमलोगों के लिए

आनंद मोहन की रिहाई को लेकर नियमों में जो बदलाव किया गया है, उस पर कृष्णैया के परिजन निराशा जता चुके हैं। मीडिया में भी इस फैसले पर सवाल उठ रहे हैं। इसका असर रिहाई के समय भी दिखा। जब आनंद मोहन जेल से बाहर निकला तो समर्थकों का कोई जमावड़ा नहीं था। न उसने रोड शो कर अपनी शक्ति दिखाई।

पूर्व सांसद आनंद मोहन आजाद हो गया है। 27 अप्रैल 2023 की सुबह उसे सहरसा जेल से रिहा कर दिया गया। गोपालगंज के डीएम रहे जी कृष्णैया की हत्या में उसे आजीवन कारावास हुई थी। वह 16 साल से जेल में बंद था। बिहार सरकार ने 10 अप्रैल 2023 को जेल नियमावली, 2012 के नियम 481 में संशोधन कर उसकी रिहाई का रास्ता साफ किया था।

सहरसा जेल अधीक्षक अमित कुमार ने उसकी रिहाई की पुष्टि की है। आनंद मोहन की रिहाई को लेकर नियमों में जो बदलाव किया गया है, उस पर कृष्णैया के परिजन निराशा जता चुके हैं। मीडिया में भी इस फैसले पर सवाल उठ रहे हैं। इसका असर रिहाई के समय भी दिखा। जब आनंद मोहन जेल से बाहर निकला तो समर्थकों का कोई जमावड़ा नहीं था। न उसने रोड शो कर अपनी शक्ति दिखाई।

बेटे चेतन आनंद की सगाई के सिलसिले में आनंद मोहन 15 दिन के पेरोल पर बाहर था। 26 अप्रैल को पेरोल खत्म होने के बाद वह वापस सहरसा जेल लौट गया था। आनंद मोहन की रिहाई को लेकर बिहार में सियासी पारा चढ़ा हुआ है। राजनीतिक दलों के अलावा आईएएस एसोसिएशन और डीएम जी कृष्णैया की पत्नी उमा देवी ने भी उसकी रिहाई पर सवाल उठाए थे। उन्होंने बिहार सरकार के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने पर विचार करने की बात कही है।

पटना हाईकोर्ट में याचिका

आनंद मोहन की रिहाई के खिलाफ सामाजिक कार्यकर्ता अमर ज्योति ने पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। इस याचिका में बिहार सरकार द्वारा जारी अधिसूचना को निरस्त करने की माँग की गई है। याचिकाकर्ता के अनुसार बिहार सरकार द्वारा जेल नियमावली में संशोधन के समय ‘ड्यूटी पर तैनात लोक सेवक की हत्या’ वाक्य को हटा दिया गया था। इस संशोधन को गैरकानूनी बताया गया है। याचिका में कहा गया है कि इस तरह के निर्णयों से लोक सेवकों और आम जनता का मनोबल कम होगा।

अशोक यादव भी रिहा

बिहार सरकार ने आनंद मोहन के साथ साथ आजीवन कारावास काट रहे 26 अन्य अपराधियों की रिहाई का भी फैसला लिया था। इस सूची में एक मृत कैदी का भी नाम शामिल कर दिया गया था। अन्य लोगों में से कुछ रिहा हो चुके हैं। कुछ की रिहाई प्रक्रिया में है। रिहा होने वालों में हत्या के मामले में सजा काट रहा अशोक यादव भी है।

अशोक यादव को उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी। उसने करीब 18 साल जेल में गुजारे हैं। रिहाई के बाद मीडिया से बात करते हुए उसने बिहार सरकार के फैसले की तारीफ की। यादव ने कहा, “सरकार ने बढ़िया काम किया है हमलोगों के लिए।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आतंकवाद का बखान, अलगाववाद को खुलेआम बढ़ावा और पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को बढ़ावा : पढ़ें- अरुँधति रॉय का 2010 वो भाषण, जिसकी वजह से UAPA...

अरुँधति रॉय ने इस सेमिनार में 15 मिनट लंबा भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने भारत देश के खिलाफ जमकर जहर उगला था।

कर्नाटक में बढ़ाए गए पेट्रोल-डीजल के दाम: लोकसभा चुनाव खत्म होते ही कॉन्ग्रेस ने शुरू की ‘वसूली’, जनता पर टैक्स का भार बढ़ा कर...

अभी तक बेंगलुरु में पेट्रोल 99.84 रुपये प्रति लीटर और डीजल 85.93 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था, लेकिन नए आदेश के बाद बढ़ी हुई कीमतें तत्काल प्रभाव से लागू हो गई हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -