Tuesday, April 20, 2021
Home देश-समाज रोहित जायसवाल के पिता ने अलग-अलग लोगों को अलग बातें कही, पर मामला साम्प्रदायिक...

रोहित जायसवाल के पिता ने अलग-अलग लोगों को अलग बातें कही, पर मामला साम्प्रदायिक नहीं: DGP बिहार

बिहार के DGP ने कहा कि जब तक अनुसन्धान पूरा नहीं होता, पुलिस मानकर चल रही है कि ये डूबने और हत्या का मामला भी हो सकता है। हालाँकि अब तक पुलिस ने ऐसा कुछ नहीं पाया है, जिससे लगे कि रोहित जायसवाल की हत्या हुई या हत्या का कोई मोटिव रहा हो।

बिहार के पुलिस महानिदेशक (DGP) गुप्तेश्वर पांडेय ने रविवार (17 मई 2020) को फेसबुक के जरिए संवाद किया। इस दौरान उन्होंने गोपालगंज के रोहित जायसवाल मामले का भी जिक्र किया है। इस मामले में अब तक हुई कार्रवाई की जानकारी देते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा कि इसमें कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है।

कटेया थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले बेलहीडीह गाँव निवारी रोहित का शव 29 मार्च को नदी से मिला था। डीजीपी ने बताया कि रोहित 28 मार्च को जिन बच्चों के साथ गया था उसमें 1 हिंदू और 3 अल्पसंख्यक समुदाय के थे। चारों नाबालिग हैं और इन सबसे उन्होंने खुद बातचीत की। उन्होंने बताया कि ये सभी साथ में हँसते-खेलते थे। उन्होंने कहा कि परिवार ने भी स्वीकार किया है कि गाँव में किसी प्रकार का हिन्दू-मुस्लिम विवाद नहीं है।

डीजीपी (DGP) ने बताया कि ग्रामीणों ने उन्हें जानकारी दी कि पिछले 15 सालों से गाँव में कोई सांप्रदायिक हिंसा या तनाव की घटना नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि घटना वाले दिन रोहित अपने 4 दोस्तों के साथ खनुआ नदी के पास खेलने गया था। यही नदी बिहार और यूपी की सीमा का निर्धारण करती है। डीजीपी ने बताया कि उन्होंने ख़ुद नदी में उतर जायजा लिया और पाया कि उसकी गहराई कम से कम 12 फ़ीट थी ही। मार्च में पानी का स्तर ज्यादा था।

डीजीपी (DGP) पांडेय ने बताया कि अभियोजन पक्ष के सभी लोगों का बयान उन्होंने नदी के पास ही लिया। डीजीपी ने रोहित के परिवार के हवाले से यह भी कहा कि वह दोपहर 3 बजे गया था। डीजीपी ने कहा कि वहाँ गाय-भैंस चराने वालों ने देखा कि पाँचों बच्चे नहाने गए थे और उन सबने अपना बयान भी दर्ज करवाया है। बाकी चार उस दिन लौट गए, जबकि रोहित नहीं आया। उसमें से एक लड़के से ग्रामीणों ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने बताया कि वह नदी में डूब गया। डीजीपी (DGP) ने बताया:

“जिसके 15 साल के बेटे की लाश उसके सामने निकली हो, उस माँ-बाप की पीड़ा को आप समझ सकते हैं। वो अच्छा लड़का था। परिवार गरीब है, जिसके पास एक दुकान के अलावा आय का कोई साधन नहीं था। वो लड़का वहाँ डूब गया या उसके साथियों ने उसे डूबा दिया, इस पर अभी कोई जजमेंट नहीं दिया जा सकता, क्योंकि ये अनुसन्धान का विषय है। इसके अगले दिन की अख़बारों में आया कि परिजनों ने रोहित की हत्या की आशंका जताई है। पुलिस ने वैसे ही एफआईआर किया, जैसा परिवार ने कहा। कोई अगर प्राथमिकी दर्ज कराने जाता है तो उसके बयान में पुलिस छेड़छाड़ नहीं कर सकती।”

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने बताया कि पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए 6 में से 5 आरोपितों को गिरफ़्तार कर जेल और ‘किशोर न्याय परिषद’ में भेजा। बाद में उन्हें जमानत दे दी गई। इससे परिवार को ऐसा लगा कि उनके साथ न्याय नहीं हुआ और वे हताश हो गए। इसके बाद वे पुलिस की गाड़ी के आगे लोट गए और कम्युनिकेशन गैप बनने लगा। डीजीपी ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी सब कुछ विस्तार से लिखा है।

उन्होंने कहा कि डॉक्टर ने भी बयान दिया है कि रोहित की मौत डूबने से हुई है। डॉक्टर ने ये भी बताया कि डूबने के क्रम में दबाव के कारण आँखों या नाक से ख़ून आना संभव है, लेकिन रोहित के शरीर पर जख्म के कोई निशान नहीं थे। डीजीपी ने कहा कि जब तक अनुसन्धान पूरा नहीं होता, पुलिस मानकर चल रही है कि ये डूबने और हत्या का मामला भी हो सकता है। हालाँकि अब तक पुलिस ने ऐसा कुछ नहीं पाया है, जिससे लगे कि हत्या हुई या हत्या का कोई मोटिव रहा हो।

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि पुलिस साक्ष्य जुटाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि घटना के एक महीने बाद किसी ने किसी धार्मिक स्थल पर बलि की बात कह दी। इसके बाद रोहित के पिता ने अलग-अलग लोगों को अलग-अलग बयान दिया। बकौल डीजीपी, जहाँ रोहित के पिता राजेश जायसवाल ने किसी धार्मिक स्थल में बलि की बात कही, उसकी माँ और नाना ने पानी छिड़के जाने की बात कही।

21:45 के बाद डीजीपी पांडेय ने की रोहित मामले पर चर्चा

डीजीपी ने कहा कि बलि वाली बात चली लेकिन ये जानना ज़रूरी है कि गाँव में न तो कोई मस्जिद है और न ही कोई नमाज पढ़ाने वाले मौलवी। उन्होंने बताया कि एक मस्जिद निर्माणाधीन था, जिसकी केवल नींव पड़ी थी और उसका निर्माण किसी कारण रुक गया था। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों, अधिकतर हिन्दुओं ने बताया कि इस घटना में कोई सांप्रदायिक एंगल नहीं है और न ही गाँव में कोई सांप्रदायिक तनाव है।

डीजीपी ने कहा कि बहुत लोग सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास कर लेते हैं, इसीलिए उनकी नैतिक जिम्मेदारी है कि वो बिहार की 12 करोड़ जनता के समक्ष बताएँ कि इसमें कोई सांप्रदायिक कोण नहीं है। उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी को नहीं छोड़ा जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि उनके सामने रोहित के परिजनों में से किसी ने भी ‘धार्मिक स्थल में बलि’ और अल्पसंख्यकों के डर से भागने की बात नहीं कही। उन्होंने कहा कि परिवार ने थानेदार के डर से भागने की बात कही।

कटेया थानाध्यक्ष अश्विनी तिवारी की चर्चा करते हुए DGP पांडेय ने कहा कि किसी भी परिस्थिति में या कितने भी बड़े तनाव की स्थिति में, किसी भी थानेदार के पास ये अधिकार नहीं है कि वह जनता के साथ गाली-गलौज करे। उन्होंने कहा कि ये पुलिस विभाग के लिए शर्म की बात है कि उसने पीड़ित माँ-बाप के साथ ऐसा व्यवहार किया। डीजीपी ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले थानेदार को सस्पेंड किया। उन्होंने जनता से अफवाह न फैलाने की बात कही।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आपके शहर में कब और कितना कहर बरपाएगा कोरोना, कब दम तोड़ेगी संक्रमण की दूसरी लहर: जानें सब कुछ

आप कहॉं रहते हैं? मुंबई, दिल्ली या चेन्नई में। या फिर बिहार, यूपी, झारखंड या किसी अन्य राज्य में। हर जगह का हाल और आने वाले कल का अनुमान।

क्या राजनीतिक हिंसा के दंश से बंगाल को मिलेगी मुक्ति, दशकों पुराना है विरोधियों की लाश गिराने का चलन

पश्चिम बंगाल में चुनाव समाप्ति की ओर बढ़ रहे हैं। इस दौरान हिंसा की कई घटनाएँ सामने आई है। क्या नतीजों के बाद दशकों पुराना राजनीतिक हिंसा का दौर थमेगा?

काशी की 400 साल पुरानी परंपरा: बाबा मसाननाथ मंदिर में मोक्ष की आकांक्षा में धधकती चिताओं के बीच नृत्य करती हैं नगरवधुएँ

काशी की महाशिवरात्रि, रंगभरी एकादशी, चिता भस्म की होली के बाद एक और ऐसी प्राचीन परंपरा जो अपने आप में अनूठी है वह है मणिकर्णिका घाट महाश्मशान में बाबा मसाननाथ के दर पर नगरवधुओं का नृत्य।

सुबह का ‘प्रोपेगेंडाबाज’ शाम को ‘पलटी मारे’ तो उसे शेखर गुप्ता कहते हैं: कोरोना वैक्सीन में ‘दाल-भात मूसलचंद’ का क्या काम

स्वदेशी वैक्सीन पर दिन-रात अफवाह फैलाने वाले आज पूछ रहे हैं कि सब को वैक्सीन पहले क्यों नहीं दिया? क्या कोरोना वॉरियर्स और बुजुर्गों को प्राथमिकता देना 'भूल' थी?

बोया पेड़ बबूल का, आम कहाँ से होएः दिल्ली में CM केजरीवाल के ‘मैं हूॅं ना’ पर मजदूरों की बेबस भीड़ क्यों भारी

केजरीवाल ने मज़दूरों से अपील करते हुए 'मैं हूॅं ना' के शाहरुख़ खान स्टाइल में कहा: सरकार आपका पूरा ख़याल रखेगी। फिर भी वही भीड़ क्यों?

‘भारत में कोरोना के डबल म्यूटेशन ने दुनिया को चिंता में डाला’: मीडिया द्वारा बनाए जा रहे ‘डर के माहौल’ का FactCheck

'ब्लूमबर्ग' की रिपोर्ट में दावा किया गया कि भारत के इस डबल म्यूटेशन ने दुनिया को चिंता में डाल दिया है। जानिए क्या है इसके पीछे की सच्चाई।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

‘मैं इसे किस करूँगी, हाथ लगा कर दिखा’: मास्क के लिए टोका तो पुलिस पर भड़की महिला, खुद को बताया SI की बेटी-UPSC टॉपर

महिला ने धमकी देते हुए कहा कि उसका बाप पुलिस में SI के पद पर है। साथ ही दिल्ली पुलिस को 'भिखमंगा' कह कर सम्बोधित किया।

नासिर ने बीड़ी सुलगाने के लिए माचिस जलाई, जलती तीली से लाइब्रेरी में आगः 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख

कर्नाटक के मैसूर की एक लाइब्रेरी में आग लगने से 3000 भगवद्गीता समेत 11 हजार पुस्तकें राख हो गई थी। पुलिस ने सैयद नासिर को गिरफ्तार किया है।

पुलिस अधिकारियों को अगवा कर मस्जिद में ले गए, DSP को किया टॉर्चरः सरकार से मोलभाव के बाद पाकिस्तान में छोड़े गए बंधक

पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार के साथ मोलभाव के बाद प्रतिबंधित इस्लामी संगठन TLP ने अगवा किए गए 11 पुलिसकर्मियों को रिहा कर दिया है।

‘F@#k Bhakts!… तुम्हारे पापा और अक्षय कुमार सुंदर सा मंदिर बनवा रहे हैं’: कोरोना पर घृणा की कॉमेडी, जानलेवा दवाई की काटी पर्ची

"Fuck Bhakts! इस परिस्थिति के लिए सीधे वही जिम्मेदार हैं। मैं अब भी देख रहा हूँ कि उनमें से अधिकतर अभी भी उनका (पीएम मोदी) बचाव कर रहे हैं।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,232FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe