Sunday, July 25, 2021
Homeदेश-समाजगोपालगंज रोहित जायसवाल मामला: बिहार DGP ने की बड़ी कार्रवाई, थानाध्यक्ष को किया सस्पेंड

गोपालगंज रोहित जायसवाल मामला: बिहार DGP ने की बड़ी कार्रवाई, थानाध्यक्ष को किया सस्पेंड

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने ये कार्रवाई की है। वे दो दिनों से इलाक़े के दौरे पर थे और ख़ुद सारी स्थिति का जायजा लेते हुए जाँच कर रहे थे। उन्होंने थानाध्यक्ष तिवारी को त्वरित प्रभाव से निलंबित करने का आदेश दिया है।

अपडेट: बिहार के डीजीपी की जॉंच के बाद हम सूचनाओं को अपडेट कर रहे हैं। पीड़ित पिता इस दौरान कई बार अपने बयान से मुकरे हैं। लिहाजा उनकी ओर से किए गए सांप्रदायिक दावों को हम हटा रहे हैं। हमारा मकसद किसी संप्रदाय की भावनाओं का आहत करना नहीं था। केवल पीड़ित पक्ष की बातें सामने रखना था। इस क्रम में किसी की भावनाओं को ठेस पहुॅंची हो तो हमे खेद है।

गोपालगंज के रोहित जायसवाल मामले ने नया मोड़ ले लिया है। कटेया थानाध्यक्ष अश्विनी तिवारी को सस्पेंड किए जाने की खबरें आ रही है। उन पर मृतक रोहित के माता-पिता के साथ अभद्रता के आरोप थे।

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने ये कार्रवाई की है। वे दो दिनों से इलाक़े के दौरे पर थे और ख़ुद सारी स्थिति का जायजा लेते हुए जाँच कर रहे थे। उन्होंने थानाध्यक्ष तिवारी को त्वरित प्रभाव से निलंबित करने का आदेश दिया है। उन्होंने गोपालगंज का दौरा कर इस पूरे मामले का संज्ञान लिया।

इसी थाना क्षेत्र के बेलाडीह गाँव में रोहित के परिवार की पकौड़े की दुकान थी। रोहित के पिता राजेश जायसवाल ने आरोप लगाया था कि उनके बेटे की हत्या कर नदी में लाश फेंक दी गई थी। उन्होंने थानाध्यक्ष अश्विनी तिवारी पर गाली-गलौज करने और अश्लील इशारे करने के आरोप लगाए थे। वो लगातार थानाध्यक्ष के निलंबन की माँग कर रहे थे। ऑपइंडिया के सूत्रों के अनुसार, आज दोपहर में तिवारी को सस्पेंड करने का निर्णय लिया गया।

थानाध्यक्ष अश्विनी तिवारी पर राजेश और उनकी पत्नी ने दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था। राजेश ने ऑपइंडिया से कहा था, “थानाध्यक्ष ने मुझे गाली दी, मेरी पत्नी को गाली दी और मारपीट की। ऐसा व्यवहार किया जाता है क्या? उन्होंने अपनी पैंट खोल कर अश्लील इशारे किए।” 

इस मामले में पुलिस ने पहले कहा था कि 5 आरोपितों को जेल भेज कर कार्रवाई की जा चुकी है। राजेश जायसवाल ने भी कहा था कि उनलोगों की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। हमने राजेश से बातचीत की रिकॉर्डिंग भी जारी की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान में भगवा ध्वज फाड़ने वाले कॉन्ग्रेस MLA को लोगों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा: वायरल वीडियो का FactChek

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि लाठी-डंडा लिए भीड़ एक शख्स को दौड़ा-दौड़ाकर पीट रही है।

दैनिक भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच कर रहा है IT विभाग: 700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा

मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,066FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe