Saturday, July 31, 2021
Homeदेश-समाजगला रेतकर BJP नेता की हत्या, झारखंड के गढ़वा में पुलिस कर रही हत्यारों...

गला रेतकर BJP नेता की हत्या, झारखंड के गढ़वा में पुलिस कर रही हत्यारों की तलाश

भाजपा नेता देर शाम अपनी मोटरसाइकिल से घर लौट रहे थे। तभी कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी गर्दन पर बेरहमी से वार कर दिया। जख्म इतना गहरा था कि उनकी मौक़े पर ही मौत हो गई।

झारखंड के गढ़वा जिले के रमकंडा में बुधवार (अक्टूबर 23, 2019) को भाजपा नेता गोपाल चौरसिया की गला रेतकर हत्या कर दी गई। घटना प्रखंड मुख्यालय के साप्ताहिक हाट में शाम के वक्त घटी। कहा जा रहा है जिस समय बदमाशों ने धारधार हथियार से भाजपा नेता पर हमला किया, उस वक्त वे बाइक से अपने घर लौट रहे थे।

हत्या की सूचना मिलते ही रमकंडा पुलिस मौक़े पर पहुँची और मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए एंबुलेंस से अस्पताल भिजवाया। पोस्टमॉर्टम होने के बाद पुलिस भाजपा नेता का शव परिजनों को सौंप देगी।

मीडिया में प्रकाशित जानकारी के अनुसार, भाजपा नेता बुधवार की देर शाम अपनी मोटरसाइकिल से घर लौट रहे थे। तभी कुछ अज्ञात लोगों ने उनकी गर्दन पर बेरहमी से वार कर दिया। जख्म इतना गहरा था कि चौरसिया की मौक़े पर ही मौत हो गई।

हालाँकि अभी हत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है, लेकिन इस तरह की घटना सुनकर इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ है। पुलिस पूरे मामले की जाँच में जुटी है।

जी न्यूज के अनुसार पुलिस उपाधीक्षक मनोज मेहता ने मामले में जानकारी देते हुए बताया है कि घटना रमकंडा थाना क्षेत्र के बाजार की है। जहाँ हत्या के बाद सनसनी फैल गई है

गौरतलब है कि बीते कुछ समय से भाजपा नेताओं पर होते हमले की घटना लगातार बढ़ रही है। लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं पर शुरू हुआ हिंसा का दौर अभी तक थमा नहीं है। मुर्शिदाबाद की घटना इसका सबसे बड़ा उदाहरण है। वहीं, उत्तर प्रदेश में भी आए दिन भाजपा नेताओं की मौत की खबरें हमें लगातार सुनने को मिल रही है। अब झारखंड में भी ऐसी खबर झकझोर देने वाली है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ये नंगे, इनके हाथ अपराध में सने, फिर भी शर्म इन्हें आती नहीं… क्योंकि ये है बॉलीवुड

राज कुंद्रा या गहना वशिष्ठ तो बस नाम हैं। यहाँ किसिम किसिम के अपराध हैं। हिंदूफोबिया है। खुद के गुनाहों पर अजीब चुप्पी है।

‘द प्रिंट’ ने डाला वामपंथी सरकार की नाकामी पर पर्दा: यूपी-बिहार की तुलना में केरल-महाराष्ट्र को साबित किया कोविड प्रबंधन का ‘सुपर हीरो’

जॉन का दावा है कि केरल और महाराष्ट्र पर इसलिए सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि वे कोविड-19 मामलों का बेहतर तरीके से पता लगा रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,242FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe