Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजगुलामी की याद दिलाता है सुल्तानपुर, सीएम योगी इसका नाम बदलकर कुशभवनपुर या कुशनगरी...

गुलामी की याद दिलाता है सुल्तानपुर, सीएम योगी इसका नाम बदलकर कुशभवनपुर या कुशनगरी करें: बीजेपी MLA ने लिखा पत्र

बीजेपी विधायक का कहना है कि अयोध्या से लगभग 60 किमी दूर सुल्तानपुर जिले को भगवान श्रीराम के पुत्र कुश ने बसाया था, जिसे पहले कुशभवनपुर नाम से जाना जाता था। माता सीता ने यहीं रुककर स्नान भी किया था, इसलिए इस घाट का नाम सीताकुण्ड घाट बोला जाता है।

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर का नाम बदलने की माँग लंबे समय से की जा रही है। लंभुआ विधानसभा से बीजेपी विधायक देवमणि द्विवेदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुशभवनपुर करने का आग्रह किया है। विधायक का कहना है, ”सुल्तानपुर वास्तव में कुशभवनपुर या कुशनगरी के नाम से जाना जाता था। सुल्तानपुर नाम उन्हें ‘गुलामी’ की याद दिलाता है।”

उन्होंने 17 अगस्त को लिखे अपने पत्र में कहा कि विदेशी आक्रांताओं द्वारा जबरन कुशभवनपुर का नाम बदलकर सुल्तानपुर कर दिया गया था। अत: जनभावना के दृष्टिगत इसका मूल नाम कुशभवनपुर वापस करने की घोषणा करें।

बीजेपी विधायक देवमणि द्विवेदी ने सीएम योगी को लिखा पत्र

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 2018 में नगर पालिका बोर्ड की बैठक में सुल्तानपुर का नाम बदलकर कुशभवनपुर करने का प्रस्ताव भी पास किया गया था। इसके बाद सुल्तानपुर के लम्भुआ से बीजेपी विधायक देवमणि द्विवेदी ने विधानसभा में जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव पेश किया था।

बीजेपी विधायक का कहना है कि अयोध्या से लगभग 60 किमी दूर सुल्तानपुर जिले को भगवान श्रीराम के पुत्र कुश ने बसाया था, जिसे पहले कुशभवनपुर नाम से जाना जाता था। माता सीता ने यहीं रुककर स्नान भी किया था, इसलिए इस घाट का नाम सीताकुण्ड घाट बोला जाता है।

बताया जा रहा है कि योगी सरकार भी सुल्तानपुर जिले का नाम भगवान श्रीराम के ज्येष्ठ पुत्र कुश के नाम पर कुशभवनपुर करने की तैयारी कर रही है। इस पर अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री की अध्यक्षता वाली प्रदेश कैबिनेट करेगी। फिलहाल नाम बदलने को लेकर कागजी कार्यवाही आरंभ हो गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

देश से अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता सरमा ने पेश...

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,789FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe