Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजममता ने कहा था - RAW ने करवाया बम ब्लास्ट, अब उसी के लिए...

ममता ने कहा था – RAW ने करवाया बम ब्लास्ट, अब उसी के लिए बांग्लादेशी आतंकी को 29 साल की सजा

पश्चिम बंगाल के बर्धमान में एक बम ब्लास्ट होता है। CM ममता बनर्जी इसके लिए देश की खुफिया एजेंसी RAW पर ही आरोप लगा देती हैं। लेकिन कोर्ट और कानून अपना काम करते रहती है। आतंकी को 29 साल की सजा सुनाई जाती है।

पश्चिम बंगाल के बर्धमान जिले में एक बम ब्लास्ट हुआ था। दिन था – 2 अक्टूबर 2014 – इस मामले में जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB, Jamat-ul-Mujaheedin of Bangladesh) के आतंकी शेख कौसर को 29 साल कैद की सजा सुनाई गई है।

एनआईए की विशेष अदालत ने बांग्लादेश के नागरिक और आतंकी शेख कौसर (दूसरा नाम बोना मिजान – Bona Mizan भी) को भारत के विरुद्ध युद्ध छेड़ने सहित कई अन्य धाराओं के तहत दोषी करार दिया।

NIA के जज सुभेंदु समांता ने शेख कौसर को 5 मामलों में 5-5 साल की सजा और 2 मामलों 2-2 साल की सजा सुनाई। कुल मिलाकर इस आतंकी को 29 साल की सजा हुई है।

बर्धमान बम ब्लास्ट: कब और कैसे

पश्चिम बंगाल के बर्धमान जिले में यह ब्लास्ट 2 अक्टूबर 2014 को हुआ था। खगरागढ़ इलाके के किराए के एक मकान की पहली मंजिल पर यह विस्फोट हुआ था। यहाँ जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (JMB) के आतंकियों द्वारा बम बनाया जा रहा था। बम बनाते समय ही किसी गलती से विस्फोट हो गया था। इस कारण 2 आतंकियों की मौत हो गई थी।

बर्धमान बम ब्लास्ट में 2 आतंकियों के मरने के साथ एक आतंकी घायल भी हुआ था। इस मामले में कुल 33 आरोपितों पर केस हुआ था। इनमें से शेख कौसर को मिली सजा के साथ 31 दोषी करार दिए जा चुके हैं। 2 आरोपित अभी तक फरार हैं।

बर्धमान बम ब्लास्ट: ममता बनर्जी की राजनीति

हमारे देश का नाम भारत है। इसी देश में एक राज्य है – नाम है पश्चिम बंगाल। उस राज्य की मुख्यमंत्री हैं – ममता बनर्जी। ममता बनर्जी के राज्य में बम विस्फोट होता है। भारत के संविधान की शपथ लेकर मुख्यमंत्री बनने वाली ममता बनर्जी भारत के संविधान के तहत ही काम करने वाली एक संस्था (RAW) पर बम विस्फोट कराने का आरोप लगा देती हैं।

ऊपर के पैराग्राफ को फिर से पढ़िए। ममता बनर्जी की राजनीति को समझिए। और फिर खबर का पहला पैराग्राफ पढ़िए। जिस आतंकी घटना के लिए राज्य की मुख्यमंत्री RAW पर आरोप लगा रही थीं, उसी घटना के लिए देश की अदालत एक आतंकी को 29 साल की सजा सुनाती है।

आपको बता दें कि जमात-उल-मुजाहिदीन (बांग्लादेश) के आतंकी शेख कौसर बिहार के बोधगया विस्फोट मामले में भी आरोपित है। बोधगया विस्फोट जनवरी 2018 में हुआ था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,125FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe