Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाज28 साल पहले घरवालों ने जिसे मरा बताया, वह कोरोना के डर से अमेरिका...

28 साल पहले घरवालों ने जिसे मरा बताया, वह कोरोना के डर से अमेरिका से भारत लौटा, CBI ने पकड़ा

सीबीआई से मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 1985 में निर्मल सिंह ने ढाई लाख की ठगी की थी। मामला हाईप्रोफाइल होने के बाद इसकी जाँच सीबीआई को सौंपी गई थी। मामले में कार्रवाई करते हुए वर्ष 1990 में जब सीबीआई ने आरोपित के खिलाफ में मुकदमा दर्ज किया। वर्ष 1991 में निर्मल सिंह के परिजनों ने उसे मरा हुआ दिखा दिया।

पंजाब के पटियाला से CBI ने एक ऐसे व्यक्ति को पकड़ा है जो 28 वर्ष पहले खुद को मरा दिखाकर अमेरिका भाग गया था। कोरोना के कारण उसे भारत लौटना पड़ा।

इस व्यक्ति की पहचान पटियाला के पंजाबीबाग निवासी 65 वर्षीय निर्मल सिंह के रूप में हुई है। करीब दो महीने पहले अमेरिका से लौटे निर्मल सिंह की जानकारी जैसे ही सीबीआई को हुई तो वह शनिवार (30 मई, 2020) को उसके घर पहुँच गई।

सीबीआई टीम के घर पहुँचते ही मामले की पोल खुलने पर निर्मल सिंह बेहोश हो गया। सीबीआई ने निर्मल सिंह और उसकी पत्‍नी को गिरफ्तार कर लिया। फिलहाल आरोपित को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सीबीआई के सब इंस्पेक्टर विकास कुमार ने बताया कि एंबुलेंस से पति-पत्नी दोनों को चंडीगढ़ ले जाया गया है। वहाँ मेडिकल करवाकर आगे की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि निर्मल सिंह की पत्‍नी ने एक यूट्यूब चैनल खोल रखा था, जिसे कुछ महीने पहले ही उसने एक दूसरे व्यक्ति को सौंप दिया था।

इसके बाद दोनों में विवाद हो गया था, जिसकी शिकायत सिविल लाइन थाना में भी दर्ज करवाई गई थी। दोनों में झगड़ा इस कदर बढ़ गया कि निर्मल सिंह के इस फर्जीवाड़े की सूचना सीबीआई तक भी पहुँच गई और टीम ने शनिवार को उसे पकड़ लिया। फिलहाल सीबीआई ने मदद करने के आरोप में उसकी पत्नी पीएस बाठ पर भी केस दर्ज किया है।

सीबीआई से मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 1985 में निर्मल सिंह ने ढाई लाख की ठगी की थी। मामला हाईप्रोफाइल होने के बाद इसकी जाँच सीबीआई को सौंपी गई थी। मामले में कार्रवाई करते हुए वर्ष 1990 में जब सीबीआई ने आरोपित के खिलाफ में मुकदमा दर्ज किया। वर्ष 1991 में निर्मल सिंह के परिजनों ने उसे मरा हुआ दिखा दिया।

इतना ही नहीं परिजनों ने एक व्यक्ति के शव को निर्मल का बताकर उसका अंतिम संस्कार भी करा दिया। परिजनों ने इसकी जानकारी सीबीआई को देने के साथ ही सबूत के तौर पर व्यक्ति के डेथ सर्टिफिकेट को भी जारी करवा लिया था। फिलहाल सीबीआई इस जाँच में जुट गई है कि मरने वाला व्यक्ति आखिर कौन था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -