Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजअभिषेक बनर्जी के करीबी TMC यूथ विंग महासचिव के ठिकानों पर CBI की रेड:...

अभिषेक बनर्जी के करीबी TMC यूथ विंग महासचिव के ठिकानों पर CBI की रेड: पशु तस्करी के मामले में लुक-आउट नोटिस जारी

विनय मिश्रा राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के करीबी हैं। सीबीआई ने ये कार्रवाई दो घोटालों से जुड़े मामलों में की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मिश्रा के अन्य ठिकानों पर भी जल्द छापेमारी हो सकती है। उनपर मवेशी तस्करी घोटाला और कोयला चोरी मामले में शामिल होने का आरोप है।

केंद्रीय जाँच एजेंसी (सीबीआई) ने पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में कई जगहों पर छापेमारी की है। यह छापेमारी पशु तस्करी मामले में हुई है, सीबीआई ने इस अभियान के तहत तृणमूल युवा कॉन्ग्रेस महासचिव विनय मिश्रा के ठिकाने पर भी छापा मारा। विनय मिश्रा काफी समय से फ़रार चल रहे हैं जिसकी वजह से सीबीआई ने उनके विरुद्ध लुकआउट नोटिस भी जारी किया है। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कोलकाता के कई दिग्गज नेता और व्यवसायी पशु तस्करी के मामले से जुड़े हुए हैं। इस मामले में जाँच अभियान आगे बढ़ाते हुए सीबीआई की टीम ने गुरुवार (31 दिसंबर 2020) को कोलकाता के विभिन्न क्षेत्रों में छापा मारा। इसी कड़ी में सीबीआई की एक टीम ने तृणमूल कॉन्ग्रेस के महासचिव विनय मिश्रा के ठिकाने पर भी छापा मारा।

खास बात है कि विनय मिश्रा राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के करीबी हैं। सीबीआई ने ये कार्रवाई दो घोटालों से जुड़े मामलों में की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मिश्रा के अन्य ठिकानों पर भी जल्द छापेमारी हो सकती है। उनपर मवेशी तस्करी घोटाला और कोयला चोरी मामले में शामिल होने का आरोप है। 

पुलिस ने मौके पर मौजूद तमाम अहम दस्तावेज़ों की जाँच की, इसके पहले सीबीआई विनय मिश्रा को कई बार नोटिस जारी कर चुकी है इसके बावजूद वह जाँच एजेंसी के सामने पेश नहीं हुए थे। नतीजतन अब उनके खिलाफ़ लुकाउट नोटिस जारी किया गया है। फ़िलहाल इस मामले में सीबीआई की तरफ़ से जाँच जारी है।

सीबीआई के इस एक्शन के बाद भारतीय जनता पार्टी के नेता कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा- “बंगाल के एक पावर ब्रोकर विनय मिश्रा के यहाँ सीबीआई के छापे के बाद बंगाल के उच्च अधिकारियों की आपातकालीन बैठक और मुख्यमंत्री एवं भाइयों के यहाँ हलचल, प्रदेश में चर्चा का विषय है!”

गौरतलब है कि भारत बांग्लादेश सीमा पर काफी बड़े पैमाने पर पशु तस्करी होती है। यह मामला आधिकारिक रूप से चर्चा में तब आया जब 21 सितंबर 2020 को सीबीआई की कोलकाता शाखा ने इस सम्बन्ध में मामला दर्ज किया था। इसके बाद सीबीआई ने 6 नवंबर को पशु तस्करी रैकेट के सरगना को गिरफ्तार किया था जो भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर अपना रैकेट चला रहा था। आरोपित एनैमुल हक़ मूल रूप से पश्चिम बंगाल का रहने वाला है और सीबीआई ने उसे दिल्ली से गिरफ्तार किया था। 

हक़ के साथ सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ़) के एक अधिकारी को भी गिरफ्तार किया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ केंद्रीय जाँच एजेंसी ने इस मामले के संबंध में गुरुवार को कोलकाता के दो चार्टर्ड अकाउंटेंट के दफ्तर पर छापा मारा था। 36 बीएसएफ़ बटालियन के पूर्व कमांडेंट सतीश कुमार (जिसकी तैनाती अभी रायपुर में है), एनैमुल हक़, अनारुल एसके और मोहम्मद गुलाम मुस्तफ़ा को सीबीआई ने हिरासत में लिया था। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe