Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजलालच देकर करा रहे थे दलित परिवारों का ईसाई धर्मांतरण: 3 महिलाएँ सहित 4...

लालच देकर करा रहे थे दलित परिवारों का ईसाई धर्मांतरण: 3 महिलाएँ सहित 4 गिरफ्तार, दक्षिण कोरिया की महिला मुख्य सरगना

गिरफ्तार लोगों में एक दक्षिण कोरिया की महिला भी है। उसे इस गिरोह का सरगना बताया जा रहा है। इस गिरोह में 3 महिलाएँ शामिल, ये मोटा पैकेज देकर दलितों को...

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में ईसाई धर्मांतरण के एक बड़े रैकेट का पर्दाफाश हुआ है। सूरजपुर थाना क्षेत्र में 4 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है, जो हिन्दू परिवारों को प्रलोभन देकर उनका धर्मांतरण कराते थे। गिरफ्तार आरोपितों में एक दक्षिण कोरिया की महिला भी शामिल है। उसे इस गिरोह का सरगना बताया जा रहा है। उन सभी से पूछताछ जारी है। आसपास के शहरों की पुलिस से भी संपर्क किया जा रहा है।

गौतम बुद्ध नगर पुलिस कमिश्नरेट ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि सूरजपुर पुलिस ने लोभ व लालच देकर धर्मांतरण कराने वाले 4 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है, जिनमें से 3 महिलाएँ हैं। पुलिस ने बताया कि इन्हें शनिवार (दिसंबर 19, 2020) को गिरफ्तार किया गया। ये सभी शातिर किस्म के अपराधी हैं और लालच देकर धर्म परिवर्तन कराते हैं। उन सबके खिलाफ धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश, 2020 के तहत कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने चारों अभियुक्तों की डिटेल्स भी सार्वजनिक की है:

  • सीमा, पिता का नाम – सेवालाल, निवासी – चरपतला, थाना मेझा जनपद प्रयागराज, वर्तमान पता – किराएदार कुंडे सिंह मास्टर का मकान, मलकपुर, थाना सूरजपुर
  • अनमोल, साक्षिण कोरिया, वर्तमान पता – 602 जेपी ग्रीन, थाना बीटा 2, ग्रेटर नोएडा
  • संध्या, पिता – देवी शंकर, निवासी – साझी, थाना क़ुराव, जनपद प्रयागराज, वर्तमान पता – किराएदार कुंडे सिंह मास्टर का मकान, मलकपुर, थाना सूरजपुर
  • उमेश कुमार, पिता – मेवालाल, निवासी – चरपतला, थाना मेझा जनपद प्रयागराज, वर्तमान पता – किराएदार कुंडे सिंह मास्टर का मकान, मलकपुर, थाना सूरजपुर

NBT की खबर के अनुसार, जो लोग धर्म परिवर्तन के लिए तैयार होते थे, उन्हें तुरंत मोटा पैकेज दिया जाता था। बच्चों की पढ़ाई के लिए किताबों से लेकर स्टेशनरी के समानों तक उपलब्ध कराया जाता था। दलित बस्ती के लोगों को खास कर के निशाना बनाया जाता था और गरीबों के बच्चों की मदद के नाम पर धर्मांतरण का खेल चलता था। दादरी और जारचा क्षेत्रों में पहले भी ऐसे मामले सामने आ चुके हैं।

इन सभी को दुर्गा गोल चक्कर से गिरफ्तार किया गया। ये सभी ईसाई धर्म अपनाने के लिए लोगों को लालच दिया करते थे। पुलिस को इनकी शिकायत मिली थी, जिसके बाद दबिश दी गई। जब ये लोग दो अलग-अलग परिवारों का धर्मांतरण करा रहे थे, तभी उन्हें गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार अभियुक्तों में सीमा, अनमोल और अनध्या महिलाएँ हैं। अभी तक की पूछताछ में इन्होंने कोई बड़ी जानकारी नहीं दी है।

इसी वर्ष अगस्त में उत्तर प्रदेश के ही एटा में एक शख्स को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। दिल्ली का 30 वर्षीय मनदीप कुमार एटा में रह रहा था, जहाँ वह लोगों को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने की कोशिश कर रहा था। आरोपित मनदीप कुमार भी अपनी पत्नी मार्गेट एंथोनी के साथ एटा में किराए के मकान पर रह रहा था। ग्रेटर नोएडा से गिरफ्तार आरोपित भी इसी तरह किराए में रह रहे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe