CAB के खिलाफ हिंसक प्रदर्शनों के बीच गुवाहाटी, शिलॉन्ग में कर्फ्यू में दी गई ढील

हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए असम की राजधानी गुवाहाटी और अन्य स्थानों पर सेना और असम राइफल्स की आठ टुकड़ियाँ तैनात की गई हैं। कर्नल पी खोंगसाई ने बताया कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को नियंत्रण में लाने के लिए गुवाहाटी, मोरीगाँव, सोनितपुर और डिब्रूगढ़ जिलों के नागरिक प्रशासन ने सेना और असम राइफल्स की माँग की है।

नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद से ही उत्तर पूर्वी राज्यों में तनाव की स्थिति है। असम, मेघालय और त्रिपुरा के हालात काफी तनावपूर्ण हैं। असम में 22 दिसंबर तक स्कूल और कॉलेजों को बंद किया गया है। सेना और पुलिस की तैनाती के बावजूद लोग कर्फ्यू का उल्लंघन कर रहे हैं। इन प्रदेशों के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुए हैं। इस बीच असम के गुवाहाटी में आज सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे के बीच कर्फ्यू में ढील दी गई है। हालाँकि सुरक्षा के मद्देनजर इंटरनेट सेवाएँ अभी भी बंद है। उधर कोहिमा में नगा स्टूडेंट्स फेडरेशन (NSF) ने आज 6 घंटे के लिए बंद का आह्वान किया है।

जानकारी के मुताबिक हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए असम की राजधानी गुवाहाटी और अन्य स्थानों पर सेना और असम राइफल्स की आठ टुकड़ियाँ तैनात की गई हैं। रक्षा जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसाई ने बताया कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को नियंत्रण में लाने के लिए गुवाहाटी के अलावा मोरीगाँव, सोनितपुर और डिब्रूगढ़ जिलों के नागरिक प्रशासन ने सेना और असम राइफल्स की माँग की है। इस विधेयक के खिलाफ प्रदर्शनकारियों के हिंसा पर उतर जाने के बाद बुधवार को सेना बुलाई गई थी।

असम में नागरिकता संशोधन बिल पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद अब कानून का रूप ले चुका है। इस बिल के विरोध की आवाज सबसे पहले असम से ही सुनाई दी थी। पिछले कुछ दिनों से असम में इस विरोध प्रदर्शन के दौरान कई जगहों पर आगजनी की घटनाएँ हुई हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि असम के हालातों को देखते हुए जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की गुवाहाटी में पीएम मोदी के साथ होने वाली मीटिंग को भी रद कर दिया गया है। विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार बताया कि जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे की प्रस्तावित भारत यात्रा के संदर्भ में दोनों पक्षों ने आम सहमति से फिलहाल यात्रा को टालने का निर्णय लिया है। गृह मंत्री अमित शाह का शिलॉन्ग दौरा भी रद्द कर दिया गया है। उन्हें रविवार को यहाँ एक कार्यक्रम में शामिल होना था।

वहीं नागरिकता अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर मेघालय के शिलांग में भी लगाए गए कर्फ्यू में सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक ढील दी गई है। 

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कंगना रनौत, आशा देवी
कंगना रनौत 'महिला-विरोधी' हैं, क्योंकि वो बलात्कारियों का समर्थन नहीं करतीं। वामपंथी गैंग नाराज़ है, क्योंकि वो चाहता है कि कंगना अँग्रेजों के तलवे चाटे और महाभारत को 'मिथक' बताएँ। न्यूज़लॉन्ड्री निर्भया की माँ को उपदेश देकर कह रहा है ये 'न्याय' नहीं बल्कि 'बदला' है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,833फैंसलाइक करें
35,978फॉलोवर्सफॉलो करें
163,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: