Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाज'उसे कभी मत बताना, मैं ही उसकी माँ हूँ': बच्ची के जैविक माता-पिता निकले...

‘उसे कभी मत बताना, मैं ही उसकी माँ हूँ’: बच्ची के जैविक माता-पिता निकले भाई-बहन, कस्टडी को लेकर महिला ने रखी शर्त

महिला ने अदालत से कहा, "मैं बच्ची को नहीं रखना चाहती हूँ, क्योंकि मुझे समाज का डर है। अगर कोई मुझसे पूछेगा कि वह किसकी संतान है, तो मुझे इस सवाल का जवाब देने में शर्म महसूस होगी।"

गुजरात में कलोल (Kalol, Gujarat) की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने सात साल तक अनाथालय में रहने वाली सात वर्षीय बच्ची की कस्टडी अब उसके पिता को दे दी है। माँ ने बच्ची को पिता को सौंपने से पहले एक शर्त रखी है कि वह जिंदगी में उसे कभी नहीं बताएगा कि वह उसकी माँ है और कभी भी उसे उसके पास नहीं लाएगा।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट ने माँ के व्यवहार पर हैरानी और दुख जताया है, जो बच्ची को अपने पास रखने के लिए तैयार नहीं है। बच्ची के जैविक माता-पिता चचेरे भाई-बहन हैं, जो मेहसाणा के राणासन गाँव के रहने वाले हैं। उनकी शादी नहीं हुई है। दोनों के बीच अवैध संबंधों के बाद इस बच्ची का जन्म हुआ था। वे इसका गर्भपात भी नहीं करा सके, इसलिए दोनों ने इसे गुपचुप तरीके से जन्म देने की योजना बनाई।

बच्ची के जन्म के दूसरे दिन यानी (5 अक्टूबर 2015) को दोनों अर्जुनपुरा गाँव में एक बस स्टॉप के पास पहुँचे। यहाँ दोनों बच्ची को छोड़ने वाले थे, तभी कुछ स्थानीय लोगों ने उन्हें ऐसा करते हुए देख लिया और पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने खिलाफ बच्ची को अज्ञात जगह पर छोड़कर भागने के मामले में एफआईआर दर्ज की और बच्ची को गाँधी नगर सिविल अस्पताल ले जाया गया। अब उसे कालूपुर के एक अनाथालय में रखा गया है।

बताया जा रहा है कि मजिस्ट्रेट अदालत ने सबूतों के अभाव में बच्ची के जैविक माता-पिता को बरी कर दिया था। हालाँकि, पिता अपनी बच्ची से बेहद प्यार करता था, उसने उसे पाने के लिए कोर्ट में आवेदन किया कि वह बच्ची की कस्टडी चाहता है। अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट दीपा ठाकर ने पिता के अनुरोध पर गौर किया।

अदालत ने निराशा व्यक्त करते हुए कहा कि माँ को बच्ची के प्रति कोई स्नेह नहीं था, जबकि पिता ने उसकी कस्टडी पर जोर दिया, क्योंकि वह नहीं चाहता था कि उसकी बच्ची को सब अनाथ कहें। अदालत ने अपने आदेश में जैविक माँ के बयानों को भी विस्तृत रूप से दर्ज किया है। उसने कहा था, “अगर बच्चा किसी को दिया जाता है तो मुझे कोई समस्या नहीं है, लेकिन उसका मेरे साथ कोई संबंध नहीं होना चाहिए।”

महिला ने अदालत से कहा, “मैं बच्ची को नहीं रखना चाहती हूँ, क्योंकि मुझे समाज का डर है। अगर कोई मुझसे पूछेगा कि वह किसकी संतान है, तो मुझे इस सवाल का जवाब देने में शर्म महसूस होगी। अगर बेटी की कस्टडी उसके पिता को दी जाती है तो मेरी केवल यही शर्त होगी कि वह उसे मेरे पास कभी नहीं लाएगा और उसे कभी यह नहीं बताएगा कि मैं ही उसकी माँ हूँ।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दुबई में चल रही हनुमत कथा, शेखों ने गुलाब के फूल बरसा कर बागेश्वर बाबा का किया स्वागत: गोल्डन वीजा पर अबुधाबी के मंदिर...

सुपरस्टार रजनीकांत ने अबुधाबी के BAPS मंदिर में दर्शन किया। वहीं दुबई के बुर्ज खलीफा में बागेश्वर धाम वाले बाबा का भव्य स्वागत हुआ।

हिरोइन लैला खान की हत्या मामले में सौतेले अब्बा को हुई ‘सजा-ए-मौत’: फार्म हाउस में गाड़ दी परिवार के 6 लोगों की लाश, 13...

बॉलीवुड अभिनेत्री लैला खान और उनके पूरे परिवार की हत्या मामले में अभिनेत्री के सौतेले पिता को कोर्ट ने सजा-ए-मौत सुनाई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -