Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाज4 दिन पहले ही रेप आरोपित लाया गया था तिहाड़, पीड़िता के कोरोना पॉजिटिव...

4 दिन पहले ही रेप आरोपित लाया गया था तिहाड़, पीड़िता के कोरोना पॉजिटिव निकलते ही जेल में मचा हड़कंप

आरोपित की उम्र 29 वर्ष है और उसे 4 दिन पहले ही दुष्कर्म और पॉक्सो के केस में तिहाड़ जेल लाया गया था। संदेह के आधार पर अब प्रशासन ने दो अन्य बंदियों का भी कोरोना टेस्ट करवाया है। अब फिलहाल पुलिस सबकी रिपोर्ट्स का इंतजार कर रही है।

कोरोना वायरस फैलने का खतरा अब दिल्ली की तिहाड़ जेल में भी बढ़ गया है। खबर है यहाँ कुछ दिन पहले एक रेप आरोपित जेल नंबर 2 में बंद किया गया था। लेकिन कुछ ही दिन में उसे आइसोलेट करने की नौबत आ गई।

सूचना के अनुसार, आरोपित के पकड़े जाने के बाद पुलिस को इस बारे में 9 मई को पता चला कि जिस लड़की का कैदी ने रेप किया, उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है। जिसके बाद जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया और फौरन आरोपित को आइसोलेट किया गया।

आरोपित की उम्र 29 वर्ष है और उसे 4 दिन पहले ही दुष्कर्म और पॉक्सो के केस में तिहाड़ जेल लाया गया था। संदेह के आधार पर अब प्रशासन ने दो अन्य बंदियों का भी कोरोना टेस्ट करवाया है। अब फिलहाल पुलिस सबकी रिपोर्ट्स का इंतजार कर रही है।

न्यूज 18 की रिपोर्ट के अनुसार, तिहाड़ जेल प्रशासन के डीजी ने कहा, “जेल में आए सभी नए कैदियों को अलग सेल में 14 दिन तक क्‍वारंटाइन में रखा जाता है। इसलिए ज़्यादा परेशानी की कोई बात नहीं है।”

उन्होंने बताया कि तिहाड़ जेल में सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करवाया जा रहा है। यही वजह है कि तिहाड़ अब भी कोरोना से अछूता है।

गौरतलब है कि जेल नम्बर-2 में ही बिहार (Bihar) के बाहुबली माफिया डॉन शहाबुद्दीन और अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन भी बंद हैं। लेकिन, ये किसी के सम्पर्क में नहीं आए हैं। इनका जेल में अलग सेल है।

यहाँ बता दें, अभी तक तिहाड़ जेल से कोरोना का कोई मामला सामने नहीं आया है। वहाँ एहतियातन इस समय दिल्ली की तिहाड़ में कई कैदी जमानत पर छोड़े गए हैं और कइयों को दूसरी जेलों में शिफ्ट कर दिया गया है। जबकि मुंबई की ऑर्थर रोड जेल में अब तक 184 लोग कोरोना पॉजिटिव आ गए हैं। इनमें कैदी और जेल का स्टाफ दोनों शामिल हैं।

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो 19 अप्रैल तक तिहाड़ से 2962 कैदियों को परोल पर रिहा किया गया था, इस दौरान जो बंदी अस्वस्थ थे और जिन पर आरोप ज्यादा गंभीर नहीं है, उन्हें प्रशासन ने रिहा करने में प्राथमिकता दी थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

मुस्लिम बहुल किशनगंज के सरपंच से बनवाया था आईडी कार्ड, पश्चिमी यूपी के युवक करते थे मदद: Pak आतंकी अशरफ ने किए कई खुलासे

पाकिस्तानी आतंकी ने 2010 में तुर्कमागन गेट में हैंडीक्राफ्ट का काम शुरू किया। 2012 में उसने ज्वेलरी शॉप भी ओपन की थी। 2014 में जादू-टोना करना भी सीखा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,004FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe