Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजमुस्लिम महिलाओं की फोटो नीलामी का मामला: दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दर्ज...

मुस्लिम महिलाओं की फोटो नीलामी का मामला: दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दर्ज की ‘सुल्ली डील’ के खिलाफ FIR

NCW के द्वारा यह कहा गया है कि मुस्लिम महिलाओं की फोटो को नीलामी के लिए उपयोग करने के इस मामले में उपयुक्त धाराओं में एफआईआर दर्ज की जाए ताकि दोषियों को कड़ी सजा मिल सके। साथ ही NCW ने 10 दिन के अंदर इस मामले में की गई कार्रवाई की सूचना आयोग को दिए जाने का आदेश दिया है।

मुस्लिम महिलाओं की फोटो चुराने और इंटरनेट पर उन्हें नीलामी के लिए रखने के मामले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एफआईआर दर्ज की है। यह एफआईआर विवादित मोबाइल एप्लीकेशन ‘सुल्ली डील’ के खिलाफ दर्ज की गई है, जहाँ मुस्लिम महिलाओं की फोटो का इस्तेमाल बिना उनकी जानकारी के किया जा रहा था। अब इस मामले में जाँच की जाएगी।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने बताया कि नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल पर सुल्ली डील मोबाइल एप्लीकेशन के खिलाफ शिकायत दर्ज हुई थी। इसके बाद जाँच शुरू हुई और कार्रवाई की गई। इस मामले में होस्टिंग प्लेटफॉर्म गिटहब को भो नोटिस भेजा गया है। सुल्ली डील नाम का यह मोबाइल एप्लीकेशन गिटहब नामक होस्टिंग प्लेटफ़ॉर्म पर बनाया गया था।

इसके अलावा, राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने भी इस मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए दिल्ली पुलिस को कार्रवाई के लिए कहा। NCW की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को इस मामले में जाँच करने और एफआईआर दर्ज करने के लिए कहा। NCW के द्वारा यह कहा गया है कि मुस्लिम महिलाओं की फोटो को नीलामी के लिए उपयोग करने के इस मामले में उपयुक्त धाराओं में एफआईआर दर्ज की जाए ताकि दोषियों को कड़ी सजा मिल सके। साथ ही NCW ने 10 दिन के अंदर इस मामले में की गई कार्रवाई की सूचना आयोग को दिए जाने का आदेश दिया है। NCW के द्वारा लिखे गए पत्र की एक कॉपी दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट के डीसीपी को भी भेजी गई है।

राष्ट्रीय महिला आयोग के द्वारा लिखा गया पत्र

बीते रविवार को ओपन सोर्स प्लेटफ़ॉर्म पर सुल्ली डील नाम का एक मोबाइल एप्लीकेशन बनाया गया। इस एप्लीकेशन में सोशल मीडिया से कई मुस्लिम महिलाओं की फोटोज को उठाया गया और उन्हें मोबाइल एप्लीकेशन पर अपलोड किया गया। इस एप्लीकेशन में इन सभी मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों, उनके नाम और उनके ट्विटर हैन्डल की जानकारी दी गई थी। एप्लीकेशन में दिए गए लिंक पर क्लिक करने के बाद इन महिलाओं की सारी जानकारी क्लिक करने वाले यूजर के साथ साझा की जा रही थी। यह भी कहा जा रहा है कि अपनी फोटो वायरल होने के बाद की महिलाओं को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म छोड़ना पड़ा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘माँस फेंक करते हैं परेशान’: 81 हिन्दू परिवारों ने लगाए ‘मकान बिकाऊ है’ के पोस्टर, एक्शन में मुरादाबाद पुलिस

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद स्थित कटघर थाना क्षेत्र में स्थित इस कॉलोनी में 81 हिन्दू परिवारों ने 'मकान बिकाऊ है' के पोस्टर लगा दिए हैं। वहाँ बसे मुस्लिमों पर परेशान करने के आरोप।

4 साल में 4.5 करोड़ को मरवाया, हिटलर-स्टालिन से भी बड़ा तानाशाह: ओलंपिक में चीन के खिलाड़ियों ने पहना उसका बैज

जापान की राजधानी टोक्यो में चल रहे ओलंपिक खेलों में चीन के दो खिलाड़ियों को स्वर्ण पदक जीतने के बाद माओ का बैज पहने हुए देखा गया। विरोध शुरू।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,740FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe