Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजदिल्ली, यूपी के 7 रेलवे स्टेशनों को मिली 72 घंटे में बम से उड़ाने...

दिल्ली, यूपी के 7 रेलवे स्टेशनों को मिली 72 घंटे में बम से उड़ाने की धमकी, 1 गिरफ़्तार

ईमेल गेटवे से डेटा, आईपी अड्रेस और अन्य जानकारियों के माध्यम से उत्तर प्रदेश की पुलिस ने मेरठ से एक युवक को गिरफ़्तार किया है।

दिल्ली और उत्तर प्रदेश के तक़रीबन सात रेलवे स्टेशन आतंकियों के निशाने पर हैं। इन सात स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी एक आतंकवादी संगठन ने ईमेल के ज़रिए दी है। ख़बर के अनुसार, धमकी भरा ईमेल लखनऊ, गाज़ियाबाद और शामली के पुलिस अधिकारियों की ईमेल आईडी पर आया है। शामली पुलिस ने केस दर्ज करते हुए एक युवक को गिरफ़्तार किया है। इस मामले में एटीएस ने भी शामली पहुँचकर जाँच पड़ताल शुरू कर दी है। साथ ही यूपी की अन्य सुरक्षा और खुफ़िया एजेंसी भी उस युवक से पूछताछ कर रही है।

बता दें कि रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने की धमकी उत्तर प्रदेश के सुरक्षा मुख्यालय लखनऊ, सीबीसीआईडी मुख्यालय, इंटेलीजेंस मुख्यालय सहित गाज़ियाबाद और शामली एसएसपी की ईमेल आईडी पर मिली है। दिल्ली का निज़ामुद्दीन और यूपी के गाज़ियाबाद, मेरठ शामली सहित करीब सात रेलवे स्टेशनों का नाम इस धमकी भरे ईमेल में शामिल है। ईमेल में इस बात का भी ज़िक्र है कि बताए गए रेलवे स्टेशनों को 72 घंटो में उड़ा दिया जाएगा। गाज़ियाबाद के एसएसपी उपेंद्र अग्रवाल ने इस तरह के ईमेल मिलने की पुष्टि की है। उन्होंने जानकारी दी कि इस सिलसिले में पुलिस की ओर से शामली की शहर कोतवाली में मामला दर्ज कर लिए गया है। एटीएस, साइबर सेल और सर्विलांस टीमें जाँच में जुट गई हैं।

जानकारी के अनुसार, रेलवे स्टेशनों को बम से उड़ाने के लिए इस तरह का धमकी भरा ईमेल पहली बार भेजा गया है। फ़िलहाल लखनऊ से लेकर मेरठ जोन के पुलिस अधिकारी इस मामले की जाँच-पड़ताल में जुट गए हैं। ईमेल गेटवे से डेटा, आईपी एड्रेस और अन्य जानकारियों के माध्यम से शामली पुलिस ने बुधवार (15 मई) को मेरठ से एक युवक को गिरफ़्तार किया था। पुलिस इसकी तह तक पहुँचने की कोशिश कर रही है। पुलिस यह भी जानने में जुटी हुई है कि जिस युवक ने यह ईमेल भेजा है वो किसके कहने पर भेजा है और क्यों? सुरक्षा एजेंसियाँ यह जानने में भी जुटी हुई हैं कि आरोपी युवक का ब्रेनवॉश करने में किस आतंकी संगठन का हाथ है। इन सभी सवालों के जवाब मिल जाने पर ही पता चल सकेगा कि इस पूरी साज़िश में आख़िर किसका हाथ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पीवी सिंधु ने ओलम्पिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता: वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग के बाद बैडमिंटन ने दिलाया देश को तीसरा मेडल

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता। चीनी खिलाड़ी को 21-13, 21-15 से हराया।

PM मोदी रचने जा रहे एक और इतिहास: 75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले बनेंगे पहले भारतीय प्रधानमंत्री

75 साल में ये पहला मौका है, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,477FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe