Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजभाई ने अपनी बहन की दोनों आँखें फोड़ दीं... क्योंकि उसने 100 रुपए का...

भाई ने अपनी बहन की दोनों आँखें फोड़ दीं… क्योंकि उसने 100 रुपए का सूट खरीद लिया

रक्षाबंधन पर जिस छोटे भाई को राखी बाँध कर उसे खुश देखना चाह रही होगी, उसी भाई ने दोनों आँखें फोड़ दीं। वो भी सिर्फ इसलिए क्योंकि बहन ने 100 रुपए का सूट खरीद लिया था।

दिल्ली में द्वारका के पास एक परिवार रहता है। परिवार के कुछ सदस्यों में 17 साल का एक लड़का है, उससे 3 साल बड़ी एक बहन है। मतलब एक वयस्क है और दूसरा वयस्क होने की कगार पर है। इनके माँ-बाप फिलहाल दिल्ली में नहीं हैं, अपने गृह राज्य बिहार गए हुए हैं। इसी बीच भाई-बहन में कुछ ऐसा होता है, जो आने वाले रक्षाबंधन पर एक कलंक के समान है।

20 साल की बहन 100 रुपए में अपनी पसंद की एक ड्रेस खरीदती है। घर आती है। लेकिन भाई को इस बात पर गुस्सा आ जाता है। वो बड़ी बहन पर हमला कर देता है, मारता-पिटता है और उसकी आँखें फोड़ डालता है। इतना ही नहीं, लगातार बह रहे खून के बावजूद उसने अपनी बहन को घर में बंद कर दिया, किसी भी डॉक्टर या पास के अस्पताल ले जाने से इनकार कर दिया।

इस बर्बर घटना का पता तब चलता है जब दिल्ली महिला आयोग (DCW) की पंचायत टीम इलाके में डोर टू डोर विजिट के दौरान लड़की के रोने की आवाज सुनी। जब उन्होंने इस बारे में पूछताछ की, तो पड़ोसियों ने बताया कि आरोपित लड़का अक्सर गालियाँ देता है और अपनी बहनों (मतलब पीड़िता के अलावा भी और बहनें उसकी प्रताड़ना की शिकार हैं) की पिटाई करता है।

इस संबंध में जब DCW पंचायत टीम ने पीड़िता के घर में घुसने और उसकी स्थिति जानने की कोशिश की, तो आरोपित लड़के ने गाली दी और उन पर हमला करने की धमकी भी दी। घर में घुसने में किसी तरह वे लोग कामयाब हुए। यह टीम जब घर के अंदर गई तो दंग रह गए यह देखकर कि लड़की फर्श पर पड़ी थी। चोटों से उसका चेहरा सूज गया था और उसे खून बह रहा था।

DCW पंचायत टीम ने पीड़िता को सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया, जहाँ उसका इलाज किया जा रहा है। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है और वह सदमे में है। डॉक्टरों का कहना है कि वे सूजन कम होने का इंतजार कर रहे हैं, तभी उसकी आँखों को होने वाले नुकसान का सही आकलन कर सकेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

हॉकी में ब्रॉन्ज मेडल: 4 दशक के बाद टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम ने रचा इतिहास, जर्मनी को 5-4 से हराया

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जर्मनी को करारी शिकस्त देकर ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा कर लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe