Monday, June 17, 2024
Homeराजनीति'शीला दीक्षित के बंगले में 10 AC, कलेजा काँप जाता है': घर चमकाने पर...

‘शीला दीक्षित के बंगले में 10 AC, कलेजा काँप जाता है’: घर चमकाने पर ₹45 करोड़ खर्च करने वाले CM केजरीवाल का पुराना ट्वीट, लोग बोले – ये सबसे बड़ा फ्रॉड

इतना ही नहीं, अरविंद केजरीवाल ने सिविल लाइंस के फ्लैगस्टॉफ में स्थित 4.7 एकड़ में फैले सीएम आवास को विस्तार देकर 7.3 एकड़ में करने का निर्णय लिया है। इसके लिए IAS और जज जैसे कुछ सरकारी अधिकारियों को घर खाली करने का नोटिस दिया गया था। ये घर 2.6 एकड़ जमीन पर बने हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने सरकारी आवास सीएम आवास को चमकाने में 45 करोड़ रुपए खर्च कर दिए है। उन्होंने किचन से लेकर बाथरूम और आवास के पर्दों पर तक करोड़ों रुपए खर्च किए। एक समय ऐसा भी था, जब सीएम केजरीवाल कॉन्ग्रेस की तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के घर में लगे एयर कंडीशन पर सवाल उठाते थे।

अरविंद केजरीवाल पर अक्सर सवाल उठाने वाले उनके पूर्व के साथी कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल का एक पुराना ट्वीट शेयर कर लिखा है, “इससे बड़ा फ्रॉड देश की राजनीति में नहीं है”। इस ट्वीट में अरविंद केजरीवाल ने शीला दीक्षित पर सवाल उठाए हैं और कहा है कि उन्होंने अपने बाथरूम में भी एसी लगा रखा है।

अरविंद केजरीवाल ने 27 अक्टूबर 2013 को किए अपने ट्वीट में लिखा है, “दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित जी के घर में 10 एसी लगे हुए हैं। मैंने तो सुना है कि उनके बाथरूम में भी एसी लगा हुआ है। कौन भरता है उनके एसी का बिला? मैं और आप भरते हैं! मेरा तो कलेजा काँप उठता है, यह सोचकर कि जब दिल्ली की 40% जनता झुग्गियों में रहती है, तब कोई मुख्यमंत्री कैसे एक आलीशान घर में रह सकता है!”

टाइम्स नाउ नवभारत’ ने ‘शीश महल’ नाम के अपने ऑपरेशन में जानकारी दी थी कि CM आवास में 8-8 लाख रुपए के पर्दे लगाए गए। केवल पर्दों पर ही 1 करोड़ रुपए खर्च कर दिए गए। कुल 23 पर्दों का ऑर्डर दिया गया था, जिनमें से कुछ अभी लगने बाकी हैं और कुछ लगाए दिए गए हैं। शुरुआत में 8 पर्दे लगाए गए, जिनकी कीमत 45 लाख रुपए थी। दूसरे चरण में 15 पर्दों का ऑर्डर दिया गया, जो 51 लाख रुपए के थे।

इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री आवास में लगाने के लिए वियतनाम से मार्बल मँगाया गया। इसे ‘डियोर पर्ल मार्बल’ बोला जाता है, जो सुपीरियर क्वालिटी का होता है। इसकी कीमत 15 लाख रुपए होती है। इसे लगाने के लिए भी अलग तरीके से फिटिंग की जाती है। AAP के राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा ने इस पर सफाई देते हुए कहा था कि वो बँगला 1942 का बना है, वहाँ छत से पानी टपकती थी और बुजुर्गों को परेशानी होती थी।

चैनल के ऑपरेशन में यह बात भी सामने आई कि सीएम केजरीवाल के मुख्यमंत्री आवास में एक-दो नहीं, बल्कि 15 बाथरूम हैं और हर बाथरूम को सजाने-सँवारने में एक-एक लाख रुपए खर्च किए गए हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल के सरकारी आवास में 10 लाख से अधिक रकम सिर्फ सैनिट्री फिटिंग पर खर्च की गई।

CM आवास में 8-8 लाख रुपए के पर्दे लगाए गए। केवल पर्दों पर ही 1 करोड़ रुपए खर्च कर दिए गए। कुल 23 पर्दों का ऑर्डर दिया गया था, जिनमें से कुछ अभी लगने बाकी हैं और कुछ लगाए दिए गए हैं। शुरुआत में 8 पर्दे लगाए गए, जिनकी कीमत 45 लाख रुपए थी। दूसरे चरण में 15 पर्दों का ऑर्डर दिया गया, जो 51 लाख रुपए के थे।

चैनल के मुताबिक, सीएम केजरीवाल के आवास में बिजली के विभिन्न सामान पर 2.58 करोड़ रुपए, किचन एवं अप्लायंस पर 1.10 करोड़ रुपए, इंटीरियर डेकोरेशन (वुडेन फ्लोर, वुडन डोर और यूपीवीसी डोर पर) पर 11.30 करोड़ रुपए, हॉट वॉटर जनरेटर पर 25 लाख रुपए और सुपीरियर कंसल्टेंसी (सिर्फ बताने के लिए) के लिए एक करोड़ रुपए खर्च किए गए।

इतना ही नहीं, अरविंद केजरीवाल ने सिविल लाइंस के फ्लैगस्टॉफ में स्थित 4.7 एकड़ में फैले सीएम आवास को विस्तार देकर 7.3 एकड़ में करने का निर्णय लिया है। इसके लिए IAS और जज जैसे कुछ सरकारी अधिकारियों को घर खाली करने का नोटिस दिया गया था। ये घर 2.6 एकड़ जमीन पर बने हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी की सरकार ने यह फैसला 28 जुलाई 2021 को लिया गया था। इसके फौरन बाद अगस्त 2021 में 2 बंगलों और 8 फ्लैट्स को नोटिस भेज इसे खाली करा दिया। ये दोनों बंगले फ्लैगस्टॉफ रोड पर ही हैं, जबकि फ्लैट राजपुर रोड पर आते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -