Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजस्पेशल ट्रेन से बेंगलुरु पहुँचे 70 यात्रियों का क्वारंटाइन से इनकार, वापस दिल्ली लौटाने...

स्पेशल ट्रेन से बेंगलुरु पहुँचे 70 यात्रियों का क्वारंटाइन से इनकार, वापस दिल्ली लौटाने की तैयारी

लॉकडाउन के बीच देश में सीमित रेल सेवाओं को शुरू कर इन दिनों केन्द्र दूरदराज इलाकों में फँसे लोगों को घर भेजने की प्रक्रिया में लगी हुई है। इसी के तहत आज करीब 1000 यात्रियों को लेकर दिल्ली से पहली ट्रेन कर्नाटक के बेंगलुरू स्टेशन पहुँची।

दिल्ली से स्पेशल ट्रेन से गुरुवार(14 मई, 2020) को कर्नाटक पहुॅंचे करीब 70 यात्रियों ने क्वारंटाइन सेंटर जाने से इनकार कर दिया। हंगामे के बाद उन्होंने वापस दिल्ली भेजने की मॉंग की। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार उन्हें दिल्ली आने वाली ट्रेन में अतिरिक्त कोच लगाकर वापस लौटाने की तैयारी की जा रही है।

लॉकडाउन के बीच देश में सीमित रेल सेवाओं को शुरू कर इन दिनों केन्द्र दूरदराज इलाकों में फँसे लोगों को घर भेजने की प्रक्रिया में लगी हुई है। इसी के तहत आज करीब 1000 यात्रियों को लेकर दिल्ली से पहली ट्रेन कर्नाटक के बेंगलुरू स्टेशन पहुँची।

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा बनाए गए नियमों के मुताबिक प्रवासी लोगों की जाँच की जाएगी और उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन केन्द्रों में रखा जाएगा। लेकिन दिल्ली से बेंगलुरू रेलवे स्टेशन पहुँचे करीब 70 यात्रियों ने क्वारंटाइन केन्द्र में भर्ती होने से इनकार कर दिया। गुस्साए यात्रियों ने पुलिस के माध्यम से रेलवे के अधिकारियों से माँग की कि वह उन्हें दिल्ली वापस भेज दें। यात्रियों ने आरोप लगाया कि अनिवार्य रूप से क्वारंटाइन किए जाने की जानकारी पहले से नहीं दी गई थी।

रेलवे स्टेशन पर हंगामा करते यात्रियों का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें देखा जा सकता है कि कुछ यात्री सरकार द्वारा कोरोना की रोकथाम के लिए बनाए गए नियमों का उल्लंघन करते हुए क्वारंटाइन केन्द्रों में जाने से इनकार कर रहे हैं। बेंगलुरु रेलवे स्टेशन पर खड़े होकर ताली बजाते हुए वे ‘नो क्वारंटाइन’ के नारे लगा रहे हैं।

रेलवे स्टेशन पर मौजूद सभी यात्रियों ने मुँह पर मास्क या रुमाल लगाया हुआ है, इस दौरान वीडियो में पुलिस फोर्स भी मौके पर तैनात दिखाई दे रही है। रेलवे के एक अधिकारी ने पीटीआई को बताया “दिल्ली से आए अधिकांश यात्री क्वारंटाइन सेंटरों के लिए जा चुके हैं।

रेलवे स्टेशन पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद पुलिस महानिरीक्षक (रेलवे) डी रूपा ने बेंगलुरु के डिवीजनल रेलवे प्रबंधक को पत्र लिखा कि जहाँ से यात्री सवार हुए थे वहाँ के लिए एक अतिरिक्त बोगी जोड़ने के लिए कहा है।

पत्र में रूपा ने कहा कि नई दिल्ली से आए कुछ यात्रियों ने 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन होने से इनकार कर दिया है, जो कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए बनाए गए नियमों का ही एक हिस्सा है। उन्होंने बताया कि इन यात्रियों ने बेंगलुरु से दिल्ली वापस भेजे जाने की माँग की है। इतना ही नहीं इन लोगों का कहना है कि वापस जाने की टिकट का खर्च उठाने के लिए भी तैयार हैं।

रूपा ने DRM को लिखा है कि यात्री अपना खर्च स्वयं वहन करने के लिए तैयार हैं, उन्होंने अधिकारियों से अनुरोध किया कि बेंगलुरु से सुबह 8.30 बजे जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस 20691 में एक और बोगी जोड़ने की व्यवस्था करें।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘और गिरफ़्तारी की बात मत करो, वरना सरेंडर करने वाले साथियों को भी छुड़ा लेंगे’: निहंगों की पुलिस को धमकी, दलित लखबीर को बताया...

दलित लखबीर की हत्या पर निहंग बाबा राजा राम सिंह ने कहा कि हमारे साथियों को मजबूरन सज़ा देनी पड़ी, क्योंकि किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की।

CPI(M) सरकार ने महादेव मंदिर पर जमाया कब्ज़ा, ताला तोड़ घुसी पुलिस: केरल में हिन्दुओं का प्रदर्शन, कइयों ने की आत्मदाह की कोशिश

श्रद्धालुओं के भारी विरोध के बावजूद केरल की CPI(M) सरकार ने कन्नूर में स्थित मत्तनूर महादेव मंदिर का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,325FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe