Saturday, October 16, 2021
Homeदेश-समाजडॉ हर्षवर्धन का बाबा रामदेव को पत्र, कहा- एलोपैथ पर आपके बयान ने किया...

डॉ हर्षवर्धन का बाबा रामदेव को पत्र, कहा- एलोपैथ पर आपके बयान ने किया कोरोना योद्धाओं का अपमान, वापस लें

अपनी चिट्ठी में डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आज यदि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की मृत्यु दर सिर्फ 1.13% और रिकवरी रेट 88% है तो उसके पीछे एलोपैथी और उसके डॉक्टरों का बड़ा योगदान है। ऐसे में कोरोना वायरस के इलाज में एलोपैथी को तमाशा, बेकार और दिवालिया बताया जाना दुर्भावनापूर्ण है।

चिकित्सा पद्धति एलोपैथी के विषय में योग गुरु बाबा रामदेव के द्वारा दिए गए बयान पर अब केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने भी आपत्ति जताई है और बाबा रामदेव से अपना बयान वापस लेने की माँग की है। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से पहले इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) भी बाबा रामदेव के बयान पर आपत्ति दर्ज करा चुका है।

हाल ही में बाबा रामदेव का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें वह एलोपैथी की निंदा करते हुए सुने गए। उन्होंने कहा कि एलोपैथी दवाओं के कारण ही कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की जान गई है। इस पर बाबा रामदेव को चिट्ठी लिखते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि सम्पूर्ण देशवासियों के लिए Covid-19 से युद्धरत डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी देवतुल्य हैं। ऐसे में बाबा रामदेव के आपत्तिजनक बयान ने देशभर की भावनाओं को ठेस पहुँचाई है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने चिट्ठी ट्वीट करते हुए योगगुरु रामदेव से अपना बयान वापस लेने की माँग की है।

अपनी चिट्ठी में डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि आज यदि देश में कोरोना वायरस संक्रमण की मृत्यु दर सिर्फ 1.13% और रिकवरी रेट 88% है तो उसके पीछे एलोपैथी और उसके डॉक्टरों का बड़ा योगदान है। ऐसे में कोरोना वायरस के इलाज में एलोपैथी को तमाशा, बेकार और दिवालिया बताया जाना दुर्भावनापूर्ण है।

उन्होंने यह भी कहा कि बाबा रामदेव सार्वजनिक जीवन में हैं। ऐसे में उनका बयान बहुत मायने रखता है। इसलिए यह आवश्यक है कि उन्हें कोई भी बयान समय, काल व परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए देना चाहिए।

ज्ञात हो कि डॉ. हर्षवर्धन से पहले IMA ने बाबा रामदेव पर एलोपैथी पर दिए गए बयान पर कार्रवाई करने की माँग की थी। IMA द्वारा जारी किए गए माँग पत्र पर IMA के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. जे ए जयलाल और मानद महासचिव डॉ. जयेश एम लेले के हस्ताक्षर थे। ये वही डॉ. जयलाल हैं जो चाहते थे कि IMA ‘जीसस क्राइस्ट के प्यार’ को साझा करे और सभी को भरोसा दिलाए कि जीसस ही व्यक्तिगत रूप से रक्षा करने वाले हैं। उन्होंने कहा था कि चर्चों और ईसाई दयाभाव के कारण ही विश्व में पिछली कई महामारियों और रोगों का इलाज आया।

ज्ञात हो कि हाल ही में बाबा रामदेव का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें उन्होंने कहा कि एलोपैथी ऐसी बेकार साइंस है कि पहले इनकी हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन फेल हो गई, फिर रेमडेसिविर फेल हो गई। फिर एंटीबायोटिक्स इनके फेल हो गए, स्टेरॉयड फेल हो गए। प्लाज्मा थेरेपी के ऊपर भी बैन लग गया। आइवरमेक्टिन भी फेल हो गई। बुखार के लिए फैबिफ्लू दे रहे हैं, वो भी फेल है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम भीड़ ने पार्थ दास के शरीर से नोचे अंग, हिंदू परिवार में माँ-बेटी-भतीजी सब से रेप: नमाज के बाद बांग्लादेश में इस्लामी आतंक

इस्‍कॉन से जुड़े राधारमण दास ने ट्वीट कर बताया कि पार्थ को बुरी तरह से पीटा गया था कि जब उनका शव मिला तो शरीर के अंदर के हिस्से गायब थे। 

खुले में सड़क पर नमाज पढ़ने से परेशान हिंदू, गुरुग्राम में लगातार चौथे सप्ताह भजन-कीर्तन कर किया विरोध प्रदर्शन

गुरुग्राम के लोगों का कहना है कि यह सब प्रशासन की रजामंदी से हो रहा है। वहीं, एसीपी अमन यादव का कहना है कि नमाज के लिए वैकल्पिक जगह तलाशने समेत समाधान के प्रयास जारी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
128,877FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe