Tuesday, October 19, 2021
Homeदेश-समाजइवनिंग वॉक पर निकले बुजुर्ग दंपति पर महिला ने चढ़ा की कार, हुई मौत:...

इवनिंग वॉक पर निकले बुजुर्ग दंपति पर महिला ने चढ़ा की कार, हुई मौत: पुलिस से कहा- कुछ और सोच रही थी तो ध्यान खो गया

"उक्त महिला ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया है कि वो उस वक़्त किसी और चीज के बारे में सोच रही थी और उसने अपना ध्यान खो दिया, जिस कारण ये घटना हुई।"

द्वारका के सेक्टर-11 में रविवार (अप्रैल 4, 2021) को डॉक्टर शांति स्वरूप अरोड़ा (79) और उनकी पत्नी अंजना अरोड़ा (62) इवनिंग वॉक पर निकले थे, लेकिन उन्हें क्या पता था कि ये उनके जीवन का आखिरी वॉक होगा। पीछे से आती कार ने दोनों को कुचल दिया, जिससे बुजुर्ग दंपति की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि उस कार को एक 28 वर्षीय महिला चला रही थी। वहाँ एक मस्जिद में लगे CCTV कैमरे में ये दुर्घटना कैद हो गई।

ड्राइवर दीपक्षी चौधरी को गिरफ्तार किया गया। उन पर सार्वजनिक रास्ते पर उतावलेपन में ड्राइविंग करने और अपनी बेपरवाही से किसी की मौत होने का मामला दर्ज किया गया है। द्वारका साउथ पुलिस स्टेशन में इस मामले में IPC की धारा 304A और 279 के तहत मामला दर्ज किया गया है। हालाँकि, दीपाक्षी चौधरी को पुलिस थाने से ही जमानत मिल गई। वो एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में नौकरी करती हैं।

मृत डॉक्टर और उनकी पत्नी के बाल-बच्चे अमेरिका में ही सेटल हो गए हैं। दोनों पति-पत्नी अप्पू एन्क्लेव में रहा करते थे। वहीं दीपाक्षी चौधरी भी उसी सोसाइटी में रहती हैं। कुछ लोगों का कहना है कि वो अभी सीख ही रही थी कि गाड़ी किस तरह ड्राइव करते हैं। द्वारका के DCP संतोष कुमार मीणा ने कहा, “उक्त महिला ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया है कि वो उस वक़्त किसी और चीज के बारे में सोच रही थी और उसने अपना ध्यान खो दिया, जिस कारण ये घटना हुई।”

पुलिस का कहना है कि दीपाक्षी ने घटनास्थल से भागने की बजाए हॉस्पिटल में भर्ती होने तक बुजुर्ग कपल का साथ दिया। जब पुलिस इस घटना के बारे में सूचना मिलने पर पहुँचीं तो वो हॉस्पिटल में ही थी। CCTV फुटेज में देखा जा सकता है कि ‘मस्जिद वाली गली’ में टहलते पति-पत्नी ने आगे जाकर यूटर्न लिया, तभी एक ग्रे कलर की कार तेज़ी में आई। दोनों जमीन पर गिर गए और कार उनके ऊपर से चली गई।

जहाँ डॉक्टर कार के नीचे ही फँस गए, उनकी पत्नी पीछे फँस गई। इसके बाद दो लोग भागे-भागे आते हैं। फिर महिला ने कार से बाहर निकल कर परिस्थिति देखी। इसके बाद उसे हड़बड़ी में किसी से फोन पर बात करते हुए देखा गया। लोगों ने कार को उठा कर बुजुर्गों को बाहर निकाला। लोगों का कहना है कि हॉस्पिटल ले जाते समय बजुर्ग डॉक्टर होश में थे। रास्ते में उन्होंने बातें भी की और अपनी पत्नी के बारे में पूछा।

अब मृतकों के परिजन ने ड्राइवर की पहचान पर सवाल खड़े किए हैं। जहाँ एक तरफ दीपाक्षी ने कहा कि वही कार चला रही थी और पुष्टि के लिए अपने डॉक्युमेंट भी दिखाए, मृतकों के परिजन का कहना है कि दीपाक्षी की बहन गाड़ी में थी। मौत से पहले बुजुर्ग दंपति को मणिपाल हॉस्पिटल ले जाया गया था और तब दीपाक्षी उनके साथ थी, लेकिन दावा किया जा रहा है कि कार चलाने वाली महिला वो नहीं थी। ये घटना शाम के 6:30 में हुई थी। पुलिस इस मामले में सभी के बयान दर्ज कर रही है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बांग्लादेश का नया नाम जिहादिस्तान, हिन्दुओं के दो गाँव जल गए… बाँसुरी बजा रहीं शेख हसीना’: तस्लीमा नसरीन ने साधा निशाना

तस्लीमा नसरीन ने बांग्लादेश में हिंदुओं पर कट्टरपंथी इस्लामियों द्वारा किए जा रहे हमले पर प्रधानमंत्री शेख हसीना पर निशाना साधा है।

पीरगंज में 66 हिन्दुओं के घरों को क्षतिग्रस्त किया और 20 को आग के हवाले, खेत-खलिहान भी ख़ाक: बांग्लादेश के मंत्री ने झाड़ा पल्ला

एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से अफवाह फैल गई कि गाँव के एक युवा हिंदू व्यक्ति ने इस्लाम मजहब का अपमान किया है, जिसके बाद वहाँ एकतरफा दंगे शुरू हो गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe