Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजबुर्क़े और परदे में मतदान आ रहीं सभी महिलाओं की पहचान सुनिश्चित हो: EC

बुर्क़े और परदे में मतदान आ रहीं सभी महिलाओं की पहचान सुनिश्चित हो: EC

आदेश में साफ़तौर पर यह कहा गया है कि जिन बूथ पर पर्दानशीं महिला वोटर संख्या में अधिक हों वहाँ पर महिला पुलिस कॉन्स्टेबल के अलावा एक महिला पुलिस अधिकारी की तैनाती भी की जाए।

देश में आज लोकसभा चुनाव 2019 के तहत छठे चरण की मतदान प्रकिया जारी है। इसमें बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल की सीटें शामिल हैं। चुनाव आयोग ने बुर्का और किसी भी तरह का पर्दा घारण करने वाली महिलाओं की पहचान सुनिश्चित करने का निर्देश जारी किया है।

दरअसल, संयुक्त मुख्य चुनाव अधिकारी रत्नेश सिंह की तरफ से भेजे गए एक पत्र में केंद्रीय चुनाव आयोग के 8 मई के निर्देश का हवाला दिया गया। ख़बर के अनुसार, यह आदेश उत्तर प्रदेश की 14 सीटों के सभी ज़िला निर्वाचन अधिकारियों को पत्र के माध्यम से जारी किया गया है। फ़िलहाल, यूपी की 27 सीटों पर मतदान होना अभी बाक़ी है।

इस आदेश में साफ़तौर पर यह कहा गया है कि जिन बूथ पर पर्दानशीं महिला वोटर संख्या में अधिक हों वहाँ पर महिला पुलिस कॉन्स्टेबल के अलावा एक महिला पुलिस अधिकारी की तैनाती भी की जाए। इससे बुर्का या पर्दा करने वाली महिलाओं की पहचान सुनिश्चित की जा सके।

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में मुज़्ज़फ़रनगर से बीजेपी के उम्मीदवार संजीव बलियान ने इस बात की शिकायत की थी कि बुर्का पहनकर मतदान करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। इसके पीछे उन्होंने मतदाताओं की पहचान में दिक्कत और फ़र्ज़ी मतदान की संभावना जताई थी। इसी के मद्देनज़र चुनाव आयोग ने यह क़दम उठाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से इस्लाम शुरू, नारीवाद वहीं पर खत्म… डर और मौत भला ‘चॉइस’ कैसे: नितिन गुप्ता (रिवाल्डो)

हिंदुस्तान में नारीवाद वहीं पर खत्म हो जाता है, जहाँ से इस्लाम शुरू होता है। तीन तलाक, निकाह, हलाला पर चुप रहने वाले...

NH के बीच आने वाले धार्मिक स्थलों को बचाने से केरल HC का इनकार, निजी मस्जिद बचाने के लिए राज्य सरकार ने दी सलाह

कोल्लम में NH-66 के निर्माण कार्य के बीच में धार्मिक स्थलों के आ जाने के कारण इस याचिका में उन्हें बचाने की माँग की गई थी, लेकिन केरल हाईकोर्ट ने इससे इनकार कर दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe