Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजजहाँ दर्द, वहीं सुई: फ़र्ज़ी डॉक्टर खलील अहमद गिरफ़्तार, 5वीं फेल लगा रखा था...

जहाँ दर्द, वहीं सुई: फ़र्ज़ी डॉक्टर खलील अहमद गिरफ़्तार, 5वीं फेल लगा रखा था MBBS/MS का बोर्ड

मरीज को शरीर के जिस भाग में दर्द होता था, वह उसे उसी स्थान पर इंजेक्शन लगा दिया करता था। फ़र्ज़ी डॉक्टर खलील अहमद द्वारा तंत्र-मन्त्र और झाड़-फूँक करने की बात भी सामने आई है।

मध्य प्रदेश में एक ऐसे फ़र्ज़ी डॉक्टर को गिरफ़्तार किया गया है, जो पाँचवीं फेल है। यहाँ तक कि उसे एमबीबीएस का फुल फॉर्म तक नहीं पता। जबकि, वह ख़ुद को एमबीबीएस और एमएस डिग्री होल्डर बताता फिरता था। मामला इंदौर के गौतमपुरा का है, जहाँ खलील अहमद नामक फ़र्ज़ी डॉक्टर आर्थोपेडिक क्लिनिक चलाया करता था। वहाँ उसने बाँझपन से लेकर कैंसर तक का इलाज करने जैसे दावों के साथ एक बोर्ड भी लगा रखा था।

शनिवार (अगस्त 31, 2019) को उसके ख़िलाफ़ पुलिस को शिकायत मिली थी। इसके बाद पुलिस ने स्वास्थ्य विभाग की एक टीम के साथ आरोपित डॉक्टर के क्लिनिक पर छापेमारी की। पुलिस को अपनी पड़ताल में पता लगा कि खलील के पास मेडिकल काउंसिल का रजिस्ट्रेशन तक नहीं था। यहाँ तक कि जब उससे उसकी डिग्री के बारे में पूछा गया तो वह अचानक से हड़बड़ा गया और उससे कोई जवाब देते नहीं बना।

आरोपित फ़र्ज़ी डॉक्टर के क्लिनिक से कई दवाइयाँ भी बरामद की गईं। हालाँकि, खलील इसका जवाब देने में भी विफल रहा कि कौन सी दवा किस बीमारी में दी जाती है। बाद में जब पुलिस ने उसकी शिक्षा-दीक्षा के बारे में पता लगाया तो खुलासा हुआ कि वह 5वीं फेल है। स्वास्थ्य विभाग की टीम से उससे अंग्रेजी में ‘डॉक्टर’ शब्द लिखने को कहा लेकिन खलील इतना भी नहीं कर सका।

आरोपित खलील पहले बंगाल में किसी डॉक्टर की क्लिनिक पर काम किया करता था। वहीं उसके शैतानी दिमाग में ये आईडिया आया कि ऐसा ही कोई क्लिनिक खोल कर लोगों को बेवकूफ बनाते हुए पैसा कमाया जा सकता है। तब उसने गौतमपुरा में क्लिनिक खोला। एक और अजीबोगरीब बात यह सामने आई है कि मरीज को शरीर के जिस भाग में दर्द होता था, वह उसे उसी स्थान पर इंजेक्शन लगा दिया करता था।

फ़र्ज़ी डॉक्टर खलील अहमद द्वारा तंत्र-मन्त्र और झाड़-फूँक करने की बात भी सामने आई है। उनके ख़िलाफ़ धारा 420 के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने उसके क्लिनिक को भी सील कर दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आर्टिकल 370 के खात्मे का भारत स्वप्न, जिसे मोदी सरकार ने पूरा किया: जानिए इससे कितना बदला J&K और लद्दाख

आर्टिकल 370 हटाने के मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले से न केवल जम्मू-कश्मीर में जमीन पर बड़े बदलाव आए हैं, बल्कि दशकों से उपेक्षित लद्दाख ने भी विकास के नए रास्ते देखे हैं।

आखिरी बाजी हार कर भी छा गए रवि दहिया, ओलंपिक में सिल्वर मेडल पाने वाले दूसरे भारतीय पहलवान बने

टोक्यो ओलंपिक 2020 में पुरुषों की 57 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती में रेसलर रवि दहिया ने भारत को सिल्वर मैडल दिलाया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,091FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe