‘आज मैंने गोमांस खाकर पाकिस्तान की खु़शी में भाग लिया’ – रेहाना सुल्ताना के ख़िलाफ़ FIR दर्ज

“हमने इस पर स्वत: संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया है। यह एक पुरानी पोस्ट है लेकिन हमने इस पर संज्ञान लिया क्योंकि यह फिर से सामने आया है।”

असम पुलिस ने कथित तौर पर गोमांस के सेवन को लेकर की गई फेसबुक पोस्ट के लिए बुधवार (14 अगस्त) को गुवाहाटी विश्वविद्यालय की एक स्कॉलर के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की है। यह पोस्ट दो साल पहले की गई थी। हालाँकि, इस पोस्ट को तुरंत हटा लिया गया था, बावजूद इसके यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी और अभी फिर से चर्चा में है।

ख़बर के अनुसार, रेहाना सुल्ताना (28 वर्ष) के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 153 A और आईटी एक्ट की धारा 67 के तहत मामला दर्ज किया गया है। डीसीपी, गुवाहाटी पश्चिम, केके चौधरी के अनुसार, “हमने इस पर स्वत: संज्ञान लेते हुए मामला दर्ज किया है। यह एक पुरानी पोस्ट है लेकिन हमने इस पर संज्ञान लिया क्योंकि यह फिर से सामने आया है।”

सुल्ताना की मूल पोस्ट, जो जून 2017 में असमिया में लिखी गई थी, उसके अनुवाद के अनुसार,

“आज मैंने गोमांस खाकर पाकिस्तान की खु़शी में भाग लिया। मैं जो खाती हूँ वह मेरी स्वाद का विकल्प है। गोमांस शब्द पढ़ने पर, कृपया न कोई षड्यंत्र शुरू करें और न अपने व्यवहार का परिचय दें।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए सुल्ताना ने कहा, “एक विवाद चल रहा है कि मैंने इस बकरीद पर यह पोस्ट लिखी है। लेकिन मैंने इसे दो साल पहले लिखा था, जून 2017 में इसे डिलीट कर दिया था, लेकिन अब मेरी टिप्पणी को ग़लत तरीके से पेश किया जा रहा है और लोगों ने मुझे निशाना बनाना शुरू कर दिया है। 19 जून, 2017 को, मैंने एक स्पष्टीकरण भी लिखा था, जिसमें कहा गया था कि मेरी व्यंग्यात्मक पोस्ट का ग़लत अर्थ निकाला गया।”

यह पूछे जाने पर कि उन्होंने टिप्पणी क्यों पोस्ट की, सुल्ताना ने कहा,

“भारत-पाकिस्तान का मैच था और भारत बुरी तरह से खेला था। मैंने अपनी व्यथा व्यक्त करने के लिए उस व्यंग्यपूर्ण पोस्ट को लिखा था जिसमें भारत हार गया था और विराट कोहली जीरो पर आउट हो गए थे। उसी समय गोमांस खाने के बारे में विवाद और लोगों पर गोमांस खाने के लिए हमला किया जा रहा था, उस समय देश भर में ख़बरें बन रही थीं, और मैंने तब इसी संदर्भ में इसे लिखा था। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि कैसे पोस्ट को संदर्भ से परे देखकर एक विवाद का रूप देकर मामला दर्ज कर लिया गया।”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: