Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'मंदिरों में गैर-हिन्दुओं का प्रवेश वर्जित' - बैनर लगाने वाले हिंदू युवा वाहिनी के...

‘मंदिरों में गैर-हिन्दुओं का प्रवेश वर्जित’ – बैनर लगाने वाले हिंदू युवा वाहिनी के जीतू रंधावा पर FIR, एक्शन में उत्तराखंड पुलिस

"वो मुसलमानों का ऐसे पक्ष क्यों ले रहे हैं? मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि उत्तराखंड जैसी जगह पर ऐसा हो रहा है। मुझे फर्क नहीं पड़ता कि वो मेरे खिलाफ केस कर दें, लेकिन मैं सुनिश्चित करूँगा कि ऐसे पोस्टर उत्तराखंड के सभी मंदिरों के बाहर लगाए जाएँ।"

उत्तराखंड के देहरादून में एक मामला दर्ज किया गया है। मामला दिलचस्प है। “यह तीर्थ हिंदुओं का पवित्र स्थल है, इसमें गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है” – यह बैनर घंटा घर के पास एक मंदिर के बाहर लगाया गया था। इसी के खिलाफ धारा 153A के तहत पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है।

“यह तीर्थ हिंदुओं का पवित्र स्थल है, इसमें गैर हिंदुओं का प्रवेश वर्जित है” – इस बैनर के नीचे एक नंबर दिया हुआ था – 9193000390 – पुलिस ने इसी नंबर से संबंधित व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया है। और यह नंबर हिंदू युवा वाहिनी प्रदेश (उत्तराखंड) महासचिव जीतू रंधावा का है।

देहरादून के थाना कोतवाली नगर प्रभारी शिशुपाल सिंह नेगी ने जाँच में पाया कि बैनर पर लिखे मोबाइल धारक जीतू रंधावा हैं, जो हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश महासचिव हैं। अपने खिलाफ मामला दर्ज होने को लेकर जीतू रंधावा कहते हैं कि पुलिस ने उन्हें शहर में ऐसे पोस्टर न लगाने की चेतावनी दी है।

हिंदू युवा वाहिनी प्रदेश (उत्तराखंड) महासचिव जीतू रंधावा प्रशासन से सवाल भी पूछते हैं, “वो मुसलमानों का ऐसे पक्ष क्यों ले रहे हैं? मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि उत्तराखंड जैसी जगह पर ऐसा हो रहा है। मुझे फर्क नहीं पड़ता कि वो मेरे खिलाफ केस कर दें, लेकिन मैं सुनिश्चित करूँगा कि ऐसे पोस्टर उत्तराखंड के सभी मंदिरों के बाहर लगाए जाएं।”

हिंदू युवा वाहिनी के प्रदेश (उत्तराखंड) अध्यक्ष गोविंद हिंदुस्तानी ने इस पूरे मामले पर अपना पक्ष रखा। उन्होंने बताया कि हिंदू युवा वाहिनी संगठन ने निर्णय लिया है कि सबसे पहले राजधानी देहरादून के सभी मंदिरों में बैनर लगाए जाएँगे। उनके अनुसार देहरादून के बाद प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में भी ऐसे बैनर लगाए जाएँगे

डासना से शुरुआत

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के डासना देवी मंदिर में आसिफ नाम के एक बच्चे की पिटाई का वीडियो वायरल करते हुए यह दावा किया गया था कि पानी पीने के कारण उसके साथ ऐसा किया गया। उसके बाद तो मंदिरों को बदनाम करने का एक बार फिर से सिलसिला सा चल पड़ा।

वामपंथी और हिन्दू विरोधी ताकतों की कलई तब खुली जब मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती ने पूरा सच बताया कि आसिफ बच्चा नहीं है और न वह यहाँ पानी पीने आया था। बल्कि ऐसों का मकसद मंदिर में चोरी करना या रेकी करना होता है तो वहीं बच्चे की पिटाई के बाद चर्चा में आए श्रृंगी यादव ने बताया कि आसिफ शिवलिंग पर पेशाब कर रहा था इसलिए मारा। पानी तो बस पकड़े जाने पर बहाना है।

डासना मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती महंत ने तब मंदिर के गेट पर लगे उस बोर्ड के बारे में भी बताया, जिस पर मुसलमानों के मंदिर परिसर में प्रवेश न करने की बात लिखी है। इसके बाद आसिफ की पिटाई वाला मामला इस बोर्ड पर आकर टिक गया। “मुसलमानों के मंदिर परिसर में प्रवेश नहीं” बोर्ड पर राजनीति होने लगी। यहाँ तक कि बसपा विधायक असलम चौधरी ने धमकी दे दी कि मंदिर उनके पूर्वजों का है और वह जुमे की नमाज के बाद मंदिर में प्रवेश करेंगे और वह बोर्ड भी हटाया जाएगा, जिस पर लिखा है- “यह मंदिर हिन्दुओं का पवित्र स्थल है। यहाँ मुसलमानों का प्रवेश वर्जित है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe