Monday, April 12, 2021
Home देश-समाज सीएम की सुपारी लेने वाला श्रीप्रकाश शुक्ला, पुलिसकर्मियों को मारने वाला विकास दुबे: यूपी...

सीएम की सुपारी लेने वाला श्रीप्रकाश शुक्ला, पुलिसकर्मियों को मारने वाला विकास दुबे: यूपी के क्रिमिनल कैसे-कैसे

दोनों ही अपराधियों में कई बातें एक जैसी हैं, दोनों के जीवन का शुरूआती जीवन हो या अंत, एनकाउंटर के अलावा ऐसी तमाम बातें हैं जब दोनों एक जैसे ही नज़र आते हैं। दोनों अपराधियों को गिरफ्तार करने की ज़िम्मेदारी एसटीएफ के पास थी क्योंकि नेताओं से लेकर अधिकारियों तक, सभी जानते थे कि इन मामलों में चूक की गुंजाईश नहीं होती।

उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में माफियाओं और अपराधियों की बंदूकों से चली गोली का मूलतः एक उद्देश्य होता है, जनता में भय स्थापित करना। लोगों को इस बात का आभास कराना कि उनके अपराध की तस्वीर क्या है? लेकिन लोगों के बीच डर पैदा करने की इस प्रक्रिया को एक और आयाम दिया श्रीप्रकाश शुक्ला जैसे अपराधियों ने। उनकी गोलियाँ सिर्फ डर पैदा करने के लिए नहीं चली, बल्कि उन्हीं डरे हुए लोगों की जान लेने के लिए भी चली। इस तरह की मानसिकता का सबसे नया उदाहरण है ‘विकास दुबे’। 

दोनों ही अपराधियों में कई बातें एक जैसी हैं, दोनों के जीवन का शुरूआती जीवन हो या अंत, एनकाउंटर के अलावा ऐसी तमाम बातें हैं जब दोनों एक जैसे ही नज़र आते हैं। दोनों अपराधियों को गिरफ्तार करने की ज़िम्मेदारी एसटीएफ के पास थी क्योंकि नेताओं से लेकर अधिकारियों तक, सभी जानते थे कि इन मामलों में चूक की गुंजाईश नहीं होती। जहाँ प्रशासन की तरफ से छोटी गलती भी होती तो उसका नतीजा बुरे से बुरा होता। 

सोशल मीडिया पर विकास दुबे के साक्षात्कार का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। भारत समाचार द्वारा साझा किए गए वीडियो में उसने साफ़-साफ़ बताया है कि कैसे वह राजनीति में आया, साल 2006 के इस वीडियो में उसने यह भी बताया कि कौन उसे राजनीति में लेकर आया। फिर विकास दुबे ने पूर्व उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष स्वर्गीय हरिकिशन श्रीवास्तव का नाम लिया और बताया कि राजनीति में लाने का श्रेय उन्हें ही जाता है। इसके ठीक पहले विकास दुबे ने यह भी बताया कि वह अच्छा छात्र था, उसने स्नातक तक पढ़ाई की है।    

ठीक इसी तरह श्रीप्रकाश शुक्ला भी पढ़ाई में बेहद औसत छात्र था। बहन के साथ छेड़ खानी करने वाले लोगों की हत्या करने के ठीक बाद उसे सुरक्षा की ज़रूरत थी। लेकिन सुरक्षा के बदले उसे संरक्षण मिला, उत्तर प्रदेश के दूसरे कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री हरिशंकर तिवारी का संरक्षण। भले श्रीप्रकाश शुक्ला राजनीति का हिस्सा नहीं बना लेकिन शुक्ला के राजनीतिक गुरु उसे राजनीतिक पड़ाव के कुछ कदम पहले तक ज़रूर ले आए। उसके बाद क्या हुआ वह इतिहास है, उत्तर प्रदेश को ऐसा अपराधी मिला जिसने किसी भी अपराध के बाद पीछे मुड़ कर नहीं देखा। 

विकास दुबे पर जितनी हत्याओं के आरोप लगे उसमें सबसे बड़े नाम मंत्रियों के थे। हैरानी कहिए या संयोग श्रीप्रकाश शुक्ला की हत्याओं में भी जितने अहम नाम थे, मंत्रियों के ही थे। दोनों ने दिग्गज नेताओं पर गोलियाँ चलाई। विकास दुबे पर लगाए गए आरोपों के मुताबिक़ साल 2001 में उसने भाजपा नेता संतोष शुक्ला पर कानपुर देहात के शिवली थाने में अंधाधुंध गोलियाँ चलाई। 25 लोग इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी थे, लगभग सारे ही पुलिसकर्मी। किसी ने गवाही नहीं दी और विकास दुबे इस आरोप से बरी हुआ। हालाँकि, इस घटनाक्रम के पीछे कहानियाँ तमाम हैं लेकिन सतह पर नज़र आने वाली सबसे असल कहानी यही है। 

विकास दुबे के नाम का पोस्टर

कुछ दिन पहले का घटनाक्रम जिसमें 8 पुलिसकर्मी शहीद हुए, कितने दर्दनाक तरीक से उनके लिए जाल बिछाया गया। रास्ता रोकने के लिए जेसीबी रास्तों पर जेसीबी लगाई गई, पुलिस वालों के हथियार तक छीन लिए गए। अंत में तस्वीर साफ़ होने पर पता चला कि साथी पुलिस कर्मियों ने कार्रवाई की सूचना विकास दुबे तक पहुँचाई। जिसके चलते विकास दुबे के लिए यह सब करना आसान हो गया, ख़बरों के अनुसार जानकारी मिलते ही उसने कहा, “आने दो सभी को, सभी को कफ़न में वापस भेजूँगा।”           

कहानी के पन्ने शुरू से पलटते ही यह साफ़ हो जाता है कि दोनों अपराधियों ने बंदूक का जिस कदर इस्तेमाल किया उस तरह बड़े से बड़े अपराधी भी नहीं करते। शुक्ला के हिस्से की एक कहानी भी कुछ ऐसी ही है। बात है साल 1997 की, आज से लगभग 21 साल पहले। पुलिस को सूचना मिली कि लखनऊ के जनपथ बाज़ार में श्रीप्रकाश शुक्ला अपने कुछ साथियों के मौजूद है। यह भी पता चला कि उसके पास एके 47 और पिस्टल भी है। एसएसपी सत्येन्द्र वीर सिंह, एक पेशकार दरोगा रवींद्र कुमार सिंह और गनर रणकेंद्र सिंह वहाँ पहुँचे। सामना हुआ, पकड़ने की कोशिश मुठभेड़ में तब्दील हुई। 

श्रीप्रकाश शुक्ला

श्रीप्रकाश शुक्ला ने भागने की कोशिश की, तभी दरोगा आर के सिंह उसके पीछे दौड़े। अगले कुछ पल जनपथ बाज़ार में केवल गोलियों की आवाज़ सुनाई दी। मुठभेड़ के दौरान आर के सिंह के सिर पर 6 गोलियाँ लगीं और सीने पर दो, मालूम चला कि उन्होंने शुक्ला को दबोचा हुआ था जिसके बाद उसके साथियों ने दरोगा पर गोलियाँ चलाई। इसके बाद श्रीप्रकाश भले छूट गया लेकिन आर के सिंह सिर में 6 गोलियाँ लगने के बावजूद 10 मिनट तक डटे रहे। 

पेशकार दरोगा आर के सिंह

लेकिन इस घटना के बाद श्रीप्रकाश शुक्ला के लिए आगे का रास्ता बहुत मुश्किल हो गया। पुलिस महकमे के कुछ अधिकारियों ने खुद जिम्मा उठाया कि मामले पर ठोस नतीजे देकर ही रहेंगे। इस अभियान को उत्तर प्रदेश पुलिस के इतिहास का सबसे खतरनाक अभियान भी माना जाता है, सबसे ज़्यादा जोखिम भरी ‘पुलिस चेज़’। तीन पुलिस अधिकारियों (तत्कालीन एसएसपी अरुण कुमार, एसपी सत्येन्द्र वीर सिंह और एएसपी राजेश पाण्डेय) ने अभियान पूरा किया। मौके पर सैकड़ों गोलियाँ चलीं, पुलिस ने शुक्ला को गाज़ियाबाद में चारों तरफ से घेरा और छलनी कर दिया।              

चित्र साभार – सोशल मीडिया

कुल मिला कर ऐसी घटनाएँ और ऐसे किरदार एक स्पष्ट संदेश देते हैं कि अपराधी बनते नहीं है, बनाए जाते हैं। अच्छी भली नक्काशी के बाद तैयार किए जाते हैं, जिसमें अधिकारियों से लेकर राजनेताओं तक सभी का कुछ फ़ीसदी योगदान होता है। विकास दुबे की गिरफ्तार को आत्मसमर्पण कहा जाए या गिरफ्तारी, यह अभी अस्पष्ट है लेकिन हर बड़ी घटना अपने पीछे तमाम सवाल छोड़ती है। कालांतर में इन अपराधियों ने सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था को बड़े पैमाने पर बदला है, फिर आने वाले कल में कैसे तय होगा कि ऐसे अपराधी जन्म नहीं लेंगे? फिर कोई महकमे के भीतर का व्यक्ति इनकी मदद नहीं करेगा और पुलिस वालों की जान नहीं जाएगी?     

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वास्तिक को बैन करने के लिए अमेरिका के मैरीलैंड में बिल पेश: हिन्दू संगठन की आपत्ति, विरोध में चलाया जा रहा कैम्पेन

अमेरिका के मैरीलैंड में हाउस बिल के माध्यम से स्वास्तिक की गलत व्याख्या की गई। उसे बैन करने के विरोध में हिंदू संगठन कैम्पेन चला रहे।

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

प्रचलित ख़बरें

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

पॉर्न फिल्म में दिखने के शौकीन हैं जो बायडेन के बेटे, परिवार की नंगी तस्वीरें करते हैं Pornhub अकॉउंट पर शेयर: रिपोर्ट्स

पॉर्न वेबसाइट पॉर्नहब पर बायडेन का अकॉउंट RHEast नाम से है। उनके अकॉउंट को 66 badge मिले हुए हैं। वेबसाइट पर एक बैच 50 सब्सक्राइबर होने, 500 वीडियो देखने और एचडी में पॉर्न देखने पर मिलता है।

कूच बिहार में 300-350 की भीड़ ने CISF पर किया था हमला, ममता ने समर्थकों से कहा था- केंद्रीय बलों का घेराव करो

कूच बिहार में भीड़ ने CISF की टीम पर हमला कर हथियार छीनने की कोशिश की। फायरिंग में 4 की मौत हो गई।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,173FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe