Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजआयशा मस्जिद का मदरसा, हाफिज ने 12 साल के बच्चे से कुकर्म किया: पीड़ित...

आयशा मस्जिद का मदरसा, हाफिज ने 12 साल के बच्चे से कुकर्म किया: पीड़ित अब्बा से कहा- शिकायत मत करो, यह दीन का मामला

पीड़ित छात्र करीब 6 महीने पहले ही दीनी तालीम हासिल करने मदरसा आया था। 28 जनवरी की रात कुकर्म करने के बाद हाफिज ने अगले दिन उसे मदरसे से बाहर नहीं निकलने दिया। उसके अब्बा से मामले की शिकायत किसी से नहीं करने को कहा।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के एक मदरसे में नाबालिग छात्र से कुकर्म का मामला सामने आया है। यह मदरसा आयशा मस्जिद में चल रहा है। पीड़ित छात्र के अब्बा ने मदरसे के हाफिज के खिलाफ पुलिस में तहरीर दी है। बताया जा रहा है कि हाफिज ने इसे दीन का मसला बताते हुए शिकायत नहीं करने को भी कहा था। फिलहाल हाफिज फरार चल रहा है। घटना शनिवार (28 जनवरी 2023) की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोनी थाना क्षेत्र के पूजा कॉलोनी की आयशा मस्जिद में एक मदरसा चलता है। इस जगह पर हाफिजी मामून बच्चों को इस्लामी तालीम देता है। मदरसे में बागपत के गाँव असाला के रहने वाले एक व्यक्ति ने 6 माह पहले अपने 12 साल के बच्चे का एडमिशन करवाया था। तब से बच्चा मदरसे में ही रह कर दीनी तालीम हासिल कर रहा था। बताया जा रहा है कि हाफिज मामून उस पर बुरी नजर रखता था।

जानकारी के मुताबिक 28 जनवरी की रात को हाफिज ने बच्चे के साथ कुकर्म किया। फिर अगले दिन 29 जनवरी को बच्चे को दिन भर मदरसे में बाहर नहीं निकलने दिया। किसी तरह सोमवार (30 जनवरी) को बच्चा मदरसा से निकला। एक राहगीर के फोन से अपने अब्बा को हाफिज द्वारा किए गए कुकर्म की जानकारी दी। इसके बाद पीड़ित अब्बा आयशा मस्जिद पहुँचे।

बताया जा रहा है कि यहाँ पर उन्होने आरोपित हाफिज से सवाल-जवाब किया। इस पर हाफिज मामून ने उन्हें मामले की शिकायत किसी से न करने की सलाह दी। हाफिज ने कहा कि इससे मदरसा बंद हो सकता है और यह दीन का मामला है। लेकिन पीड़ित के अब्बा ने लोनी थाने में पहुँच कर शिकायत दर्ज करवाई। हाफिज के कुकर्म की जानकारी देते हुए पीड़ित के अब्बा का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है।

ACP लोनी ने बताया है कि मामले में FIR दर्ज कर ली गई है। आरोपित हाफिज की तलाश के लिए पुलिस टीमों का गठन किया गया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नई नहीं है दुकानों पर नाम लिखने की व्यवस्था, मुजफ्फरनगर पुलिस ने काँवड़िया रूट पर मजहबी भेदभाव के दावों को किया खारिज: जारी की...

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में पुलिस ने ताजी एडवायजरी जारी की है, जिसमें दुकानों और होटलों पर मालिकों के नाम लिखने को ऐच्छिक कर दिया है।

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -