Wednesday, January 26, 2022
Homeदेश-समाजहिंदू रहीं महिला के शव को दफनाने जा रहा था ईसाई परिवार, गिरिराज सिंह...

हिंदू रहीं महिला के शव को दफनाने जा रहा था ईसाई परिवार, गिरिराज सिंह ने हाथ जोड़कर कराया दाह संस्‍कार

एक हिंदू महिला के शव को उसके परिवार वाले ईसाई धर्म के रीति रिवाज मुताबिक दफनाने ले जा रहे थे। इसकी खबर जब गिरिराज सिंह के पास गई तो...

केंद्रीय मंत्री और बेगूसराय से बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने अपने संसदीय क्षेत्र में हिंदू से ईसाई बने परिवार की महिला का अंतिम संस्‍कार हिंदू रीति-रिवाज से कराकर एक विवाद का शांतिपूर्ण तरीके से समाधान कराया। इस दौरान गिर‍िराज सिंह ने हाथ जोड़कर महिला के परिवार से अपील की कि वे हिंदू रही महिला का दाह संस्‍कार करें। केंद्रीय मंत्री की अपील को परिवार ने मान लिया और महिला का सिमरिया घाट पर दाह संस्‍कार किया गया।

इस मौके पर मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि कोई लोभ देकर धर्म का परिवर्तन न करे। उन्‍होंने कहा, “कोई लोभ देकर किसी का धर्म परिवर्तन न करे। मैं हाथ जोड़कर विनती करता हूँ कि धर्म से बड़ा कोई चीज नहीं होता है। किसी धर्म में चचेरे भाई-बहन में शादी होता है। मगर हमारे धर्म में ऐसा नहीं होता है… यही मेरा धर्म है। आदमी हम भी हैं और वे भी हैं। हम अपने धर्म की रक्षा करें। मैं आप लोगों से अपील करता हूँ कि धर्म से बड़ा कुछ नहीं है।”

दरअसल, एक हिंदू महिला के शव को उसके परिवार वाले ईसाई धर्म के रीति रिवाज मुताबिक दफनाने ले जा रहे थे। इसकी खबर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं को लग गई। बजरंग दल के कार्यकर्ता मौके पर पहुँच गए और महिला को दफनाने का विरोध किया। उन्होंने महिला का दाह-संस्कार हिन्दू रीति-रिवाज के अनुसार करने की विनती की, लेकिन वे नहीं माने। जिसके बाद बजरंग दल के कार्यकर्ता गिर‍िराज सिंह के पास गए। गिरिराज सिंह के समझाने पर महिला के परिवार वाले मान गए और शव का दाह संस्‍कार किया गया। 

इस दौरान गिरिराज सिंह ने धर्म परिवर्तन के खिलाफ सख्त कानून बनाने की माँग की, ताकि प्रलोभन देकर किसी का धर्म परिवर्तन न किया जा सके। उन्होंने दावा किया कि बिहार में हिंदुओं को जबरन ईसाई बनाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों खबर आई थी कि बिहार के नवादा जिले के 15 हिंदू परिवारों के 50 सदस्यों ने धर्म परिवर्तन कर ईसाई धर्म अपना लिया है। नवादा के ताराटाड टोला में अब हिदू धर्म को मानने वाले महज तीन परिवार ही बचे हैं, लेकिन उन पर भी धर्मातरण के लिए दबाव है।

बिहार में धर्म परिवर्तन का खेल: नवादा में 15 परिवार के 50 सदस्य बने ईसाई, खौफ में बाकी बचे 3 हिंदू परिवार

प्यार के लिए खतना तक कराया, दर्द सहे: ईसाई युवक को मुस्लिम प्रेमिका के अब्बा ने पीट कर भगाया

ईसाई नहीं बनने की सजा… 34000 वैष्णव हिंदुओं को अपने ही देश में 23 साल रहना पड़ा शरणार्थी बन कर!

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माइनस 40 डिग्री हो या 15000 फीट की ऊँचाई… ITBP के हिमवीरों ने तिरंगा फहरा यूँ मनाया 73वाँ गणतंत्र दिवस

सीमाओं की रक्षा में तैनात भारतीय तिब्बत बॉर्डर पुलिस (ITBP) ने लद्दाख और उत्तराखंड की बर्फीली ऊँचाई वाली चोटियों में तिरंगा फहराया।

लाल किला में पेशाब से लेकर महिला पुलिस से बदतमीजी तक: याद कीजिए 26 जनवरी, 2021… जब दिल्ली में खेला गया था हिंसक खेल

आइए, याद करते हैं 26 जनवरी, 2021 (गणतंत्र दिवस) को दिल्ली में क्या-क्या हुआ था। किसान प्रदर्शनकारियों ने हिंसा के दौरान क्या-क्या किया। नेताओं-पत्रकारों ने कैसे उन्हें भड़काया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
153,622FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe