Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजआयशा के शौहर आरिफ खान को मिली 10 साल की सजा: दहेज को लेकर...

आयशा के शौहर आरिफ खान को मिली 10 साल की सजा: दहेज को लेकर प्रताड़ित करने पर साबरमती नदी में कूदकर की थी आत्महत्या

अदालत ने सजा सुनाने के लिए आयशा द्वारा रिकॉर्ड किए गए वीडियो संदेश को अहम सबूत माना। अदालत ने कहा कि घरेलू हिंसा की सामाजिक बुराई को रोकने के लिए आरोपित को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

अहमदाबाद की आयशा खान नाम की महिला ने फरवरी 2021 में आत्महत्या कर ली थी। अब इस मामले में कोर्ट ने फैसला सुनाया है। अहमदाबाद सत्र अदालत ने मामले में फैसला देते हुए आयशा के शौहर आरिफ खान को 10 साल कैद की सजा सुनाई है। बता दें कि आयशा ने अहमदाबाद में साबरमती नदी में कूदने से ठीक पहले एक वीडियो रिकॉर्ड किया था। यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था। सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में आयशा ने अपने शौहर और उसके परिवार पर दहेज और उत्पीड़न का आरोप लगाया था।

रिपोर्टों के अनुसार, अदालत ने सजा सुनाने के लिए आयशा द्वारा रिकॉर्ड किए गए वीडियो संदेश को अहम सबूत माना। अदालत ने कहा कि घरेलू हिंसा की सामाजिक बुराई को रोकने के लिए आरोपित को बख्शा नहीं जाना चाहिए। आरिफ की आवाज की भी जाँच की गई। फैसले में उसे भी अहम सबूत माना गया।

जानकारी के मुताबिक आयशा ने साबरमती नदी में कूदने से पहले अपने शौहर को भी बुलाया था। पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच 70 मिनट की कॉल रिकॉर्डिंग बरामद की थी जिसमें आरिफ को आयशा के ऊपर चिल्लाते हुए और कहते हुए सुना गया था, “जाओ मरो और मुझे अपनी मौत का वीडियो भेजो।”

आयशा की मौत के एक हफ्ते बाद और अधिक जानकारी सामने आई थी जिससे पता चला था कि उसके शौहर आरिफ का राजस्थान की एक लड़की के साथ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर था। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि आयशा का शौहर आरिफ अपनी प्रेमिका को फोन करता था और आयशा के सामने ही उसके साथ अश्लील बातचीत करता था। अपने शौहर के उत्पीड़न के बावजूद, आयशा ने चुप रहने का फैसला किया और उससे सवाल-जवाब नहीं किया।

कथित तौर पर, आरिफ ने आयशा के सामने कबूल किया था कि उसके जीवन में एक और महिला थी और उसने कहा था कि वह उसे आयशा के लिए नहीं छोड़ेगा। इससे पहले 2020 में आयशा ने अहमदाबाद के वटवा पुलिस स्टेशन में आरिफ और उसके परिवार के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मामला भी दर्ज कराया था।

आत्महत्या करने से पहले उसने अपने माता-पिता को भी फोन किया। उसके माता-पिता ने आयशा को अपना फैसला बदलने के लिए मनाने की बहुत कोशिश की लेकिन वे असफल रहे। उसने अपनी अम्मी से कहा, “जो कुछ हुआ है, मैं उससे काफी निराश हूँ, मैं इसे और बर्दाश्त नहीं कर सकती, वह (उसका शौहर आरिफ) आजादी चाहता है, मैं उसे आजादी दूँगी।”

उसकी आत्महत्या पर सोशल मीडिया पर कई तीखी प्रतिक्रियाएँ सामने आई थी। अधिकारियों ने शव को बरामद कर लिया था और मामले में उसके शौहर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया था। बाद में उसे मार्च 2021 में गिरफ्तार कर लिया गया था। हालाँकि, अधिकांश लोगों ने महिला के प्रति सहानुभूति व्यक्त की, तो वहीं कुछ ऐसे लोग भी थे जिन्होंने शिकायत की कि उसने हलाल के ऊपर हराम को चुना।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -