Monday, November 29, 2021
Homeदेश-समाजकृष्ण भक्ति की ऐसी लगन... सरकार ने अर्जी ठकुराई तो दोबारा VRS के लिए...

कृष्ण भक्ति की ऐसी लगन… सरकार ने अर्जी ठकुराई तो दोबारा VRS के लिए लिखा पत्र: IG भारती अरोड़ा की ‘इच्छा’ पर अब CM लेंगे फैसला

"भारती अरोड़ा अच्छी अफसर हैं, लेकिन हम उन्हें जबरन रोक नहीं सकते। इसलिए हमारी तरफ से उनका आवेदन सीएम के पास भेज दिया गया है। वहाँ से मुहर लगते ही उनकी वीआरएस पक्की हो जाएगी।''

हरियाणा के अंबाला रेंज की आईजी भारती अरोड़ा ने एक बार फिर सरकार को पत्र लिखकर स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (VRS) की माँग की है। खास बात यह है कि इस बार प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज ने इस IPS अधिकारी की इच्छा को पूरा करने के लिए आवेदन मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के पास भेज दिया है। आईजी भारती अरोड़ा ने दूसरी बार इस संबंध में पत्र लिखा है। इससे पहले उन्होंने 24 जुलाई को डीजीपी को पत्र भेज प्रभु श्रीकृष्ण की साधना करने की इच्छा जाहिर करते हुए स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति माँगी थी। लेकिन उस समय उनका आवेदन विज ने स्वीकार नहीं किया था। उन्होंने इसे यह कहते हुए लौटा दिया था कि वे बेहतरीन अफसर हैं और उनकी सेवाओं की प्रदेश को जरूरत है।

गृहमंत्री अनिल विज ने दूसरी बार आईजी की ओर से मिले वीआरएस आवेदन की जानकारी देते हुए कहा, “उन्होंने दूसरी बार आवेदन भेजा है। भारती अरोड़ा अच्छी अफसर हैं, लेकिन हम उन्हें जबरन रोक नहीं सकते। इसलिए हमारी तरफ से उनका आवेदन सीएम के पास भेज दिया गया है। वहाँ से मुहर लगते ही उनकी वीआरएस पक्की हो जाएगी।” विज ने यह भी कहा कि कृष्ण भक्ति मार्ग पर जाने का उनका व्यक्तिगत मामला है, जिसमें हम दखल नहीं दे सकते।

मालूम हो कि भारती की रिटायरमेंट 10 साल बाद यानी 2031 में होनी थी। 1998 बैच की आइपीएस भारती अरोड़ा ने अपने 23 साल के करियर में राजकीय रेलवे पुलिस में एसपी, अंबाला एसपी, कुरुक्षेत्र एसपी, राई स्पो‌र्ट्स कांप्लेस में प्रिंसिपल, करनाल रेंज के आइजी जैसे पदों पर सेवा दी है। उनकी सेवानिवृत्ति 31 मार्च 2031 को निर्धारित है।

बता दें कि उनकी शादी हरियाणा कैडर के ही आईपीएस विकास अरोड़ा से हुई है। साल 2007 में 18 फरवरी को समझौता एक्सप्रेस में बम ब्लास्ट हुआ था, उसमें जाँच के दौरान उनकी अहम भूमिका थी। वह उस समय वह हरियाणा राजकीय रेलवे पुलिस में एसपी थीं। इसके अलावा वह जहाँ-जहाँ एसपी या आईजी रहीं, उनकी कार्यशैली प्रभावित करने रही। हाल ही में प्रदेश में अवैध रूप से लोगों को विदेश भेजने के मामले की जाँच को भी उन्होंने ही अंजाम दिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe