Saturday, December 5, 2020
Home देश-समाज हाथरस केस: नार्को टेस्ट के बाद अब पीड़ित परिवार ने पॉलीग्राफ टेस्ट से भी...

हाथरस केस: नार्को टेस्ट के बाद अब पीड़ित परिवार ने पॉलीग्राफ टेस्ट से भी किया इनकार

मृतका के बड़े भाई ने आरोप लगाया है कि सीबीआई पूरे मामले को प्रेम प्रसंग के रूप में चित्रित करना चाहती है। वहीं, मृतका की भाभी ने हाथरस के डीएम का टेस्ट कराने की माँग तक की। उन्होंने कहा कि डीएम का टेस्ट क्यों नहीं करवाया जा रहा है?

हाथरस के बुलगढी गाँव में युवती की मौत की जाँच कर रही केंद्रीय जाँच ब्यूरो (सीबीआई) की टीम ने मृतका के परिवार के सदस्यों से सच्चाई जानने के लिए पॉलीग्राफ टेस्ट कराने को कहा है। मृतका के भाई और माँ से इस संबंध में घटनास्थल पर पूछताछ की गई। बताया जा रहा है कि उन्होंने सच और झूठ का पता लगाने के लिए किए जाने वाले इस पॉलीग्राफ टेस्ट को कराने से इनकार कर दिया। 

सीबीआई द्वारा पीड़िता के भाई से कई बार पूछताछ किए जाने के बाद पता चला है कि मुख्य आरोपित संदीप पीड़िता के भाई द्वारा इस्तेमाल किए गए मोबाइल फोन के माध्यम से लगातार संपर्क में था। सीबीआई ने उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन उन्होंने कथित तौर पर पॉलीग्राफ टेस्ट कराने से इनकार कर दिया। हालाँकि पीड़िता के भाई की आवाज का सैंपल लिया गया, और अब एजेंसी द्वारा इसकी ऑडियो जाँच की जाएगी।

सीबीआई के सवालों के बारे में मृतका के भाई ने बताया कि सीबीआई ने उनसे सच झूठ का पता लगाने (पॉलीग्राफ टेस्ट) के लिए टेस्ट कराने को कहा। इस पर उसने अनभिज्ञता जाहिर करते हुए इंकार कर दिया। ऑडियो टेस्ट की बात कहने पर उसने (भाई ने) हाँ कर दी। पीड़िता के भाई का कहना है कि जेल में बंद लोगों से पूछताछ की जाए, उन्हें आराम से जेल में बिठा रखा है। मृतका के भाई ने कहा कि उनसे पूछा जाए कि उसकी बहन को कैसे मारा।

मृतका के बड़े भाई ने आरोप लगाया है कि सीबीआई पूरे मामले को प्रेम प्रसंग के रूप में चित्रित करना चाहती है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी दावा किया है कि जाँच एजेंसी ने स्वीकार किया कि मामला हल होने के कगार पर है। इस बीच मृतका की भाभी ने हाथरस के डीएम का टेस्ट कराने की माँग तक की। उन्होंने कहा कि डीएम का टेस्ट क्यों नहीं करवाया जा रहा है?

CBI ने रीक्रिएट किया क्राइम सीन

सीबीआई 12 अक्टूबर से हाथरस की घटना की जाँच कर रही है। जाँच एजेंसी ने उच्च न्यायालय से तीखी टिप्पणी के बाद अपनी जाँच तेज कर दी है। डीएसपी सीमा पाहुजा के नेतृत्व में 15 सदस्यों की एक टीम शुक्रवार (नवंबर 6, 2020) दोपहर करीब 12 बजे फोरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल पर पहुँची और क्राइम सीन को रीक्रिएट किया

पीड़ित की माँ और भाई को CRPF के संरक्षण में घटनास्थल पर लाया गया। टीम ने पीड़ित के भाई को घटना स्थल से लगभग 100 मीटर की दूरी पर मैदान के पिछले हिस्से पर बैठा दिया, जबकि सीबीआई की दूसरी टीम पीड़ित की माँ के साथ खेत में पहुँची। इसके बाद, पीड़िता की माँ से पूछताछ की गई।

CBI की टीम ने लगभग 20 मिनट तक माँ से पूछताछ की जिसके बाद पीड़िता के भाई को पूछताछ के लिए बुलाया गया। दोनों से अलग-अलग पूछताछ करने के बाद सीबीआई सच्चाई तक पहुँचने की कोशिश कर रही है।

हाथरस के पीड़ित परिवार के कई चेहरे हैं

हाथरस मामले का एक महत्वपूर्ण पहलू लड़की के परिवार की लगातार बदलती स्थिति रही है। शुरुआत में, पीड़ित परिवार ने केवल हमले का आरोप लगाया था, और बलात्कार का आरोप एक हफ्ते बाद जोड़ा गया। इससे मामले को लेकर बहुत भ्रम पैदा हो गया था, क्योंकि अब तक उपलब्ध चिकित्सा और फॉरेंसिक सबूत बलात्कार के आरोप की पुष्टि नहीं करते हैं। इसी तरह, मामले में जाँच पर भी परिवार का रुख भी बदलता दिख रहा है, खासकर पीड़ित के भाई द्वारा दिया गया बयान अविश्वसनीय बना हुआ है।

राज्य सरकार द्वारा यह मामला सीबीआई को सौंप दिए जाने के बाद मृतका के भाई ने कहा कि परिवार ने इसकी माँग नहीं की। रिपोर्ट्स के अनुसार, पीड़िता के भाई ने कहा कि उन्होंने सीबीआई जाँच की माँग नहीं की क्योंकि एसआईटी जाँच पहले से ही चल रही है। अब परिवार सुप्रीम कोर्ट के तहत न्यायिक जाँच की माँग कर रहा है।

परिवार ने नार्को टेस्ट कराने से इनकार किया था

हाथरस में पीड़िता के परिजनों ने अभी पॉलीग्राफ टेस्ट कराने से ही इनकार नहीं किया है। इससे पहले, उन्होंने नार्को टेस्ट लेने से भी इनकार कर दिया था। एसआईटी जाँच की शुरुआती रिपोर्ट में पीड़ित परिवार के नार्को टेस्ट की सिफारिश की गई है। हालाँकि, पीड़िता की माँ ने सिफारिश को खारिज कर दिया है, यह कहते हुए कि उसका परिवार नार्को टेस्ट से नहीं गुजरेगा।

यहाँ तक कि जब समाचार चैनल ‘आज तक’ के रिपोर्टर ने मृतका की दुखी माँ से कहा था कि नार्को टेस्ट से छिपे हुए मामले के तथ्यों का पता चल जाएगा, तो माँ ने जवाब दिया था, “हमें नहीं पता कि नार्को टेस्ट क्या है और इसलिए हम इसे नहीं करवाना चाहते हैं।”

हाथरस कांड

14 सितंबर को, एक 19 वर्षीय लड़की का गला घोंटा गया था, और बाद में उसने 29 सितंबर को अस्पताल में दम तोड़ दिया था। आरोपित के खिलाफ शुरू में हत्या के आरोप लगे थे। हालाँकि, बाद में बलात्कार के आरोप भी शामिल किए गए थे।

उस समय हाथरस मामला पॉलिटिकल ड्रामा और मीडिया प्रोपगेंडा का आधार बन गया था। कॉन्ग्रेस नेताओं राहुल और प्रियंका गाँधी, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद, टीएमसी नेता डेरेक ओ ब्रायन, और कई अन्य लोग राज्य में योगी आदित्यनाथ सरकार के खिलाफ हमला करने के लिए परिवार से मिलने हाथरस गए थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

टेरर फंडिंग वाले विदेशी संगठनों से AIUDF के अजमल फाउंडेशन को मिले करोड़ों, असम में कॉन्ग्रेस की है साथी

LRO ने तुर्की, फिलिस्तीन और ब्रिटेन के उन इस्लामी आतंकी समूहों के नाम का खुलासा किया है, जिनसे अजमल फाउंडेशन को फंड मिला है।

हिजाब वाली पहली मॉडल का इस्लाम पर करियर कुर्बान, कहा- डेनिम पहनने के बाद खूब रोई; नमाज भी कई बार छोड़ी

23 वर्ष की हिजाब वाली मॉडल हलीमा अदन ने इस्लाम के लिए फैशन इंडस्ट्री को अलविदा कहने का फैसला किया है।

राहुल गाँधी की क्षमता पर शरद पवार ने फिर उठाए सवाल, कहा- उनमें निरंतरता की कमी, पर ओबामा को नहीं कहना चाहिए था

शरद पवार ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा है कि उनमें 'निरंतरता' की कमी लगती है।

प्रचलित ख़बरें

जब नक्सलियों की ‘क्रांति के मार्ग’ में डिल्डो अपनी जगह बनाने लगता है तब हथियारों के साथ वाइब्रेटर भी पकड़ा जाता है

एक संघी ने कहा, "डिल्डो मिलने का मतलब वामपंथी न तो क्रांति कर पा रहे न वामपंथनों को संतुष्ट। कामपंथियों के बजाय रबर-यंत्र चुनने पर वामपंथनों को सलाम!"

‘ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ’: कंगना और दिलजीत दोसांझ में ट्विटर पर छिड़ी जंग

कंगना ने दिलजीत को पालतू कहा, जिस पर दिलजीत ने कंगना से पूछा कि अगर काम करने से पालतू बनते हैं तो मालिकों की लिस्ट बहुत लंबी हो जाएगी।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

घर के बहाने जुबैर साथ ले गया, जावेद ने नाबालिग राहुल को चाकू से मार डाला: देखें हत्या का दिल दहला देने वाला वीडियो

घटना के वीडियो साफ़ देखा जा सकता है कि जावेद पूरी निर्दयता से नाबालिग लड़के पर धारदार हथियार से लगातार कई वार करता है। जिसकी वजह से नाबालिग लड़के की मौके पर ही मौत हो गई।

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

PFI के औरंगाबाद कार्यालय में छापा: कट्टरपंथी भीड़ ने ED अधिकारियों को धमकाया, लगे ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे

इस वीडियो में मौजूद लोगों को ‘अल्लाह-हू-अकबर’ का नारा लगाते हुए भी सुना जा सकता है। इसी बीच एक व्यक्ति मीडिया वालों से बात करते हुए मोदी सरकार पर आपत्तिजनक टिप्पणी करता है और कहता है कि हम रास्ते जाम कर सकते हैं।

किसान संगठनों का 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान, दिल्ली के सड़कों को ब्लॉक करने की धमकी भी दी

प्रदर्शन कर रहे किसान समूह ने ऐलान किया है कि वे 5 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूँकेंगे, 7 दिसंबर को अवॉर्ड वापसी और 8 दिसंबर को भारत बंद करेंगे।

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

TV पर कंडोम और ‘लव ड्रग्स’ के विज्ञापन पॉर्न फिल्मों जैसे: मद्रास HC ने अश्लील एड को प्रसारित करने से किया मना

टीवी चैनलों पर अश्लील और आपत्तिजनक विज्ञापन दिखाने के मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेश पास किया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

फ्रांस में ED ने विजय माल्या की 1.6 मिलियन यूरो की संपत्ति जब्त की, किंगफिशर के अकाउंट से भेजा था पैसा

ED ने भगोड़े विजय माल्या के ख़िलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए फ्रांस में उसकी 1.6 मिलियन यूरो की प्रॉपर्टी जब्त की है।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

‘हमने MP और शाजापुर को शाहीन बाग बना दिया’: जमानत देते हुए अनवर से हाईकोर्ट ने कहा- जाकर काउंसलिंग करवाओ

सीएए-एनआरसी को लेकर भड़काऊ मैसेज भेजने वाले अनवर को बेल देते हुए मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने काउंसलिंग का आदेश दिया है।

भारत ने कनाडा के उच्चायुक्त को किया तलब, ‘किसानों के प्रदर्शन’ पर जस्टिन ट्रूडो ने की थी बयानबाजी

कनाडा के उच्चायुक्त को तलब कर भारत ने जस्टिन ट्रूडो और वहाँ के अन्य नेताओं की टिप्पणी को देश के आंतरिक मामलों में "अस्वीकार्य हस्तक्षेप" के समान बताया है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

‘विरोध-प्रदर्शन से कोरोना भयावह होने का खतरा’: दिल्ली बॉर्डर से प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

कोविड 19 महामारी के ख़तरे का हवाला देते हुए दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र की सीमा के नज़दीक से किसानों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,533FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe