Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजसड़कों में कारों की कई किलोमीटर लंबी कतार, सारे होटल फुल: क्रिसमस और नए...

सड़कों में कारों की कई किलोमीटर लंबी कतार, सारे होटल फुल: क्रिसमस और नए साल के जश्न पर भारी पहाड़ों की तरफ भागने वाली भीड़, मसूरी और मनाली के रास्ते जाम

सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम की स्थिति अटल टनल से होकर जाने वाले रास्ते पर है। इस बीच हिमाचल प्रदेश के ऊँचे इलाकों में हल्की बर्फबारी का ताजा दौर देखा गया।

क्रिसमस का जश्न मनाने के लिए भारी संख्या में लोग हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के पहाड़ों पर पहुँच रहे हैं। इससे इन राज्यों के प्रमुख पर्यटन स्थलों पर जगह-जगह जाम लग रहा है। हिमाचल प्रदेश के कुल्लू-मनाली, शिमला, धर्मशाला और उत्तराखंड के मसूरी, नैनीताल, देहरादून जैसे पर्यटन स्थलों पर क्रिसमस के मौके पर भारी भीड़ देखी जा रही है। इन स्थलों पर होटल, रेस्ट्रॉं और अन्य पर्यटन सुविधाओं की बुकिंग पहले से ही फुल हो चुकी है।

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू-मनाली के सोलंग घाटी, मनाली, डलहौजी और शिमला में क्रिसमस के मौके पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों में स्थानीय लोग और पर्यटक दोनों शामिल हो रहे हैं। वहीं, उत्तराखंड के मसूरी, नैनीताल और देहरादून में भी क्रिसमस के मौके पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इन कार्यक्रमों में क्रिसमस की झाँकियाँ, सांस्कृतिक कार्यक्रम और संगीत कार्यक्रम शामिल हैं।

सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियोज की भरमार आ गई है जहाँ कई किलोमीटर तक गाड़ियों का जाम लगा है और ट्रैफिक रेंगते हुए चल रहा है। मनाली हिमाचल प्रदेश का एक पसंदीदा पर्यटन स्थल है। हर साल यहाँ बर्फबारी का आनंद लेने और अपनी लंबी छुट्टियाँ बिताने के लिए देश भर से लोग बड़ी संख्या में आते हैं। इस समय के दौरान इस क्षेत्र में आमतौर पर हर साल ट्रैफिक जाम की खबरें आती हैं।

सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम की स्थिति अटल टनल से होकर जाने वाले रास्ते पर है। इस बीच हिमाचल प्रदेश के ऊँचे इलाकों में शनिवार को हल्की बर्फबारी का ताजा दौर देखा गया। यह तब हुआ जब मौसम विभाग ने 24 दिसंबर से हिमालयी राज्य में शुष्क मौसम की भविष्यवाणी की है।

क्रिसमस के मौके पर पहाड़ों पर पहुँची भीड़ से स्थानीय लोगों को काफी परेशानी हो रही है। सड़कों पर जाम लगने से लोगों को आने-जाने में काफी परेशानी हो रही है। बड़ी संख्या में पर्यटकों के पहुँचने से जाम की स्थिति भी बनी हुई है। सुबह से शाम तक वाहन सड़कों पर रेंग रेंगकर चलते नजर आए। पुलिस और प्रशासन की ओर से भीड़ को नियंत्रित करने के लिए कई इंतजाम किए गए हैं। लेकिन, भीड़ को नियंत्रित करना मुश्किल हो रहा है। क्रिसमस के मौके पर पहाड़ों पर पहुँची भीड़ से स्थानीय अर्थव्यवस्था को भी काफी फायदा हो रहा है। पर्यटन से स्थानीय लोगों को काफी आय हो रही है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -