Wednesday, February 8, 2023
Homeदेश-समाजएक साथ नमाज पढ़ने से रोकने पर बौखलाई मुस्लिम भीड़ ने मस्जिद के केयरटेकर...

एक साथ नमाज पढ़ने से रोकने पर बौखलाई मुस्लिम भीड़ ने मस्जिद के केयरटेकर को ही पीट-पीटकर किया घायल

शनिवार रात करीब 8 बजे वह मस्जिद में नमाज अदा करने गए थे। लेकिन वहाँ पहले से ही मोहल्ले के 20 से 30 लोग नमाज पढ़ने के लिए आए हुए थे। अब्दुल ने कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों के तहत पाँच से अधिक लोगों को एक साथ नमाज पढ़ाने से इनकार कर दिया। तभी....

देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर शासन से लेकर प्रशासन तक सभी चिंतित हैं। इसी बीच कोविड नियमों की धज्जियाँ उड़ाने वालों को जब एक साथ नमाज पढ़ने से रोका गया तो उन्होंने मारपीट की घटना को अंजाम दिया। अमर उजाला में प्रकाशित खबर के ​मुताबिक, यह घटना शनिवार (24 अप्रैल 2021) हिमाचल प्रदेश के पांवटा साहिब के अंतर्गत देवीनगर की एक मस्जिद की है।

अब्दुल अलीम निवासी वॉर्ड नंबर 9 ने पुलिस थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। शिकायतकर्ता अब्दुल ने कहा कि वह पिछले करीब पाँच साल से मदीना मस्जिद की देखरेख कर रहे हैं। आजकल रमजान का महीना चल रहा है। ऐसे में वह हर रोज मस्जिद की देखरेख के लिए जाते हैं।

शनिवार रात करीब 8 बजे वह मस्जिद में नमाज अदा करने गए थे। लेकिन वहाँ पहले से ही मोहल्ले के 20 से 30 लोग नमाज पढ़ने के लिए आए हुए थे। अब्दुल ने कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों के तहत पाँच से अधिक लोगों को एक साथ नमाज पढ़ाने से इनकार कर दिया।

इसको लेकर अब्दुल और मस्जिद में आए लोगों में बहस शुरू हो गई। वहाँ मौजूद कुछ लोगों ने उन्हें डंडों से पीटकर जमीन पर गिरा दिया। इस दौरान जब उनका बेटा अब्दुल हबीज उन्हें बचाने आया, तो उन लोगों ने उसे भी डंडों से मारकर घायल कर दिया। अब्दुल और उनके बेटे का अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं डीएसपी बीर बहादुर ने बताया कि पुलिस मामला दर्ज जाँच में जुट गई है।

बता दें कि कोरोना की बेकाबू रफ्तार पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने तमाम धार्मिक जगहों पर लोगों को भीड़ जुटाने के लिए मना किया हुआ है। लेकिन कोविड-19 महामारी को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का सही ढंग से पालन नहीं होने के कारण देश भर में कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। हिमाचल प्रदेश में 26 अप्रैल को बीते 24 घंटों में कोरोना के 1,692 नए मामले सामने आए। 916 लोग डिस्चार्ज हुए और 27 लोगों की मृत्यु दर्ज की गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफताब ने श्रद्धा की हड्डियों को पीस कर बनाया पाउडर, जला डाला चेहरा, डस्टबिन में डाल दी थी आँतें, ₹2000 की ब्रीफकेस में पैक...

आफताब ने पुलिस को यह भी बताया है कि उसने जिस दिन श्रद्धा की हत्या की थी। उसी दिन श्रद्धा के अकांउट से अपने अकाउंट में 54000 रुपए भेजे थे।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,326FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe