Saturday, May 18, 2024
Homeदेश-समाज'मैं दाढ़ी रखता हूँ, जरा तो ख्याल करती': मोबाइल पर फकीर के बेटे से...

‘मैं दाढ़ी रखता हूँ, जरा तो ख्याल करती’: मोबाइल पर फकीर के बेटे से बात करती थी 18 साल की सहनुमा, अब्बा शाहिद ने ही रेत दिया गला

एसपी सिटी सत्यनारायण प्रजापत ने कहा कि मृतका की माँ ने बताया है कि प्रेम प्रसंग चल रहा था। पुलिस तथ्य जुटा रही है, इसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में झूठी शान की खातिर शाहिद नाम के व्यक्ति ने अपनी 18 साल की बेटी की गला रेतकर हत्या कर दी। वो हत्या के बाद फरार हो गया था, लेकिन पुलिस आने के बाद वापस अपने घर पहुँचा और आराम से पुलिस वालों के सामने सरेंडर कर दिया। शाहिद ने पुलिस वालों के सामने अपनी बेटी की हत्या की बात स्वीकार की है। शाहिद की पुलिस वालों से बातचीत सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नई मंडी कोतवाली इलाके के कूकड़ा गाँव के रहने वाले शाहिद ने अपनी बेटी सहनुमा (18) की हत्या कर दी। सहनुमा का शव फर्श पर पड़ा देख परिजनों के होश उड़ गए। सहनुमा की बेरहमी से हत्या की गई थी। पुलिस ने छानबीन के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया।

पुलिस मौके पर पहुँचकर पूछताछ कर ही रही थी, तभी शाहिद अपने घर पहुँचा और पुलिस वालों के सामने बेटी की हत्या की बात कबूलते हुए आत्मसमर्पण कर दिया। लोगों के बीच खड़े आरोपित शाहिद ने कहा कि किसी का कोई कसूर नहीं है, मैने हत्या की है। बेटी को बार-बार इज्जत की दुहाई दे रहा था। मैं दाढ़ी रखता हूँ, जरा तो ख्याल करती। तीन दिन से बेटी लगातार मोबाइल पर बात कर रही थी।

शाहिद ने बताया कि वो पल्लेदारी का काम करता है। उसकी बेटी सहनुमा इस्सेपुर गाँव के फकीर के लड़के से बेटी बात करती थी। बेटी को उससे बात करने से मना किया गया था, लेकिन वो नहीं मानी। ऐसे में उसने उसकी हत्या कर दी।

मौके पर नई मंडी कोतवाली प्रभारी निरीक्षक बबलू कुमार अपनी टीम के साथ पहुँचे। उन्होंने मौका-मुआयना करते हुए जाँच पड़ताल की और शव को कब्जे लकर पंचनामा भरते हुए पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। आरोपित शाहिद के 7 बच्चे थे, जिसमें 4 बेटे और 3 बेटियाँ थी। अब 6 बच्चे बचे हैं। एसपी सिटी सत्यनारायण प्रजापत ने कहा कि मृतका की माँ ने बताया है कि प्रेम प्रसंग चल रहा था। पुलिस तथ्य जुटा रही है, इसी के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसे वामपंथन रोमिला थापर ने ‘इस्लामी कला’ से जोड़ा, उस मंदिर को तोड़ इब्राहिम शर्की ने बनवाई थी मस्जिद: जानिए अटाला माता मंदिर लेने...

अटाला मस्जिद का निर्माण अटाला माता के मंदिर पर ही हुआ है। इसकी पुष्टि तमाम विद्वानों की पुस्तकें, मौजूदा सबूत भी करते हैं।

रोफिकुल इस्लाम जैसे दलाल कराते हैं भारत में घुसपैठ, फिर भारतीय रेल में सवार हो फैल जाते हैं बांग्लादेशी-रोहिंग्या: 16 महीने में अकेले त्रिपुरा...

त्रिपुरा के अगरतला रेलवे स्टेशन से फिर बांग्लादेशी घुसपैठिए पकड़े गए। ये ट्रेन में सवार होकर चेन्नई जाने की फिराक में थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -