Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजदूसरी शादी करना चाहता था रियाज, नसरीन नहीं मानी तो हाथ-पैर बाँध सिर कर...

दूसरी शादी करना चाहता था रियाज, नसरीन नहीं मानी तो हाथ-पैर बाँध सिर कर दिया कलम

रियाज पिछले तीन साल से सऊदी अरब में रह रहा है। नसरीन का ससुरालीजनों और पति से लगातार विवाद बना रहता था। इसके कारण वह मायके में रह रही थी। रियाज अपनी पत्नी को तलाक दे दूसरी शादी करना चाहता था। लेकिन नसरीन राजी नहीं थी। इसके बाद रियाज ने अपने भाइयों के साथ मिल नसरीन के कत्ल की योजना बनाई।

बीते दिनों एक सिर कटा शव भारत-नेपाल सीमा स्थित यूपी के बहराइच जिले के रुपईडीहा थाना क्षेत्र के अडगोड़वा में गेहूॅं के खेत से मिला था। शनिवार को पुलिस ने इस मामले की गुत्थी सुलझा ली। पुलिस के अनुसार तलाक नहीं देने पर विदेश में रह रहे पति ने ही महिला की हत्या करवाई थी। मृतका के पति समेत पॉंच लोगों पर मामला दर्ज किया गया है। इनमें से तीन गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

मृतका की पहचान फखरपुर थाना क्षेत्र के औसानपुरवा निवासी इशहाक की बेटी नसरीन के रूप में हुई है। एसपी विपिन कुमार मिश्र ने मीडिया को बताया कि इशहाक ने अपनी बेटी नसरीन की शादी रिसिया थाना क्षेत्र के इटकौरी निवासी रियाज अली के साथ की थी। रियाज पिछले तीन साल से सऊदी अरब में रह रहा है। नसरीन का ससुरालीजनों और पति से लगातार विवाद बना रहता था। इसके कारण वह मायके में रह रही थी। रियाज अपनी पत्नी को तलाक दे दूसरी शादी करना चाहता था। लेकिन नसरीन राजी नहीं थी। इसके बाद रियाज ने अपने भाइयों के साथ मिल नसरीन के कत्ल की योजना बनाई।

उसने मुंबई में रह रहे अपने भाई मेराज और फुफेरे भाई नन्हे को गॉंव भेजा। ससुराल ले जाने के बहाने देवर मेराज ने नसरीन को बाइक पर बिठाया। लेकिन घर न ले जाकर उसे अडगोड़वा के एक खेत में ले गया। वहॉं पहले से ही उसके दो अन्य साथी मौजूद थे। यहीं खेत में तीनों ने नसरीन के हाथ-पैर बॉंध सिर कलम कर दिया। इसके बाद सिर सरयू नदी में फेंक दिया। पुलिस ने बताया कि मृतका के पिता की तहरीर पर सादिक, मेराज, रियाज, सायरा व नन्हे उर्फ सलमान पर मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने अभियुक्तों की निशानदेही पर कत्ल में इस्तेमाल हथियार भी बरामद कर लिया। नन्हे, सादिक और मिराज की गिरफ़्तारी हो गई है। नसरीन की सास सायरा फरार है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पश्चिम बंगाल में 2010 के बाद जारी हुए हैं जितने भी OBC सर्टिफिकेट, सभी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने कर दिया रद्द : ममता...

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार 22 मई 2024 को पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को बड़ा झटका दिया। हाईकोर्ट ने 2010 के बाद से अब तक जारी किए गए करीब 5 लाख ओबीसी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए हैं।

महाभारत, चाणक्य, मराठा, संत तिरुवल्लुवर… सबसे सीखेगी भारतीय सेना, प्राचीन ज्ञान से समृद्ध होगा भारत का रक्षा क्षेत्र: जानिए क्या है ‘प्रोजेक्ट उद्भव’

न सिर्फ वेदों-पुराणों, बल्कि कामंदकीय नीतिसार और तमिल संत तिरुवल्लुवर के तिरुक्कुरल का भी अध्ययन किया जाएगा। भारतीय जवान सीखेंगे रणनीतियाँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -