Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजपंजाब में किसानों के आंदोलन के कारण रेलवे को 2,220 करोड़ रुपए का भारी...

पंजाब में किसानों के आंदोलन के कारण रेलवे को 2,220 करोड़ रुपए का भारी नुकसान

भारतीय रेलवे को अकेले पंजाब से रोजाना 14.85 करोड़ रुपए का औसत राजस्व प्राप्त होता है। केंद्र के कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा जारी विरोध के कारण रेलवे को यात्री राजस्व में 67 करोड़ रुपए सहित कुल 2,220 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब में पिछले 55 दिनों से जारी किसानों के आंदोलन की वजह से जहाँ स्थानीय उद्योग और व्यापार प्रभावित हुआ है, वहीं भारतीय रेलवे को भारी चपत लगी है। किसानों का आंदोलन पटरियों पर होने की वजह से 2,352 पैसेंजर ट्रेनें या तो रद कर दी गई या उनका रास्ता बदल दिया गया। पंजाब जाने के लिए माल से भरे 230 रैक राज्य के बाहर इधर-उधर खड़े हैं। रेलवे सूत्रों के मुताबिक, पैसेंजर और मालगाड़ियों का संचालन बाधित होने से रेलवे को अब तक कुल 2,220 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है।

पंजाब में रोजाना 40 रैक की लोडिंग होती है। भारतीय रेलवे को अकेले पंजाब से रोजाना 14.85 करोड़ रुपए का औसत राजस्व प्राप्त होता है। मगर उत्तरी रेलवे को मालगाड़ियों में लोडिंग नहीं होने के कारण नुकसान झेलना पड़ रहा है। केंद्र के कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा जारी विरोध के कारण रेलवे को यात्री राजस्व में 67 करोड़ रुपए सहित कुल 2,220 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

मालगाड़ियों की आवाजाही भी पूरी तरह ठप है। प्रतिदिन औसतन 30 रैक का नुकसान सीधे तौर पर होता है, जिनकी लोडिंग पंजाब के विभिन्न स्टेशनों पर की जाती है। बाहर से पंजाब में रोजाना 40 रैक आते हैं, जो नहीं पहुँच पा रहे हैं। इस दौरान कुल 3,850 मालगाड़ियों की लोडिंग नहीं हो सकी है।

आंदोलन के कारण मालगाड़ियों के 3850 रैक पर लदान नहीं हो सकी। आंदोलन के कारण पंजाब के बाहर 230 रैक फँसे रहे। इनमें से 78 रैक कोयला, 34 रैक खाद, आठ रैक सीमेंट, आठ रैक पेट्रोलियम पदार्थो तथा 102 रैक कंटेनर, स्टील एवं अन्य सामग्री के हैं। इसके साथ ही आंदोलन के मद्देनजर, 2352 यात्री ट्रेनों को रद्द करना पड़ा या उनका मार्ग परिवर्तन करना पड़ा।

गौरतलब है कि इससे पहले खबर आई कि पंजाब में ‘रेल रोको’ आंदोलन के कारण भारतीय रेलवे को राजस्व में लगभग 500 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। ऑल इंडस्ट्रीज एंड ट्रेड फोरम के अध्यक्ष बद्रीश जिंदल ने कहा था कि राज्य के कारोबारियों को कुल मिलाकर करीब 5000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ, क्योंकि ‘किसानों’ द्वारा रेल लाइन को बंद करने का अभियान जारी है। 

 इस्पात उद्योग से लेकर आवश्यक वस्तुओं तक, पंजाब में लगभग हर चीज की कमी है। पंजाब सरकार की निष्क्रियता के कारण, बिजली स्टेशनों को बिजली उत्पादन के लिए कोयला नहीं मिल पा रहा है, जिससे राज्य भर में बिजली की भारी कमी हो रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

‘5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष’: PM मोदी ने हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन और 370 हटाने का किया जिक्र

हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन, आर्टिकल 370 हटाने का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त को बेहद खास बताया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,121FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe