Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाजतमिलनाडु: कोयंबटूर में हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त किए जाने का विरोध करने पर हिन्दू...

तमिलनाडु: कोयंबटूर में हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त किए जाने का विरोध करने पर हिन्दू एक्टिविस्ट और IMK प्रमुख अर्जुन संपत गिरफ्तार

तमिलनाडु के कोयंबटूर कॉर्पोरेशन ने मंगलवार (जुलाई 13, 2021) को शहर के मुथन्ननकुलम झील के उत्तरी बाँध पर मौजूद 7 मंदिरों को विकास के नाम पर ध्वस्त कर दिया था।

हिन्दू एक्टिविस्ट और इंदु मक्कल काची (IMK) के प्रमुख अर्जुन संपत को तमिलनाडु के कोयंबटूर में गिरफ्तार कर लिया गया है। संपत मुथन्ननकुलम झील के किनारे स्थित हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त किए जाने के विरोध में कोयंबटूर कॉर्पोरेशन और तमिलनाडु सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। शुक्रवार (23 जुलाई 2021) को IMK ने ट्वीट करके संपत की गिरफ्तारी की सूचना दी।

IMK ने अपने ट्वीट में कहा कि अर्जुन संपत हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त किए जाने वाली जगह पर शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे, तभी उन्हें कोयंबटूर पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया। IMK ने संपत को रिहा करने और कोयंबटूर कॉर्पोरेशन से मंदिरों के पुनर्निर्माण की माँग की है। इससे पहले IMK प्रमुख संपत ने हिन्दू भक्तों से अनुरोध किया था कि वे ध्वस्त किए गए मंदिरों के स्थान पर 23 जुलाई 2021 को शांतिपूर्वक प्रदर्शन करें। उन्होंने यह भी कहा था कि शुक्रवार को उस जगह पर पूजा की जाएगी।

ज्ञात हो कि तमिलनाडु के कोयंबटूर कॉर्पोरेशन ने मंगलवार (जुलाई 13, 2021) को शहर के मुथन्ननकुलम झील के उत्तरी बाँध पर मौजूद 7 मंदिरों को विकास के नाम पर ध्वस्त कर दिया था। प्रशासन ने कथित तौर पर यह फैसला स्मार्ट सिटी मिशन के तहत झील के कायाकल्प और विकास के लिए लिया। द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, कॉर्पोरेशन के अधिकारियों ने अम्मन कोविल, बन्नारी अम्मन कोविल, अंगला परमेश्वरी, करुपरायण कोविल, मुनीस्वरन कोविल और कुछ अन्य मंदिरों को ध्वस्त करने के लिए अर्थमूवर और भारी मशीनरी का इस्तेमाल किया था।

बताया जा रहा है कि कार्रवाई के दौरान मौके पर भारी पुलिस बल तैनात था, जिसका काम विरोध करने वाले लोगों पर एक्शन लेना था। कुछ रिपोर्ट्स बताती हैं कि इस दौरान 150 लोगों को विरोध करने पर हिरासत में लिया गया, जबकि कुछ अन्य लोगों का कहना है कि 250 लोगों को पकड़ा गया। वहीं, प्रशासन ने इस कदम को उठाने से पहले साल 2020 में झील के आसपास अतिक्रमण का हवाला देते हुए कार्रवाई की थी। उस समय करीब 2,400 परिवारों को वहाँ से हटाकर उनके घर ध्वस्त किए गए थे। इन सभी लोगों को स्लम क्लीयरेंस बोर्ड परियोजनाओं में वैकल्पिक आवास प्रदान किया गया था।

इससे पहले हिंदू मंदिरों को ध्वस्त करने के बाद कई भक्तों और हिंदू कार्यकर्ताओं ने इसके विरोध में सड़कों पर प्रदर्शन किया था। रिपोर्ट के अनुसार, हिंदू मुन्नानी के हिंदू कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार (जुलाई 16, 2021) को कोयंबटूर के टाउन हॉल में कॉर्पोरेशन कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया था और उसके मंदिर विध्वंस अभियान की निंदा की थी।

तब हिंदू मुन्नानी के प्रदेश अध्यक्ष कदेश्वर सुब्रमण्यम ने कहा था, “जब पीवी नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री थे तो संसद में एक अधिनियम पारित किया गया था, जिसमें 75 वर्ष से अधिक पुराने मंदिरों को ध्वस्त करने पर रोक लगाई गई थी, लेकिन कोयंबटूर निगम ने सदियों पुराने मंदिरों को ध्वस्त कर दिया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,642FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe